Submit your post

Follow Us

मुंबई के मकान मालिक ने लिखा- मुस्लिम और पालतू जानवर अलाउड नहीं हैं

1947 से पहले की बात है. 200 साल से भी ज्यादा वक्त तक अंग्रेज़ों का गुलाम रहा देश. तब ट्रेनों के फर्स्ट क्लास कम्पार्टमेंट में, होटलों में भारतीयों का जाना अलाउड नहीं था. साफ शब्दों में लिखा होता था- Dogs and Indians not allowed. माने कुत्तों और भारतीयों का प्रवेश निषेध.

होटलों, दुकानों के आगे इसी तरह के नोटिस 19वीं सदी में कई जगह लगे मिलते थे. उनमें लिखा होता था- Blacks and Dogs not allowed. अश्वेतों और कुत्तों का अंदर आना मना है.

लेकिन हम अभी ये क्यों बता रहे हैं?

क्योंकि एक फेसबुक पोस्ट वायरल है. इसमें बताया गया है कि किराए के लिए एक घर उपलब्ध है. मुंबई के खार इलाके में ये घर एक लाख 40 हज़ार रुपये में अवेलेबल है. तस्वीरों में बड़ा सुंदर भी लग रहा है. इसमें पार्किंग फैसिलिटी भी है. बस एक दिक्कत है. कैसी दिक्कत?

इस ऐड में लिखा है कि ये घर मुस्लिमों और पेट्स यानी पालतू जानवरों के लिए अवेलेबल नहीं है. इस ऐड का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए पत्रकार राणा अयूब ने लिखा-

“मुस्लिम और पालतू जानवर अलाउड नहीं हैं. ये मुंबई के सबसे पॉश इलाकों में से एक है, बांद्रा. ये 20वीं सदी का भारत है. कोई मुझे बताए कि हम साम्प्रदायिक देश नहीं हैं, कह दो कि ये रंगभेद नहीं है.”

एक और ट्वीट में राणा ने लिखा कि उनकी हाउसिंग सोसायटी ने नफरतभरे ट्वीट करने वाले सिक्योरिटी गार्ड को काम से निकाल दिया. लेकिन महाराष्ट्र में इस तरह की नफरत कैसे बर्दाश्त की जा रही है? राणा ने अपने ट्वीट में महाराष्ट्र के गृहमंत्री अनिल देशमुख, मलाड वेस्ट से विधायक असलम शेख और नवी मुंबई पुलिस को भी टैग किया है.

राणा के इस ट्वीट से कई लोग सहमत नज़र आए. वैष्णा रॉय नाम की एक यूज़र ने लिखा कि वो चेन्नई में घर ढूंढ रही हैं. उनसे सबसे ज्यादा जो सवाल पूछा जाता है, वो ये है कि वो मुस्लिम तो नहीं हैं. उन्होंने लिखा-

‘अगर मैं मुस्लिम होती, तो कई घर मेरे लिए अवेलेबल नहीं होते. ब्रोकर कहते हैं- सॉरी मैडम, मकान मालिक कहते हैं, इसलिए पूछना पड़ता है.’

वहीं कई लोग कुछ और पोस्ट्स निकाल लाए, जिनमें केवल मुस्लिमों के लिए घर उपलब्ध होने की बात लिखी गई थी.

कुछ लोगों ने इस पर लिखा कि ये मकान मालिक का फैसला है कि वो अपना घर किसे और क्यों नहीं देना चाहता. इसे बेवजह मुद्दा नहीं बनाना चाहिए.

वहीं, इस मैटर पर ‘लल्लनटॉप’ में हमारे साथी फैसल ने अपना अनुभव शेयर किया. उन्होंने बताया-

“कई बार ऐसा हुआ कि हम घर देखने जाते हैं. मकान मालिक घर दिखाता है. अच्छे से. फिर नाम पूछकर इनकार कर देता है. इससे बुरा लगता है. इसके चलते अब हम केवल ब्रोकर के जरिए ही घर लेते हैं. ये कहकर कि जो भी घर दिखाएं, उसके मकान मालिक से पहले ही साफ-साफ बात कर लें, ताकि बाद में दिक्कत न हो.”


 

बिहार चुनाव: क्या भागलपुरिया चचा नरेंद्र मोदी की तारीफ में टांग खिचांई कर गए?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोयला घोटालाः अटल सरकार में मंत्री रहे दिलीप रे को तीन साल की जेल हो गई है

मामला 21 साल पुराना है.

क्या कहता है बिहार का पहला ओपिनियन पोल: NDA को मिलेगा बहुमत? नीतीश फिर बनेंगे सीएम?

लोकनीति और CSDS के ओपिनियन पोल की बड़ी बातें एक नजर में.

बिहार चुनाव में जितने उम्मीदवारों पर क्रिमिनल केस हैं, उससे ज्यादा तो करोड़पति हैं

आपराधिक छवि वालों की इतनी तादाद से साफ है कि दलों को लगता है, 'दाग' अच्छे हैं

बीजेपी विधायक ने कहा- अगर राहुल 'छेड़छाड़' वाली बात साबित कर दें, तो मैं इस्तीफा दे दूंगा

राहुल ने खबर शेयर की थी जिसमें लिखा था-बीजेपी विधायक रेप के आरोपी को थाने से छुड़ा ले गए.

बलिया गोलीकांड का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

एसटीएफ की टीम ने लखनऊ से पकड़ा. बलिया पुलिस को हैंडओवर करेगी.

हैदराबाद में भारी बारिश से सड़कों पर भरा पानी, परीक्षाएं टलीं, 11 लोगों की मौत

एनडीआरएफ की टीम मदद में जुटी. लोगों से घरों में रहने की अपील.

सीएम जगनमोहन ने सुप्रीम कोर्ट के जज एनवी रमना की शिकायत चीफ जस्टिस से क्यों कर दी?

ये पूरा मामला तो वाकई हैरान कर देने वाला है.

फारुख अब्दुल्ला बोले- चीन के सपोर्ट से दोबारा लागू किया जाएगा अनुच्छेद 370

कहा- आर्टिकल 370 को हटाया जाना चीन कभी स्वीकार नहीं करेगा.

पीएम मोदी ने जिस स्वामित्व योजना की शुरुआत की है, उसके बारे में जान लीजिए

2024 तक देश के 6.62 लाख गांवों तक सुविधा पहुंचाने का लक्ष्य है.

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने CJI को चिट्ठी लिखी, सुप्रीम कोर्ट के जज एनवी रमन्ना पर लगाए गंभीर आरोप

जस्टिस एनवी रमन्ना अगले संभावित चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया बन सकते हैं.