Submit your post

Follow Us

राजस्थान: कोरोना मरीज की मौत के बाद परिजन और डॉक्टर भिड़े, जमकर हंगामा

राजस्थान के झालावाड़ में एक कोरोना मरीज की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल में जमकर हंगामा किया. मरीज के परिवार वालों और रेजिडेंट डॉक्टरों के बीच हाथापाई भी हुई. पुलिस का कहना है कि आरोपों की जांच की जाएगी और उसी के आधार पर आगे की कार्रवाई की जाएगी.

इंडिया टुडे ग्रुप से जुड़े झालावाड़ के रिपोर्टर फिरोज़ अहमद ने बताया,

“झालावाड़ के रहने वाले प्रताप सिंह को कोरोना हुआ था. वह अस्पताल में भर्ती थे. उनके परिवार वालों का कहना है कि डॉक्टरों की लापरवाही के चलते उनके मरीज की मौत हो गई. प्रताप सिंह की मृत्यु के बाद उनके परिजनों और अस्पताल के डॉक्टरों के बीच काफी हाथापाई हुई. ये पूरा मामला 11 जून की रात 7 बजे से लेकर करीब 10 बजे तक चलता रहा.”

प्रताप सिंह पेशे से टीचर थे. कोविड संक्रमण की चपेट में आने पर उन्हें 25 मई को SRG अस्पताल मेडिकल कॉलेज के कोविड ICU में भर्ती कराया गया था. उनके परिजनों ने कहा कि प्रताप के फेफड़ों में संक्रमण था, लेकिन उनकी हालत में सुधार हो रहा था. आरोप है कि 11 जून को अस्पताल में डॉक्टरों ने वेंटिलेटर और ऑक्सीजन सपोर्ट से प्रताप को हटा दिया जिसके कारण उनकी स्थिति बिगड़ गई.

Rajasthan
हंगामे के दौरान पुलिस भी मौके पर मौजूद थी. फोटो- आजतक

प्रताप सिंह के भाई तेजराज सिंह राजस्थान पुलिस में हैं. उन्होंने भी अस्पताल पर लापरवाही के आरोप लगाए. प्रताप सिंह के बेटे धर्मवीर सिंह  ने कहा कि डॉक्टरों ने उनके पिता का वेंटिलेटर और ऑक्सीजन हटा दिया. विरोध किया गया तो फिर से वेंटिलेटर पर लेने का प्रयास किया, लेकिन प्रताप सिंह की स्थिति बिगड़ी और उन्होंने दम तोड़ दिया. धर्मवीर कहते हैं,

“डॉक्टरों ने इलाज से इंकार कर दिया. मारपीट के लिए मेडिकल कॉलेज से लड़के बुला लिए. मेरे पिता की मौत के लिए अस्पताल के लोग जिम्मेदार हैं. वे हम पर आरोप लगा रहे हैं, लेकिन हमने कुछ नहीं किया. हमारे पिता तो अस्पताल में भर्ती थे, हम कैसे डॉक्टरों के साथ अभद्रता करेंगे.”

वहीं फिरोज़ अहमद की रिपोर्ट के मुताबिक, “मौत के बाद पीड़ित परिजन गुस्से में आ गए और हाथापाई करने लगे. रेजिडेंट डॉक्टर्स ने भी मेडिकल कॉलेज से अपने साथियों को बुला लिया. दोनों पक्षों में भिड़ंत हो गई. पुलिस-प्रशासन के दखल के बाद स्थिति सुधरी. हालात की गंभीरता को देखते हुए अस्पताल में पुलिस बल की तैनाती की गई है.”

इस पूरे मामले में अस्पताल अधीक्षक संजय पोरवाल ने कहा कि अस्पताल की ओर से कोई लापरवाही नहीं हुई है, लेकिन फिर भी मामले की जांच की जाएगी. वहीं इस मामले में झालावाड़ पुलिस के इंस्पेक्टर बलबीर सिंह ने कहा कि झगड़े की सूचना पर हम यहां पहुंचे थे. हालात को संभाल लिया गया है. दोनों ओर से जो शिकायत दर्ज कराई जाएगी उसके आधार पर आगे की कार्रवाई होगी.


वीडियो- नेता नगरी: जितिन प्रसाद के BJP में शामिल होने से कांग्रेस को UP में क्या नुकसान होगा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

TMC में घर वापसी करने वाले मुकुल रॉय ने 4 साल बाद बीजेपी छोड़ने का फैसला क्यों लिया?

मुकुल रॉय को बराबर में बिठाकर ममता बनर्जी किन गद्दारों पर भड़कीं?

लक्षद्वीप: किस एक बयान के बाद फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह का केस हो गया?

पहले TV डिबेट में बोला, फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखा.

कोरोना वैक्सीन लेने के बाद शरीर से सिक्के-चम्मच चिपकने के दावों में कितना सच?

क्या शरीर में वाकई चुंबकीय शक्ति पैदा हो जाती है?

पावर बैंक ऐप, जिसने 15 दिन में पैसे डबल करने का झांसा दे 4 महीने में 250 करोड़ उड़ा लिए

पैसा शेल कंपनियों में लगाते, फिर क्रिप्टोकरंसी बनाकर विदेश भेज देते थे.

भूटान के बाद अब नेपाल ने पतंजलि की कोरोनिल दवा बांटने पर रोक क्यों लगा दी?

नेपाल के अधिकारियों ने IMA के उस लेटर का भी हवाला दिया है, जिसमें कोरोनिल को लेकर रामदेव को चुनौती दी गई थी.

दक्षिण में बीजेपी की मुश्किलें बढ़ीं, कर्नाटक और केरल में टॉप नेता सवालों में क्यों हैं?

मामला इतना बढ़ गया कि बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व को दखल देना पड़ा है.

आसिफ को भीड़ ने पीटकर मार डाला तो आरोपियों की रिहाई के लिए महापंचायतें क्यों हो रही हैं?

करणी सेना के नेता धमकी दे रहे- जो भी हमें रोकेंगे, उन्हें ठोक देंगे.

तमिल नेता ने अमेज़न से कहा 'फैमिली मैन 2' को बंद करो, वरना...

अमेज़न प्राइम वीडियो की हेड को लेटर लिख दी है खुली चेतावनी.

सुवेंदु अधिकारी और उनके भाई के खिलाफ राहत सामग्री चोरी करने के आरोप में FIR

वेस्ट बंगाल पुलिस ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है.

अलीगढ़ शराबकांड का मुख्य आरोपी और एक लाख का इनामी ऋषि शर्मा गिरफ्तार

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जहरीली शराब से अब तक 108 लोगों की मौत हो चुकी है.