Submit your post

Follow Us

किस तारीख को आएगा अयोध्या पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला?

रामजन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद. इस पर सुप्रीम कोर्ट अपना फैसला सुनाने वाला है. सुप्रीम कोर्ट की 5 जजों की बेंच का फैसला आने वाला है. पर कब? ये सवाल सबके मन में तैर रहा है. तो इसके लिए कुछ तारीखें महत्वपूर्ण मानी जा रही हैं.

# पहली तो है 8 नवंबर. शुक्रवार. खबरें आ रहीं हैं कि जुमे की नमाज के बाद साढ़े तीन बजे फैसला आ सकता है.

#दूसरी तारीख हो सकती है गुरुपर्व यानी 12 नवंबर के बाद. यानी 13 से 16 नवंबर के बीच किसी भी दिन. ज्यादा संभावना 13 नवंबर या फिर 14 नवंबर को बाल दिवस पर फैसला आने की जताई जा रही है.

Ayodhya Banner Final
अयोध्या भूमि विवाद का पूरा सच, “दी लल्लनटॉप” पर.

कोर्ट चाहे तो 16 नवंबर को शनिवार के दिन भी फैसला सुना सकता है. उस दिन फायदा ये होगा कि सुप्रीम कोर्ट में छुट्टी होगी. ना वकीलों का जमावड़ा होगा ना ही मुवक्किलों का. सुरक्षा व्यवस्था भी आराम से हो जाएगी. देश भर में साप्ताहिक अवकाश होगा. यानी सड़कों पर ट्रैफिक भी कम और लोग घरों पर ही बैठे होंगे. कोई अफरातफरी नहीं.

कोर्ट का कैलेंडर क्या कहता है?

अब कोर्ट का कैलेंडर क्या कहता है. वो जान लेते हैं. कोर्ट के कैलेंडर के मुताबिक 7 और 8 नवंबर वर्किंग डे हैं. 9, 10, 11 और 12 नवंबर को छुट्टियां हैं. फिर कार्तिक पूर्णिमा के बाद कोर्ट 13, 14 और 15 नवंबर को ही खुलेगा. 16 नवंबर को शनिवार और 17 को रविवार है. चीफ जस्टिस रंजन गोगोई उसी दिन रिटायर हो जाएंगे. 18 नवंबर को जस्टिस शरद अरविंद बोबडे नये चीफ जस्टिस की शपथ ले लेंगे. तो चीफ जस्टिस गोगोई के पास अब 7, 8, 13, 14, 15 नवंबर के दिन ही हैं.

सुप्रीम कोर्ट में मामले की सुनवाई पूरी हो चुकी है.
सुप्रीम कोर्ट में अयोध्या मामले की सुनवाई पूरी हो चुकी है.

आईचौक वेबसाइट में छपी संजय शर्मा की रिपोर्ट के मुताबिक आठ नवंबर को फैसला आने की संभावना सबसे कम है. क्योंकि सुप्रीम कोर्ट के सुरक्षा विभाग यानी दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के मुताबिक अब तक सुरक्षा घेरा बढ़ाने और सख्त करने का कोई आधिकारिक आदेश या संदेश नहीं आया है. रिपोर्ट के मुताबिक अयोध्या में अभी चौदहकोसी परिक्रमा चल रही है. इसके बाद कार्तिक पूर्णिमा को भी पांच कोसी परिक्रमा यानी 15 किलोमीटर की परिक्रमा में भी लाखों श्रद्धालुओं का रेला लगा रहेगा. ऐसे में इस दौरान अगर फैसला आया तो अयोध्या और इसके चारों ओर पांच कोस यानी 15 किलोमीटर के इलाके में कानून व्यवस्था दुरुस्त रखना बहुत बड़ी चुनौती होगी.

एक पेच ये भी –

कुछ जानकार ये दलील भी दे रहे हैं कि अगर पांचों जजों के मत में ज्यादा तकनीकी पेंच नहीं फंस रहे होंगे तो फैसला 12 तारीख के बाद आएगा, लेकिन अगर मतभेद गहरे हुए तो फैसला आठ नवंबर को भी आ सकता है. ताकि फैसले के बाद दो-तीन दिन तो मिलें ताकि पुनर्विचार याचिका पर भी यही बेंच एक बार विचार कर ले. इस पर कुछ जानकार ये भी कह रहे हैं कि इससे ज्यादा फर्क नहीं पड़ता क्योंकि पीठ में पांच में से चार जज तो वही रहेंगे. ये भी अच्छा है कि पीठ के ही एक सदस्य चीफ जस्टिस बन रहे हैं लिहाजा वो पीठ में किसी और जज को मनोनीत कर देंगे. और पुनर्विचार याचिका पर एक नए जज के साथ पीठ सुनवाई कर सकेगी. एक संभावना ये भी कुछ लोग जता रहे हैं कि हो सकता है ये फैसला अभी टाल दिया जाए. अयोध्या में लोगों की भीड़ और त्योहार वाले माहौल को देखते हुए. ऐसे में फैसला चीफ जस्टिस रंजन गोगोई के जाने के बाद भी आ सकता है.


लल्लनटॉप वीडियो देखें-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

एंटी-CAA प्रोटेस्ट को उकसाने के आरोप में कपल गिरफ्तार, पुलिस ने कहा- ISIS से लिंक हो सकता है

दिल्ली के शाहीन बाग में 15 दिसंबर से प्रोटेस्ट चल रहा है.

सबसे ज्यादा रणजी मैच और सबसे ज्यादा रन, इस खिलाड़ी ने 24 साल बाद लिया संन्यास

42 की उम्र तक खेलते रहे, अब बल्ला टांगा.

लखनऊ में CAA विरोधी प्रदर्शन के दौरान 'तोड़फोड़ करने वाले' 57 लोगों के होर्डिंग लगाए

होर्डिंग पर पूर्व IPS एसआर दारापुरी और कांग्रेस कार्यकर्ता सदफ ज़फर जैसे लोगों का नाम.

दिल्ली दंगे के 'हिन्दू पीड़ितों' की मदद के लिए कपिल मिश्रा ने जुटाये 71 लाख, खुद एक पईसा नहीं दिया

अब भी कह रहे हैं, 'आप धर्म को बचाइये, धर्म आपको बचायेगा'

कांग्रेस सांसद का आरोप : अमित शाह का इस्तीफा मांगा, तो संसद में मुझ पर हमला कर दिया गया

कांग्रेस सांसद ने कहा, 'मैं दलित महिला हूं, इसलिए?'

निर्भया केस: चार दोषियों की फांसी से एक दिन पहले कोर्ट ने क्या कहा?

राष्ट्रपति ने पवन गुप्ता की दया याचिका खारिज कर दी है.

कश्मीर : हथियारों के फर्जी लाइसेंस बनवाने वाला IAS अधिकारी कैसे धरा गया?

हर लाइसेंस पर 8-10 लाख रूपए लेता था!

गृहमंत्री अमित शाह की रैली में आई भीड़ ने लगाया देश के गद्दारों को गोली मारो... का नारा!

ये नारा डरावना है, उससे भी डरावना है इसका गृहमंत्री की रैली में लगाया जाना.

दिल्ली के बाद मेघालय में भी हिंसा भड़की, दो की मौत, कई जिलों में इंटरनेट बंद

मामला CAA प्रोटेस्ट से जुड़ा है.

एक्टिंग छोड़ बीजेपी जॉइन की थी, अब कपिल मिश्रा और अनुराग ठाकुर की वजह से पार्टी छोड़ दी

बीजेपी नेता ने अपनी पार्टी के नेताओं पर बड़ा बयान दिया है.