Submit your post

Follow Us

राजस्थान की महिला विधायक पर हेड कांस्टेबल को थप्पड़ मारने का आरोप, दोनों तरफ से मामला दर्ज

राजस्थान के बांसवाड़ा जिले में पुलिस के एक हेड कांस्टेबल और विधायक के बीच झड़प हो गई. हेड कांस्टेबल ने यह आरोप लगाया है कि कुशलगढ़ की विधायक रमिला खड़िया ने उसे थप्पड़ मारा है. इस घटना के बाद जिले के पुलिस महकमे में काफी गुस्सा दिखा. हेड कांस्टेबल महेंद्रनाथ ने विधायक के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया. इसके बाद विधायक ने भी हेड कांस्टेबल के खिलाफ मामला दर्ज करा दिया गया. आइए जानते हैं पूरा मामला क्या है.

विधायक के भतीजे की मोटरसाइकिल को कैसे रोक दिया?

यह पूरा मामला 13 जून की रात तकरीबन 10.30 बजे का है जब बांसवाड़ा जिले की नागनाथ पुलिया पर नाकेबंदी की गई थी. ये नाकाबंदी कोरोना गाइडलाइंस को फॉलो कराने को लेकर की गई थी. एक हेड कांस्टेबल महेंद्र सहित 2 कांस्टेबल और 2 होमगार्ड, रास्ते से गुजर रहे लोगों से पूछताछ कर रहे थे. इस दौरान एक मोटरसाइकिल चालक युवक से भी पूछताछ की गई लेकिन वह भड़क गया.

हेड कांस्टेबल महेंद्र नाथ ने आजतक को बताया कि मोटर साइकिल सुनील बारिया नाम का शख्स चला रहा था. वह विधायक का भतीजा है. जब पुलिस ने उसे रोका तो सुनील ने हेड कांस्टेबल का कॉलर पकड़कर नौकरी से निकलवाने की धमकी दी. जिस पर हेड कांस्टेबल ने चालान बना दिया.

उसके बाद युवक ने विधायक रमिला खड़िया को फोन लगाया. विधायक अपने साथ पूर्व उप जिला प्रमुख कांतिलाल पंचाल, रजनीकांत खाब्या और अन्य कुछ लोगों के साथ मौके पर आ गईं. ऐसा आरोप है कि इसी दौरान विधायक ने हेड कांस्टेबल को चांटा मार दिया. मामले को तूल पकड़ता देख थाना प्रभारी प्रदीप कुमार बीच-बचाव के लिए आए. थाना प्रभारी प्रदीप कुमार ने हेड कांस्टेबल से विधायक से माफ़ी मांगने के लिए कहा लेकिन ऐसा करने से महेंद्र नाथ ने मना कर दिया.

हेड कांस्टेबल महेंद्रनाथ ने आजतक को बताया कि

मौके पर पहुंचीं विधायक के साथ अन्य लोग भी कहने लगे कि दो कौड़ी के पुलिसवालों तुम्हें किसने कहा यहां खड़ा रहने के लिए. तुम्हारी हिम्मत कैसे हुई हमारे आदमी को रोकने की. इस दौरान विधायक ने गालीगलौच शुरू कर दी और तैश में आकर मुझे थप्पड़ जड़ दिया. इसके बाद विधायक ने कुशलगढ़ सीआई प्रदीप कुमार को मौके पर बुलाया और जवानों के बारे में बुरा भला कहा. तब सीआई ने भी विधायक को समझाने की कोशिश की. उन्होंने समझाया कि नाकेबंदी चल रही है तो इस वजह से ही पूछताछ की गई होगी. फिर भी अगर कुछ ऐसा कोई मामला है तो मैं दिखवाता हूं. लेकिन विधायक शांत नहीं हुई. काफी देर चले विवाद के बाद विधायक समर्थकों के साथ वहां से चली गईं.

