Submit your post

Follow Us

देश के टॉप-50 अमीरों में शामिल राकेश झुनझुनवाला ने क्या सरकार को बेवकूफ़ बना कमाए 200 करोड़?

शेयर इन्वेस्टर राकेश झुनझुनवाला का नाम सुर्खियों में है. वजह- उनसे SEBI पूछताछ कर रही है. SEBI मतलब- सिक्योरिटी एंड एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया, जो ये देखती है कि मार्केट और इन्वेस्टर्स से जुड़े मामले अच्छे से, नियमों से चलते रहें.

SEBI राकेश झुनझुनवाला से पूछताछ कर रही है, क्योंकि झुनझुनवाला पर इनसाइडर ट्रेडिंग का आरोप है. अब इस मामले को दो हिस्सों में समझते हैं. पहला- इनसाइडर ट्रेडिंग क्या है? दूसरा- झुनझुनवाला कौन हैं, क्या किया, क्यों फंसे, वगैरह.

इनसाइडर ट्रेडिंग क्या है?

ऐसे समझिए कि कोई एक कंपनी है, जो शेयर मार्केट में लिस्टेड है. अब इस कंपनी के मैनेजमेंट से जुड़े लोग या उनके करीबी अगर किसी ऐसी जानकारी के आधार पर इसी कंपनी में शेयर ट्रेडिंग करने लगे, जो अभी तक पब्लिक नहीं है, तो इसे इनसाइडर ट्रेडिंग कहते हैं.

इनसाइडर ट्रेडिंग गैर-कानूनी है

सीधी-सी बात है कि अगर कंपनी के मैनेजमेंट से जुड़ा कोई व्यक्ति उसी कंपनी के शेयर की ट्रेडिंग करने लगे, तो उसके पास बाकी इन्वेस्टर्स से ज्यादा एडवांटेज होगा.

वजह- उसके पास कंपनी से जुड़ी ऐसी-ऐसी जानकारियां हैं, जो बाकी इन्वेस्टर्स के पास नहीं हैं. वो जानकारियां, जो शेयर बाजार में उस कंपनी की पोजीशन भी तय कर सकती हैं. इसलिए इनसाइडर ट्रेडिंग मना है. अगर कोई ऐसा करके मुनाफा कमाता है, तो सेबी एक्शन लेती है.

अब झुनझुनवाला का पूरा मैटर क्या है?

राकेश झुनझुनवाला. 1960 में हैदराबाद में पैदा हुए. राकेश के पापा इनकम टैक्स ऑफिसर थे. राकेश सीए बने. 1985 में शेयर ट्रेडिंग में हाथ आजमाया. उस वक्त बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज (BSE) का इंडेक्स 150 पर हुआ करता था. तब राकेश ने मार्केट में करीब 170 रुपए लगाए थे. आज BSE 38 हजार पॉइंट पर है और राकेश के मार्केट में करीब 17 हजार करोड़ रुपए लगे हैं.

टाइटन में राकेश के 8 हजार करोड़ रुपए लगे हैं

राकेश की कुल संपत्ति करीब 21 हजार करोड़ रुपए की है. फोर्ब्स की लिस्ट में वे भारत के 48वें सबसे अमीर व्यक्ति हैं. राकेश की सबसे वैल्यूएबल होल्डिंग टाइटन कंपनी में है. इसमें उनके करीब 8 हजार करोड़ रुपए लगे हैं.

झुनझुनवाला एजुकेशन सेक्टर से जुड़ी कंपनी ऐपटेक के चेयरमैन भी हैं. इस कंपनी में झुनझुनवाला फैमिली के 49% शेयर होल्डर हैं. राकेश के अलावा उनके भाई-बहन और सास के भी शेयर हैं. सबके शेयर मिलाकर कुल कीमत करीब 600 करोड़ रुपए है. इसमें से करीब 200 करोड़ अकेले राकेश के हैं.

राकेश के परिवार के लोग भी शामिल

झुनझुनवाला ने सेबी के अधिकारियों से कहा है कि परिवार वालों की ओर से भी वे ही बात रखेंगे. ऐपटेक के कुछ बोर्ड मेंबर्स से भी पूछताछ हो रही है. अभी सेबी ने ये जानकारी पब्लिक नहीं की है कि झुनझुनवाला ने कब ऐपटेक में इनसाइडर ट्रेडिंग की और इससे कितना मुनाफा कमाया.

# इसके अलावा एक नाम रेयर एंटरप्राइजेज का भी है. उन्हें भी नोटिस मिला है. रेयर एंटरप्राइजेज झुनझुनवाला की एसेट मैनेजमेंट फर्म है.

# झुनझुनवाला ने 2005 में ऐपटेक में पहली बार 56 रुपए की वैल्यू पर शेयर खरीदे थे. 15 साल बाद अब उनके करीब 200 करोड़ रुपए से ज्यादा के शेयर हैं.

# 24 जनवरी को जब झुनझुनवाला से SEBI की पूछताछ की खबर आई, तब ऐपटेक के शेयर 188 रुपए पर चल रहे थे. 29 तारीख को शेयर 154 रुपए तक आ गए हैं. यानी पांच दिन में शेयर के दाम 34 रुपए तक गिर गए.


कार्वी स्टॉक ब्रोकिंग लिमिटेड: जिस पर सेबी ने कस्टमर्स से बिनी पूछे 2000 करोड़ निकालने के आरोप में कार्रवाई की है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अमित शाह का नाम लेते ही नीतीश कुमार और प्रशांत किशोर में कुट्टी हो गई

और पीके अब JDU से बाहर.

IPL 2020: रोहित, कोहली, धोनी सब एक टीम से खेलते दिख सकते हैं

टाइमिंग और वेन्यू पर भी बड़े-बड़े फैसले हुए हैं.

अब केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने लगवाया नारा, "देश के गद्दारों को, गोली मारो *लों को"

क्या केन्द्रीय मंत्री ऐसे बयान दे सकता है?

माओवादियों ने डराया तो गांववालों ने पत्थर और तीर चलाकर माओवादी को ही मार डाला

और बदले में जलाए गए गांववालों के घर

बंगले की दीवार लांघकर पी. चिदम्बरम को गिरफ्तार किया, अब राष्ट्रपति मेडल मिला

CBI के 28 अधिकारियों को राष्ट्रपति पुलिस मेडल दिया गया.

झारखंड के लोहरदगा में मार्च निकल रहा था, जबरदस्त बवाल हुआ, इसका CAA कनेक्शन भी है

एक महीने में दूसरी बार झारखंड में ऐसा बवाल हुआ है.

BJP नेता कैलाश विजयवर्गीय लोगों को पोहा खाते देख उनकी नागरिकता जान लेते हैं!

विजयवर्गीय ने कहा- देश में अवैध रूप से रह रहे लोग सुरक्षा के लिए बड़ा खतरा हैं.

CAA-NRC, अयोध्या और जम्मू-कश्मीर पर नेशन का मूड क्या है?

आज लोकसभा चुनाव हुए तो क्या होगा मोदी सरकार का हाल?

JNU हिंसा केस में दिल्ली पुलिस की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है

RTI से सामने आई ये बात.

CAA पर सुप्रीम कोर्ट में लगी 140 से ज्यादा याचिकाओं पर बड़ा फैसला आ गया

असम में NRC पर अब अलग से बात होगी.