Submit your post

Follow Us

कोरोना के डर से खाजा मियां को कब्रिस्तानों ने जगह न दी, फिर श्मशान में दफनाए गए

हैदराबाद के रहने वाले मोहम्मद खाजा मियां की कार्डियक अरेस्ट से मौत हो गई. परिजन उन्हें दफनाने के लिए एक से लेकर दूसरे कब्रिस्तान के चक्कर लगाते रहे. कुल छह कब्रिस्तान. लेकिन सभी ने उन्हें अपने यहां दफनाने से इनकार कर दिया. वजह? इन कब्रिस्तानों के केयर टेकर को आशंका थी कि खाजा मियां की मौत कोरोना वायरस से हुई है. आखिर में संदीप और शेखर नाम के दो युवकों की मदद से उनका शव हिंदुओं के श्मशान में दफनाया गया.

खाजा मियां के एक रिश्तेदार ने ‘इंडिया टुडे’ से बात की. कहा,

“ऐसा कभी नहीं हुआ कि एक मुस्लिम के शव को हिंदुओं के श्मशान में दफनाया गया हो. लेकिन हमें वहां दफनाने नहीं दिया गया. हमारा गांव यहां से 200 किलोमीटर दूर आंध्र प्रदेश के कुर्नूल में है. ऐसे में हम क्या करते.”

‘इंडिया टुडे’ के हैदराबाद संवाददाता आशीष पांडे के मुताबिक, वक्फ बोर्ड ने शव को दफनाने से इनकार करने वाले सभी छह केयर टेकर के खिलाफ कार्रवाई शुरू कर दी है.

हैदराबाद में कोविड से जुड़ी मौतों के मामलों में शव को दफनाने के लिए एक अलग कब्रिस्तान बनाया गया है.
हैदराबाद में कोविड से जुड़ी मौतों के मामलों में शव को दफनाने के लिए एक अलग कब्रिस्तान बनाया गया है.

हैदराबाद के बाहरी इलाके में अलग कब्रिस्तान

ये पहला मामला नहीं है, जब हैदराबाद में किसी के शव को दफनाने से इनकार किया गया हो. इसी के चलते शहर के बाहरी इलाके में COVID-19 से जुड़ी मौतों के लिए अलग कब्रिस्तान बनाया गया है. हैदराबाद के सांसद और AIMIM प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की कोशिशों के बाद वक्फ की 50 एकड़ ज़मीन पर ये कब्रिस्तान बनाया गया है. इसमें कम से कम 14 ऐसे शवों को दफनाया गया है, जिन्हें स्थानीय कब्रिस्तान में दफनाने की परमिशन नहीं मिली.

इस कब्रिस्तान की देख-रेख में जुटे अहमद सादी ने बताया कि यहां स्वास्थ्य मंत्रालय की गाइडलाइन के हिसाब से शवों को दफनाया जाता है.

आशीष पांडे के मुताबिक, हैदराबाद के मुस्लिम बहुल इलाकों में AIMIM की पहुंच अच्छी है. इन इलाकों में पार्टी लोगों से अपील कर रही है कि इस तरह के विरोध के मामलों में शामिल न हों. साथ ही उन्हें कोरोना वायरस से बचने के तरीकों को लेकर जानकारी दे रही है.


स्टेशन पर मां के शव से चादर हटाते मासूम का वीडियो ‘इंसानियत’ को परेशान कर देगा!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.

दूसरे राज्य इन शर्तों पर यूपी के मजदूरों को अपने यहां काम करने के लिए ले जा सकते हैं

प्रवासी मजदूरों को लेकर सीएम योगी ने बड़ा फैसला किया है.

ऑनलाइन क्लास में Noun समझाने के चक्कर में पाकिस्तान की तारीफ, टीचर सस्पेंड

टीचर शादाब खनम ने माफी भी मांगी, लेकिन पैरेंट्स ने शिकायत कर दी.