Submit your post

Follow Us

दिल्ली हाईकोर्ट ने पूछा कि औरतें क्यों नहीं बन सकतीं पुजारी?

मैं जब भी मंदिर जाती थी तो हर बार ये सवाल आता था कि हर मंदिर के गर्भगृह में पूजा करने वाले लोग आदमी ही क्यों होते हैं. औरतें ये काम करती क्यों नहीं दिखतीं? भगवान को नहलाने से लेकर आरती करने वाले तक, घंटी बजाने से लेकर भोग लगाने वाले तक आदमी ही आदमी. बाकी जगहों की तरह यहां भी मर्दों ने अपना गढ़ बना रखा था. ‘आखिर औरतें पूजा क्यों नहीं कर सकतीं’, इस सवाल का एक रटा-रटाया जवाब होता था कि ऐसा हमेशा से होता आया है.

7 जनवरी, 2017 को दिल्ली हाईकोर्ट ने भी इस स्टीरियोटाइप पर सवाल उठाया है. कालका जी मंदिर में दो औरतों के पूजा करने पर रोक लगाने की एक याचिका हाइकोर्ट के पास आई. जस्टिस बीडी अहमद और आशुतोष कुमार की बेंच ने औरतों को पूजा करने से रोकने की मांग करने वाले पिटीशनर से पूछा

“मंदिरों में औरतें क्यों पूजा और सेवा क्यों नहीं कर सकती हैं? समय बदल गया है, अब औरतों को मंदिरों के अंदर जाने से नहीं रोका जा सकता. अभी हाल ही में सुप्रीम कोर्ट ने भी कहा कि औरतों को किसी पूजा करने वाली जगह पर जाने से नहीं रोका जा सकता है. तो हमें ऐसा क्यों करना चाहिए?”

पिटीशनर, मंदिर के पुजारी ने बेंच से अर्जेंट सुनवाई की मांग की थी क्योंकि निचली अदालत के फैसले के मुताबिक उसकी दोनों बहनें मंदिर में पूजा करने भी लगी थीं. और मंदिर में चढ़ने वाले चढ़ावे में हिस्सा भी लेने लगीं थीं. उन दोनों को रोकने के लिए पिटीशनर बहुत जल्दी में था.

पिटीशनर पुजारी ने कोर्ट से कहा कि दोनों बहनों की शादी हो चुकी है और अब उनका गोत्र और खानदान बदला गया है. इसलिए उन्हे ‘पूजा सेवा’ करने का कोई हक नहीं. उनको पूजा करने देने का निचली अदालत के 4 फरवरी के फैसले को रोक दिया जाए. और औरतों को पूजा करने से रोका जाए. क्योंकि कालका जी मंदिर के अब तक के इतिहास में औरतें कभी पुजारी नहीं बनीं.

फोटो- एपी
फोटो- एपी

गोत्र, पवित्रता, काबिलियत, परंपरा जैसे जुमले दे-देकर औरतों को हमेशा मंदिर के गर्भगृह से बाहर रखा गया है. घर के मंदिर में तो सारी पूजा हमारी मां, भाभियां ही करती आई हैं. वहां ये सब बातें क्यों नहीं उठतीं. क्योंकि वहां पैसे का मामला नहीं है. वहां चढ़ावे नहीं मिलते. वहां पदवी नहीं मिलती. सुपीरियॉरिटी का तमगा नहीं मिलता. इसलिए वहां औरतें ही अच्छी लगती हैं.

सबसे खतरनाक बहाना है कि ऐसा ही होता आया है. इस बहाने के बाद से आपके सारे तर्कों की घिग्घी बंध जाती है. आप इसके आगे सवाल करती हैं तो आपको मनमौजी, खुदगर्ज, बदतमीज का खिताब दे दिया जाता है. इनसे कोई पूछे कि जब इंसान अंधेरे में ही रहता आया था तो उसने फिर एक दिन बल्ब क्यों बना लिया. और अगर बल्ब बना भी लिया तो हमने उसे इस्तेमाल करने से इनकार क्यों नहीं कर दिया? आप पैदा होते हैं तो आपमें बदलाव आते हैं. आपके शरीर में भी और समझ में भी. इस समझ को इतना कैसे बदल दिया जाए कि आप अपने मंदिरों में किसी पुजारी के महिला होने पर मुंह न बना लें?

हाईकोर्ट ने सही कहा कि वक्त बदल गया है, औरतों को रोका नहीं जा सकता. और मंदिर में पूजा करने जैसा बेसिक हक तो आप औरतों से नहीं ही छीन सकते. बहरहाल, ये अभी फ़ैसला नहीं है. एक बेसिक सा सवाल है जिसे कोर्ट ने पूछा है. कोर्ट का ऑब्ज़र्वेशन है. फैसले का इंतज़ार है.


 

ये भी पढ़ें:

‘छुट्टे नहीं हैं’ का बहाना नहीं चलेगा, कालका मैय्या पेटीएम ले रही हैं

‘मंदिरों में RSS की शाखा… नहीं चलेगी, नहीं चलेगी’

ये स्कूल नन्हे बच्चों को जान लेना सिखा रहा है

पुरुषों को भी सकता है स्तन का कैंसर

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

प्रशांत भूषण ने कही ये बात, तो कोर्ट बोला- हजार अच्छे काम से गुनाह करने का लाइसेंस नहीं मिल जाता

बचाव में उतरे केंद्र की अपील, सजा न देने पर विचार करें, सुप्रीम कोर्ट ने दिया दो-तीन दिन का वक्त

सुशांत पर सुप्रीम कोर्ट ने CBI जांच का आदेश दिया, महाराष्ट्र के वकील को आपत्ति

कोर्ट ने कहा, सारे काग़ज़ CBI को दे दीजिए.

बिहार : महीनों से बिना सैलरी के पढ़ा रहे हैं गेस्ट टीचर, मांगकर खाने की आ गई नौबत!

इस पर अधिकारियों ने क्या जवाब दिया?

सलमान खान की रेकी करने वाला शार्प शूटर पकड़ा गया

जनवरी में रची गई थी सलमान खान की हत्या की साजिश!

रोहित शर्मा और इन तीन खिलाड़ियों को मिलेगा इस साल का खेल रत्न!

इसमें यंग टेबल टेनिस सेंसेशन का भी नाम शामिल है.

प्रसिद्ध शास्त्रीय गायक पंडित जसराज नहीं रहे

पिछले कुछ समय से अमेरिका में रह रहे थे.

प. बंगाल: विश्व भारती यूनिवर्सिटी में जबरदस्त हंगामा, उपद्रवियों ने ऐतिहासिक ढांचे भी ढहाए

एक फेमस मेले ग्राउंड के चारों तरफ दीवार खड़ी की जा रही थी.

धोनी के 16 साल के क्रिकेट करियर की 16 अनसुनी बातें

धोनी ने रिटायरमेंट का ऐलान कर दिया है.

धोनी के तुरंत बाद सुरेश रैना ने भी इंटरनेशनल क्रिकेट को अलविदा कहा

इंस्टाग्राम पोस्ट के ज़रिए रिटायरमेंट की बात बताई.

धोनी क्रिकेट से रिटायर, फैंस ने बताया, एक जनरेशन में एक बार आने वाला खिलाड़ी

एक इंस्टाग्राम पोस्ट करके विदा ले ली धोनी ने.