Submit your post

Follow Us

महाराष्ट्र में बवाल के बाद अमित शाह ने क्या कह दिया है?

5
शेयर्स

महाराष्ट्र में 21 अक्टूबर के दिन विधानसभा चुनाव हुए थे. 24 अक्टूबर को नतीजे आए थे. उसके बाद 16-17 दिनों तक सरकार नहीं बनी. विधानसभा का कार्यकाल भी खत्म हो गया था. शिवसेना ने बीजेपी से किनारा कर लिया था. वह NCP और कांग्रेस के साथ सरकार बनाने की कोशिशों में जुट गई थी. इन सबके बीच 12 नवंबर के दिन महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लागू हो गया, जिसके बाद शिवसेना ने ये कहा कि उन्हें सरकार बनाने का मौका नहीं दिया गया. कांग्रेस और NCP ने भी इसका विरोध किया. कहा कि सरकार बनाने का मौका नहीं मिला. अब इस मुद्दे पर गृहमंत्री अमित शाह का बयान आया है. उनका कहना है कि अगर किसी के पास नंबर्स हैं, तो वो सरकार बना सकता है. किसी का मौका नहीं छीना गया है.

अमित शाह ने कहा,

‘इससे पहले किसी भी राज्य में इतना वक्त नहीं मिला, 18 दिन का समय दिया गया. राज्यपाल ने राजनीतिक दलों को तभी बुलाया जब विधानसभा का कार्यकाल खत्म हुआ. न तो शिवसेना ने, न तो कांग्रेस और NCP ने और न ही हमने दावा पेश किया. अगर आज भी किसी के पास नंबर्स हैं, तो वो राज्यपाल के पास जा सकता है. गवर्नर ने किसी को भी मौका देने से मना नहीं किया है. कपिल सिब्बल जैसे विद्वान वकील बचकाना तर्क दे रहे हैं कि ‘हमें सरकार बनाने का मौका नहीं दिया गया.’ अरे भई, आपके पास मौका है. बनाओ न सरकार. हम तो शिवसेना के साथ सरकार बनाने के लिए तैयार थे. चुनाव से पहले मैंने और पीएम ने कई बार जनता से कहा था कि अगर हमारा गठबंधन जीतता है, तो देवेंद्र फडणवीस ही सीएम बनेंगे. उस वक्त किसी ने आपत्ति नहीं जताई. अब वो लोग नई मांगें लेकर आ गए, जो हमें मंजूर नहीं थीं. ये कहा जा रहा है कि मौका छीन लिया. अभी भी सबके पास समय है. कोई भी जा सकता है. मैं नहीं चाहता कि मध्यावधि चुनाव हो. जब 6 महीने खत्म होंगे, तब राज्यपाल इस पर उचित विचार करके आगे बढ़ेंगे. लेकिन जो कहते हैं कि हमारे साथ गलत हुआ, हमें मौका नहीं मिला, तो मैं कहता हूं कि मौका आपके पास अभी भी है. नंबर्स है तो बनाओ सरकार.’

आपको बता दें कि शिवसेना ने 56 सीटों पर जीत हासिल की थी. तो वहीं बीजेपी ने 105 सीटें जीती थीं. NCP ने 54 तो कांग्रेस ने 44 सीटों पर कब्जा किया था.


वीडियो देखें:

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...

CAA Protest : यूपी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाने वालों को पुलिस ने क्यों ब्लॉक किया?

यूपी पुलिस की इस कार्रवाई का क्या मतलब है?

जिस अधिकारी पर प्रियंका गांधी ने गला दबाने का आरोप लगाया उसने क्या कहा है

भाई की मौत की खबर मिलने के बाद भी ड्यूटी पर तैनात थीं अफसर.

प्रियंका गांधी का UP पुलिस पर बड़ा आरोप, 'मुझे घेरा और मेरा गला दबाया'

लखनऊ दौरे पर हैं प्रियंका गांधी.

एक महीने में 77 बच्चों की मौत पर राजस्थान के CM बोले- इसमें कोई नई बात नहीं है

अस्पताल में इसी साल अब तक 940 बच्चों की मौत हो गई है.

क्या आर्मी चीफ बिपिन रावत ने अपने ताज़ा बयान से लाइन क्रॉस की है?

CAA प्रोटेस्ट का नाम लिए बग़ैर अपने 'विचार' रखे. फिर सेना के अफसरों से लेकर नेताओं तक ने प्रतिक्रिया दी.

100 लोगों से भरे प्लेन ने उड़ान भरी और तुरंत बाद एक बिल्डिंग से टकराकर क्रैश हो गया

अभी कुछ मौतों की पुष्टि हुई है, आंकड़ा बढ़ता ही जा रहा है.

क्या मुखर्जी नगर में रहने वाले स्टूडेंट्स को जबरन छुट्टी पर भेज रही है दिल्ली पुलिस?

लोग इसे CAA प्रोटेस्ट से जोड़कर देख रहे हैं.