Submit your post

Follow Us

मोदी सरकार एक ऐसा नियम बदलने जा रही है, जिससे राहुल गांधी की यात्राओं पर सरकार का GPS लग जाएगा

5
शेयर्स

महाराष्ट्र और हरियाणा चुनावों की तैयारियों के बीच कांग्रेस के स्टार प्रचारक और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी विदेश में हैं. पहले कहा गया कि वो बैंकाक में हैं, फिर मॉरीशस जाने की खबरें आईं और फिर कहा गया कि वो कंबोडिया में हैं. लेकिन अब भी आधिकारिक तौर पर ये साफ नहीं हो पाया है कि राहुल गांधी कहां हैं. लेकिन अब आगे से ऐसा नहीं होगा.

तो क्या राहुल गांधी को बताना पड़ेगा कि वो कहां जा रहे हैं?

जवाब हां में है. अब राहुल गांधी, सोनिया गांधी और प्रियंका गांधी वाड्रा को ये ज़रूर बताना पड़ेगा कि वो किस देश में गए हैं. वो वहां कब तक रहेंगे और वहां से कब लौटेंगे. इसकी वजह ये है कि देश में कुछ चुनिंदा लोगों को ही एसपीजी यानी कि स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप की सुरक्षा मिली हुई है. फिलहाल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा गांधी परिवार के ही इन तीनों सदस्यों के पास एसपीजी की सुरक्षा मिली है. अब सरकार एसपीजी से जुड़ा एक नियम बदलने जा रही है. इसके तहत जिसे भी एसपीजी की सुरक्षा मिली हुई है, अगर वो विदेश दौरे पर जाता है, तो एसपीजी के जवान भी उसके साथ होंगे. और जब एसपीजी के जवान भी साथ में जाएंगे, तो सुरक्षा बलों के साथ ही आला अधिकारियों को भी ये पता रहेगा कि एसपीजी के जवान किस देश में गए हैं.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को भी एसपीजी की सुरक्षा मिली हुई है.
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अलावा सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को भी एसपीजी की सुरक्षा मिली हुई है.

क्या होती है एसपीजी सुरक्षा?

अक्टूबर, 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद देश के प्रधानमंत्री, देश के पूर्व प्रधानमंत्री और देश के बड़े नेताओं की सुरक्षा के लिए एसपीजी (स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप) का गठन किया गया था. संसद के एक कानून के जरिए 1988 में एसपीजी अस्तित्व में आई. खास हथियार, खास तरह की ड्रेस और खास तरह की ट्रेनिंग हासिल किए एसपीजी के कमांडो किसी भी स्थिति से निपटने के लिए हमेशा तैयार रहते हैं.


पीड़ित परिवार की कोलकाता हाईकोर्ट से मांग, यमराज से कहकर हत्या के आरोपी धरती पर बुलाए जाएं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

नेहरु से इतना प्यार? मोदी अब बिना कांग्रेस के नेहरू का ख्याल रखेंगे

एक भी कांग्रेस का नेता नहीं. एक भी नहीं.

शरद पवार बोले- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने से बचाना है, तो बस एक ही तरीका है

शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की मिस्ट्री पर क्या कहा?

मोदी को क्लीन चिट न देने वाले चुनाव अधिकारी को फंसाने का तरीका खोज रही सरकार!

11 कंपनियों से सरकार ने कहा, कोई भी सबूत निकालकर लाओ

दफ़्तर में घुसकर महिला तहसीलदार पर पेट्रोल छिड़का, फिर आग लगाकर ज़िंदा जला दिया

इस सबके पीछे एक ज़मीन विवाद की वजह बताई जा रही है. जिसने आग लगाई, वो ख़ुद भी झुलसा.

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प, गाड़ियां फूंकी

पुलिस और वकील इस झड़प की अलग-अलग कहानी बता रहे हैं.

US ने जारी किया विडियो, देखिए कैसे लादेन स्टाइल में किया गया बगदादी वाला ऑपरेशन

अमेरिका ने इस ऑपरेशन से जुड़े तीन विडियो जारी किए हैं.

लल्लनटॉप कहानी लिखिए और एक लाख रुपये का इनाम जीतिए

लल्लनटॉप कहानी कंपटीशन लौट आया है. आपका लल्लनटॉप अड्डे पर पहुंचने का वक्त आ गया है.

अमेठी: पुलिस हिरासत में आरोपी की मौत, 15 पुलिसवालों के खिलाफ केस दर्ज

मौत कैसे हुई? मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए हैं.

PMC खाताधारकों ने बीजेपी नेता को घेरा, तो पुलिस ने उन्हें बचाकर निकाला

RBI के साथ मीटिंग करने पहुंचे थे.

इस विदेशी सांसद को कश्मीर आने का न्योता दिया फिर कैंसल कर दिया, वजह हैरान करने वाली है

सांसद ने ऐसी शर्त रख दी थी कि विदेशी डेलिगेशन का हिस्सा नहीं बन पाए.