विधायक रमिला खड़िया ने बताया कि वह मौके पर गईं थीं लेकिन उन्होंने थप्पड़ नहीं मारा. उन्होंने कहा

युवक अपने किसी परिचित को दवाई देने गया था और वापस लौट रहा था. उस दौरान हेड कांस्टेबल महेंद्र ने रोककर उसके साथ मारपीट की. तब मैं और कुछ लोग वहां पहुंचे और कहा कि क्यों मारपीट कर रहे हो. मास्क नहीं पहना हो तो कार्रवाई करो. तब वो कांस्टेबल बोलने लगा कि तुमने बनाया है नियम तो कार्रवाई कर रहे हैं. हम कौन हैं नियम बनाने वाले. सरकार के आदेश हैं. इसके बाद सीआई वहां आए और उन्हें पूरा मामला बताया. मैंने किसी को थप्पड़ नहीं मारा.

विधायक के खिलाफ मुश्किल से दर्ज हुई FIR

इस मामले में हेड कांस्टेबल महेंद्र ने देर रात डेढ़ बजे कुशलगढ़ थाने में रिपोर्ट दी. पुलिस विधायक के ख़िलाफ़ मुक़दमा नहीं दर्ज कर रही थी. ऐसे में सभी पुलिसवालों ने खाना खाने से मना कर दिया. जिसके बाद पुलिस के आला अधिकारी पहुंचे. तब जाकर विधायक के ख़िलाफ़ मामला दर्ज हुआ. पुलिस ने विधायक की तरफ़ से हेड कांस्टेबल महेंद्रनाथ के ख़िलाफ़ भी मुक़दमा दर्ज कर लिया है.


वीडियो – राजस्थान कोरोना मरीज की मौत के बाद परिजनों ने अस्पताल के डॉक्टरों से की हाथापाई

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

दिल्ली दंगा : नताशा, देवांगना और आसिफ़ को ज़मानत देते हुए कोर्ट ने कहा, 'कब तक इंतज़ार करें?'

जानिए क्या है पूरा मामला?

सैन्य ऑपरेशन से जुड़े 25 साल से ज्यादा पुराने रिकॉर्ड सार्वजनिक होंगे

सेना के इतिहास से जुड़ी जानकारियां सार्वजनिक करने की पॉलिसी को मंजूरी

पंजाब चुनाव: अकाली दल और बसपा गठबंधन का ऐलान, कितनी सीटों पर लड़ेगी मायावती की पार्टी?

पंजाब के अलावा बाकी चुनाव भी साथ लड़ने की घोषणा.

TMC में घर वापसी करने वाले मुकुल रॉय ने 4 साल बाद बीजेपी छोड़ने का फैसला क्यों लिया?

मुकुल रॉय को बराबर में बिठाकर ममता बनर्जी किन गद्दारों पर भड़कीं?

लक्षद्वीप: किस एक बयान के बाद फिल्म निर्माता आयशा सुल्ताना पर राजद्रोह का केस हो गया?

पहले TV डिबेट में बोला, फिर फेसबुक पर पोस्ट लिखा.

कोरोना वैक्सीन लेने के बाद शरीर से सिक्के-चम्मच चिपकने के दावों में कितना सच?

क्या शरीर में वाकई चुंबकीय शक्ति पैदा हो जाती है?

पावर बैंक ऐप, जिसने 15 दिन में पैसे डबल करने का झांसा दे 4 महीने में 250 करोड़ उड़ा लिए

पैसा शेल कंपनियों में लगाते, फिर क्रिप्टोकरंसी बनाकर विदेश भेज देते थे.

भूटान के बाद अब नेपाल ने पतंजलि की कोरोनिल दवा बांटने पर रोक क्यों लगा दी?

नेपाल के अधिकारियों ने IMA के उस लेटर का भी हवाला दिया है, जिसमें कोरोनिल को लेकर रामदेव को चुनौती दी गई थी.

दक्षिण में बीजेपी की मुश्किलें बढ़ीं, कर्नाटक और केरल में टॉप नेता सवालों में क्यों हैं?

मामला इतना बढ़ गया कि बीजेपी के केंद्रीय नेतृत्व को दखल देना पड़ा है.

आसिफ को भीड़ ने पीटकर मार डाला तो आरोपियों की रिहाई के लिए महापंचायतें क्यों हो रही हैं?

करणी सेना के नेता धमकी दे रहे- जो भी हमें रोकेंगे, उन्हें ठोक देंगे.