Submit your post

Follow Us

DDCA अध्यक्ष पद से इस्तीफा देने वाले रजत शर्मा सौरव गांगुली से क्या चाहते हैं?

पूर्व कप्तान सौरव गांगुली के भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड के अध्यक्ष बनने के बाद एक नई उम्मीद जगी थी. भारतीय क्रिकेट नई ऊंचाइयों के साथ सही दिशा में जाता दिख रहा था. इस बीच अब फिर से भारतीय क्रिकेट में खींचतान की खबरें हैं. बड़ी खबर ये है कि दिल्ली एंड डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन (DDCA) के अध्यक्ष रजत शर्मा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है.

उन्होंने इसे छोड़ने के पीछे कई गंभीर कारण गिनवाए हैं. उन्होंने कहा,

‘ऐसा लगता है कि डीडीसीए में मैं ईमानदारी, निष्ठा और पारदर्शिता जैसे अपने सिद्धातों पर नहीं चल पा रहा हूं. मैं इनसे किसी भी कीमत पर समझौता नहीं कर सकता.’

रजत शर्मा के इस्तीफे के साथ ही डीडीसीए के सीईओ रविकांत चोपड़ा ने भी अपना पद  छोड़ दिया है. वहीं उनके अलावा क्रिकेट सलाहकार समिति यानी सीएसी के सदस्य सुनील वाल्सन और यशपाल शर्मा ने भी अपना पद छोड़ा है.

 

रजत शर्मा ने अपने इस्तीफे के बाद सोशल मीडिया पर ट्वीट किया और अपनी बात रखी. उन्होंने ट्वीट में कहा,

‘प्रिय सदस्यों जबसे आपने मुझे डीडीसीए का अध्यक्ष चुना है, मैं समय समय पर अपने काम के बारे में जानकारी दे रहा हूं. मैं डीडीसीए को बेहतर बनाने के लिए भी कदम उठाए. लेकिन अब यहां काम करना आसान नहीं है. फिर भी आपके विश्वास से मुझे ताकत मिली. लेकिन कार्यकाल के दौरान मुझे काफी विरोधियों और परेशानी का सामना करना पड़ा है. डीडीसीए के अंदर हमेशा आपको पीछे खींचने की कोशिश होती है.

इंडिया टीवी वेबसाइट के मुताबिक रजत शर्मा ने कहा है कि

”इस इस्तीफे को खतरे की घंटी की तरह देखा जाना चाहिए.”

साथ ही वो कहते हैं, ‘इससे उच्चतम न्यायालय, क्रिकेटरों और बीसीसीआई सहित सभी हितधारकों को पता चले कि इस तरह के निहित स्वार्थ से जुड़े लोग डीडीसीए में है.’

रजत ने आगे कहा,

”मैं देखना चाहता हूं कि अब बीसीसीआई और सुप्रीम कोर्ट इन लोगों को नियंत्रित करने के लिए क्या कदम उठाते हैं.”

रजत शर्मा ने सीधे तौर पर पूरा मामला बीसीसीआई के पाले में डाल दिया है.

कब चुने गए थे रजत शर्मा और क्या-क्या किया:
साल 2018 में जुलाई के महीने में रजत शर्मा को डीडीसीए का अध्यक्ष चुना गया था. उन्होंने मदनलाल को 517 वोटों से हराकर ये पद जीता था. रजत शर्मा के कार्यकाल में दी दिल्ली एंड डिस्ट्रिक्ट क्रिकेट एसोसिएशन के पूर्व अध्यक्ष अरुण जेटली का निधन हुआ. जिसके बाद उनके नाम पर ही फिरोज़शाह कोटला स्टेडियम का नाम बदलकर अरुण जेटली स्टेडियम रखा गया.


1983 में कपिल देव का जो नटराज रूप दुनिया नहीं देख पाई, क्या उसे रणवीर सिंह सच में दिखा देंगे?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

एंटी-CAA प्रोटेस्ट को उकसाने के आरोप में कपल गिरफ्तार, पुलिस ने कहा- ISIS से लिंक हो सकता है

दिल्ली के शाहीन बाग में 15 दिसंबर से प्रोटेस्ट चल रहा है.

सबसे ज्यादा रणजी मैच और सबसे ज्यादा रन, इस खिलाड़ी ने 24 साल बाद लिया संन्यास

42 की उम्र तक खेलते रहे, अब बल्ला टांगा.

लखनऊ में CAA विरोधी प्रदर्शन के दौरान 'तोड़फोड़ करने वाले' 57 लोगों के होर्डिंग लगाए

होर्डिंग पर पूर्व IPS एसआर दारापुरी और कांग्रेस कार्यकर्ता सदफ ज़फर जैसे लोगों का नाम.

दिल्ली दंगे के 'हिन्दू पीड़ितों' की मदद के लिए कपिल मिश्रा ने जुटाये 71 लाख, खुद एक पईसा नहीं दिया

अब भी कह रहे हैं, 'आप धर्म को बचाइये, धर्म आपको बचायेगा'

कांग्रेस सांसद का आरोप : अमित शाह का इस्तीफा मांगा, तो संसद में मुझ पर हमला कर दिया गया

कांग्रेस सांसद ने कहा, 'मैं दलित महिला हूं, इसलिए?'

निर्भया केस: चार दोषियों की फांसी से एक दिन पहले कोर्ट ने क्या कहा?

राष्ट्रपति ने पवन गुप्ता की दया याचिका खारिज कर दी है.

कश्मीर : हथियारों के फर्जी लाइसेंस बनवाने वाला IAS अधिकारी कैसे धरा गया?

हर लाइसेंस पर 8-10 लाख रूपए लेता था!

गृहमंत्री अमित शाह की रैली में आई भीड़ ने लगाया देश के गद्दारों को गोली मारो... का नारा!

ये नारा डरावना है, उससे भी डरावना है इसका गृहमंत्री की रैली में लगाया जाना.

दिल्ली के बाद मेघालय में भी हिंसा भड़की, दो की मौत, कई जिलों में इंटरनेट बंद

मामला CAA प्रोटेस्ट से जुड़ा है.

एक्टिंग छोड़ बीजेपी जॉइन की थी, अब कपिल मिश्रा और अनुराग ठाकुर की वजह से पार्टी छोड़ दी

बीजेपी नेता ने अपनी पार्टी के नेताओं पर बड़ा बयान दिया है.