Submit your post

Follow Us

जैसे मंत्रीजी के खानसामे के दिन बहुरे, वैसे सबके बहुरें

पीएम मोदी ने कभी ‘सबका साथ सबका विकास’ कह दिया था. पंजाब के एक मिनिस्टर ने इसे अति सीरियसली ले लिया. मंत्री जी का नाम है, राणा गुरजीत सिंह. पंजाब में पावर और सिंचाई के मंत्री हैं. उन्होंने फुहारे छिड़कीं तो बूंदे उनके रसोइये तक जा पहुंची.विकास सबका होना चाहिए. सो रसोइया भले नेपाली था उसका भला हुआ. रसोइये का नाम अमित बहादुर है. ट्रिब्यून की खबरानुसार वो 26 करोड़ की खदान का मालिक हो पड़ा. बताते हैं कि ये प्रदेश की सबसे महंगी बजरी वाली खदान है. खदानों की ऑनलाइन नीलामी चल रही थी. बड़े-बड़े धुरंधर थे, लेकिन मंत्री जी के रसोइये ने 32 धन्नासेठों को ठिंगा दिखाते हुए खदान अपने नाम की.

रसोइये की कहानी और गजब है. उसके पापा बेसिकली नेपाल के हैं. मुरादाबाद में बस गए. वहीं बसे तो बस ही गए. राणा जी के रसोइये हुए. फिर पर्सनल असिस्टेंट हुए और शुगर्स मिल में एचआर में जा पहुंचे. इत्ता तो खदान में ट्रक भी नहीं घूमता जी. ये मंत्री की की राणा शुगर्स के कर्मचारी हैं. इनके अलावा और तीन जने थे. तीनों को इस दफा की नीलामी में खदान मालिक बनने का सौभाग्य प्राप्त हुआ. ये नीलामियां 19 और 20 मई को हुई हैं. जैसे एक उदाहरण लीजिए. कुलविंदर पॉल सिंह मेहंदीपुर 9 करोड़ 21 लाख की खदान ले पड़े. एक और थे गुरिंदर सिंह वो 4 करोड़ 11 लाख की खदान ले पड़े.

एक पिच्चर आई थी. EMI. उस पर एक बड़ी भारी बात कही गई थी. ‘लिया है तो चुकाना पड़ेगा.’ अब नीलामी में खदान तो इनकी हुई. अब पैसा भी देना पड़ेगा. वो कैसे देंगे. ये बेचारे ही जाने. जलकुकड़े लोग इसमें भी पॉलिटिक्स कर रहे हैं.

दरअसल मंत्री जी उसी संस्कृति का पालन कर रहे हैं, जिसके कारण अब से पहले अकाली दल और बीजेपी के मंत्री कोसे जाते थे. माइनिंग में उनका खूब नाम आता था. अब नई सरकार के मंत्री भी उसी राह चल पड़े हैं. सही है. बहुत सही है.
जाते-जाते ये सुनते जाएं.

हरेक महल से कहो की झोपड़ियों में दिये जलाए
छोटों और बड़ों में अब कोई फ़र्क नहीं रह जाए
इस धरती पर हो प्यार का घर-घर उजियारा
यही पैगाम हमारा
यही पैगाम हमारा


ये भी पढ़िए :

सहारनपुर जातीय हिंसाः भीम आर्मी और दूसरे दलित गुटों ने रखीं तीन मांगें

सहारनपुर: यहां महाराणा प्रताप और अंबेडकर के लिए दंगे होते हैं

यूपी में योगी सरकार यहां बुरी तरह फेल हुई है

अगर आज अम्बेडकर होते तो संविधान में अपने हाथ से संशोधन कर ये चीजें बैन कर देते

मायावती ने अपने भरोसेमंद मुस्लिम नेता, उनके बेटे को पार्टी से बाहर कर दिया

ये 8 लोग होते तो यूपी में योगी नहीं, मायावती की सरकार होती!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कॉलेज से लौटती लड़की को सरेआम गोली मारी, परिवार ने 'लव जिहाद' का आरोप लगाया

कॉलेज से लौटती लड़की को सरेआम गोली मारी, परिवार ने 'लव जिहाद' का आरोप लगाया

दोनों आरोपी गिरफ्तार कर लिए गए हैं.

ऑस्ट्रेलिया टूर की टीम से क्यों बाहर हुए रोहित शर्मा?

ऑस्ट्रेलिया टूर की टीम से क्यों बाहर हुए रोहित शर्मा?

अनाउंस हुई टीम इंडिया, मिला नया उपकप्तान.

कोयला घोटालाः अटल सरकार में मंत्री रहे दिलीप रे को तीन साल की जेल हो गई है

कोयला घोटालाः अटल सरकार में मंत्री रहे दिलीप रे को तीन साल की जेल हो गई है

मामला 21 साल पुराना है.

क्या कहता है बिहार का पहला ओपिनियन पोल: NDA को मिलेगा बहुमत? नीतीश फिर बनेंगे सीएम?

क्या कहता है बिहार का पहला ओपिनियन पोल: NDA को मिलेगा बहुमत? नीतीश फिर बनेंगे सीएम?

लोकनीति और CSDS के ओपिनियन पोल की बड़ी बातें एक नजर में.

बिहार चुनाव में जितने उम्मीदवारों पर क्रिमिनल केस हैं, उससे ज्यादा तो करोड़पति हैं

बिहार चुनाव में जितने उम्मीदवारों पर क्रिमिनल केस हैं, उससे ज्यादा तो करोड़पति हैं

आपराधिक छवि वालों की इतनी तादाद से साफ है कि दलों को लगता है, 'दाग' अच्छे हैं

बीजेपी विधायक ने कहा- अगर राहुल 'छेड़छाड़' वाली बात साबित कर दें, तो मैं इस्तीफा दे दूंगा

बीजेपी विधायक ने कहा- अगर राहुल 'छेड़छाड़' वाली बात साबित कर दें, तो मैं इस्तीफा दे दूंगा

राहुल ने खबर शेयर की थी जिसमें लिखा था-बीजेपी विधायक रेप के आरोपी को थाने से छुड़ा ले गए.

बलिया गोलीकांड का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

बलिया गोलीकांड का मुख्य आरोपी गिरफ्तार

एसटीएफ की टीम ने लखनऊ से पकड़ा. बलिया पुलिस को हैंडओवर करेगी.

हैदराबाद में भारी बारिश से सड़कों पर भरा पानी, परीक्षाएं टलीं, 11 लोगों की मौत

हैदराबाद में भारी बारिश से सड़कों पर भरा पानी, परीक्षाएं टलीं, 11 लोगों की मौत

एनडीआरएफ की टीम मदद में जुटी. लोगों से घरों में रहने की अपील.

सीएम जगनमोहन ने सुप्रीम कोर्ट के जज एनवी रमना की शिकायत चीफ जस्टिस से क्यों कर दी?

सीएम जगनमोहन ने सुप्रीम कोर्ट के जज एनवी रमना की शिकायत चीफ जस्टिस से क्यों कर दी?

ये पूरा मामला तो वाकई हैरान कर देने वाला है.

फारुख अब्दुल्ला बोले- चीन के सपोर्ट से दोबारा लागू किया जाएगा अनुच्छेद 370

फारुख अब्दुल्ला बोले- चीन के सपोर्ट से दोबारा लागू किया जाएगा अनुच्छेद 370

कहा- आर्टिकल 370 को हटाया जाना चीन कभी स्वीकार नहीं करेगा.