Submit your post

Follow Us

PM मोदी ने माफी मांगते हुए तीनों कृषि कानूनों को वापस लिया

केंद्र की मोदी सरकार किसानों के आंदोलन के आगे झुकी गई है. सरकार ने तीनों कृषि कानून वापस ले लिए हैं. शुक्रवार, 19 नवंबर को सुबह PM मोदी ने माफी मांगते हुए तीनों कृषि कानूनों को वापस ले लिया. पीएम मोदी ने राष्ट्र के नाम संबोधन में कहा,

“कृषि में सुधार के लिए तीन कानून लाए गए थे. ताकि छोटे किसानों को और ताकत मिले. सालों से ये मांग देश के किसान और विशेषज्ञ, अर्थशास्त्री मांग कर रहे थे. जब ये कानून लाए गए, तो संसद में चर्चा हुई. देश के किसानों, संगठनों ने इसका स्वागत किया, समर्थन किया. मैं सभी का बहुत-बहुत आभारी हूं.”

पीएम मोदी ने आगे कहा,

मैं देशवासियों से क्षमा मांगते हुए, सच्चे मन से कहता हूं कि शायद हमारी तपस्या में भी कोई कमी रह गई थी. हम अपनी बात कुछ किसान भाइयों को समझा नहीं पाए. आज गुरु नानक जी का प्रकाश पर्व है. आज मैं पूरे देश को ये बताने आया हूं, हमने 3 कृषि कानूनों को वापस करने का निर्णय किया है. हम तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने की संवैधानिक प्रक्रिया जल्द शुरू करेंगे.

पीएम मोदी ने किसानों से अपील करते हुए कहा है,

“आप सभी अपने-अपने घर लौटे, खेत में लौटें, परिवार के बीच लौटें, एक नई शुरुआत करते हैं.”

‘किसानों की परेशानियों को बहुत करीब से देखा’

पीएम मोदी ने संबोधन के दौरान ये भी कहा, “मैंने पिछले कई दशकों तक किसानों की परेशानियों को बहुत करीब से देखा, महसूस किया. जब से मुझे मौका मिला, हमारी सरकार उनकी बेहतरी के लिए काम करने में जुट गई. हम आगे भी उनके बारे में अच्छा सोचेंगे.”

पीएम मोदी ने इस दौरान जानकारी देते हुए यह बताया कि इस महीने के अंत में शुरू होने जा रहे संसद सत्र में, तीनों कृषि कानूनों को वापस करने की संवैधानिक प्रक्रिया को पूरा किया जाएगा.

पीएम मोदी ने अपनी सरकार के काम गिनाए

पीएम नरेंद्र मोदी ने संबोधन के दौरान कहा कि किसानों को उनकी उपज का सही दाम मिले, इसके लिए उनकी सरकार ने कई कदम उठाए हैं. उन्होंने दावा किया कि उनकी सरकार ने पिछले कई दशकों में सबसे ज्यादा फसल खरीदी है.

पीएम के मुताबिक,

“हमारी सरकार ने फसल खरीदने के मामले में दशकों के रिकॉर्ड तोड़ दिए हैं. देश की 1000 से ज्यादा मंडियों को ई-नाम योजना से जोड़कर हमने किसानों को कहीं पर भी अपनी उपज बेचने का एक प्लेटफार्म दे दिया है. कृषि मंडियों के आधुनिकीकरण पर करोड़ों खर्च किए हैं. देश का कृषि बजट पहले के मुकाबले 5 गुना बढ़ गया है. हर वर्ष सवा लाख करोड़ कृषि पर खर्च किया जा रहा है.”


UP चुनाव: मेरठ में ‘लल्लनटॉप अड्डा’ पर भाजपा, सपा और कांग्रेस के नेता कृषि कानूनों पर भिड़ गए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

आपको फर्जी शेयर टिप्स देकर इस परिवार ने करोड़ों का मुनाफा कैसे पीट लिया?

Bull Run कांड में सेबी का फैसला, एक ही परिवार के 6 लोगों पर लगा बैन.

आदिवासी, आंदोलनकारी, पत्रकार और ऐक्ट्रेस, जानिए यूपी में कांग्रेस ने किन चेहरों पर दांव लगाया है?

कांग्रेस की पहली लिस्ट में 50 महिला उम्मीदवार शामिल हैं

इस तस्वीर ने यूपी चुनाव से पहले सपा गठबंधन को लेकर क्या सवाल खड़े कर दिए?

तस्वीर गौर से देखेंगे तो समझ आ जाएगा, हम तो बता ही देंगे.

योगी सरकार को एक और झटका, मंत्री दारा सिंह चौहान ने भी साथ छोड़ा

बीते 24 घंटों के भीतर यूपी के दो कैबिनेट मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया है.

ITR फाइलिंग की डेडलाइन बढ़ी है, लेकिन नाचने से पहले ये खबर पढ़ लो!

सेंट्रल बोर्ड ऑफ डायरेक्ट टैक्सेस ने असल में क्या कहा है?

दिल्ली में प्राइवेट ऑफिस, रेस्टोरेंट और बार पूरी तरह बंद किए गए, छूट किसे मिली है ये जान लो

कोरोना के केस बढ़ने के बीच DDMA की नई गाइडलाइंस जारी.

यूपी में MSP कृषि लागत से ज्यादा नहीं तो BJP इसका ढोल क्यों पीट रही है?

यूपी में MSP की तारीफ़ का सच.

Nykaa का IPO अशनीर ग्रोवर और कोटक महिंद्रा के बीच जंग की वजह कैसे बन गया?

BharatPe के लीगल नोटिस और अशनीर ग्रोवर के 'गाली' वाले ऑडियो पर क्या बोला Kotak?

Xiaomi ने सरकार को कैसे लगा दिया 653 करोड़ का चूना?

Xiaomi भारत में सबसे ज्यादा मोबाइल बेचने वाली चीनी कंपनी है.

नरसिंहानंद का एक और घटिया बयान, 'जिसने एक बेटा पैदा किया, उस मां को औरत मत मानना'

नरसिंहानंद ने कहा, "मुसलमानों से हिंदुओं को मरवाओगे क्या?"