Submit your post

Follow Us

आज आधी रात से पूरे देश में 21 दिन का लॉकडाउन, पीएम बोले- एक तरह से ये कर्फ्यू ही है

कोरोना वायरस के खिलाफ देश ने सबसे बड़ा कदम उठा लिया है. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 24 मार्च की रात आठ बजे देश को संबोधित किया. उन्होंने अगले 21 दिन तक देश में कम्प्लीट लॉकडाउन का ऐलान किया है. साफ-साफ कहा कि ये एक तरह का कर्फ्यू ही है, जो जनता कर्फ्यू से कहीं ज़्यादा सख़्त होगा.

मोदी ने छह दिन में दूसरी बार देश को संबोधित किया. इससे पहले उन्होंने 19 मार्च को देश को संबोधित किया था. तब उन्होंने 22 मार्च को एक दिन का जनता कर्फ्यू लगाने की अपील जनता से की थी.

मोदी ने ये बातें भी कहीं…

# जनता कर्फ्यू सफल रहा. इसके लिए जनता की प्रशंसा. कोरोना वायरस ने आज समर्थ से समर्थ देशों को बेबस कर दिया. वे प्रयास भी कर रहे हैं और संसाधनों की भी कमी नहीं है, लेकिन कोरोना वायरस इतनी तेज़ी से फैल रहा है कि तमाम कोशिशों के बाद भी चुनौती बढ़ती जा रही है.

# दो महीनों के अध्ययन से ये बात निकल रही है कि कोरोना से मुकाबले के लिए एकमात्र उपाय है- सोशल डिस्टेंसिंग. कोरोना से बचने का इसके अलावा कोई रास्ता नहीं. इसके फैलने की सायकल को तोड़ना ही होगा. इसके लिए देश एक बड़ा कदम उठाने जा रहा है.

आज रात 12 बजे से पूरे देश में कम्प्लीट लॉकडाउन रहेगा. ये एक तरह का कर्फ्यू ही होगा. यानी पहले से ज़्यादा सख़्त भी होगा.

# कोरोना वायरस के फैलने की चेन को पूरी तरह तोड़ने के लिए 21 दिन का समय लगता है. इसलिए ये कर्फ्यू 21 दिन तक प्रभावी रहेगा.

# अब इस बीमारी को रोकने का यही एकमात्र तरीका है. हमें घर से बाहर नहीं निकलना है. चाहे कुछ भी हो जाए. हिंदुस्तान को बचाने के लिए, हिंदुस्तान के हर नागरिक को बचाने के लिए ये ज़रूरी है.

# मुझे इस बीच एक संदेश दिखा, जो बिल्कुल सटीक बैठता है. कोरोना यानी ‘को’ई, ‘रो’ड पर, ‘ना’ निकले.

# उन लोगों का सोचिए, जो इन परिस्थिति में भी काम कर रहे हैं. जैसे कि डॉक्टर, नर्स वगैरह, पुलिस, मीडिया.

आपको ये याद रखना है कि कई बार कोरोना से संक्रमित व्यक्ति शुरुआत में बिल्कुल स्वस्थ लगता है. वो संक्रमित है इसका पता ही नहीं चलता. इसलिए ऐहतियात बरतिए, अपने घरों में रहिए.

पहले एक लाख लोग संक्रमित होने में 67 दिन लगे और फिर इसे 2 लाख लोगों तक पहुंचने में सिर्फ 11 दिन लगे और दो लाख संक्रमित लोगों से तीन लाख लोगों तक ये बीमारी पहुंचने में सिर्फ चार दिन लगे.

# यही वजह है कि चीन, अमेरिका, फ्रांस, जर्मनी, स्पेन, इटली-ईरान जैसे देशों में जब कोरोना वायरस ने फैलना शुरू किया, तो हालात बेकाबू हो गए. इस बीच हमारे लिए सकारात्मक बात क्या है? हमारे लिए सकारात्मक बात ये है कि हमारे पास इन देशों से निकले अनुभव हैं.

देश के हेल्थ इंफ्रास्ट्रक्चर को और मजबूत बनाने के लिए केंद्र सरकार ने 15 हज़ार करोड़ रुपए का प्रावधान किया है. इस राशि से कोरोना से जुड़ी टेस्टिंग फेसिलिटीज़, पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्वीपमेंट्स, आइसोलेशन बेड्स, आईसीयू बेड्स, वेंटिलेटर्स और अन्य ज़रूरी साधनों की संख्या तेजी से बढ़ाई जाएगी.

# मुझे भरोसा है कि देश इन बंधनों को समझेगा और विजयी होकर निकलेगा.


PM मोदी ने बताया कि वॉट्सऐप के साथ मिलकर कोरोना वायरस के खिलाफ क्या कदम उठाया है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

लॉकडाउन की वजह से एयर इंडिया के 200 कर्मचारियों की नौकरी चली गई

कोरोना के चलते नौकरियों पर संकट की आशंका जताई गई थी.

कोरोना वायरस : शाहरुख़ ख़ान ने कोविड-19 से जंग में मदद का ऐलान कर दिया है

उनका कौन सा संगठन कैसे काम करने वाला है, जान लीजिए.

लॉकडाउन खत्म होने के बाद सबसे पहले क्या करना चाहते हैं विकी कौशल और दीपिका पादुकोण

21 दिनों का लॉकडाउन 14 अप्रैल तक चलेगा.

क्वारंटीन में लोग घर पर हैं या नहीं, ये पता लगाने के लिए 25 हजार लोगों के फोन ट्रैक करेगी दिल्ली सरकार

कर्नाटक और तेलंगाना तो इससे भी टाइट नियम लेकर आए हैं.

पहले तबलीगी जमात और अब राम नवमी, आस्था के नाम पर भीड़ जुटाने से बाज़ नहीं आ रहे लोग

पश्चिम बंगाल में राम नवमी पर मंदिरों में जुटे हज़ारों लोग.

तबलीगी जमात: महमूद मदनी बोले- सोशल डिस्टेन्सिंग न मानना कत्ल के बराबर है

तबलीगी जमात में शामिल होने वालों से सामने आने की अपील भी की.

90 साल की कोरोना पेशेंट ने वेंटिलेटर लगाने से मना कर दिया, वजह दिल छू लेगी

करीब 10 दिन स्ट्रगल करने के बाद उनकी मौत हो गई.

कोरोना वायरस की चपेट में आया AIIMS का डॉक्टर कपल, पत्नी 9 महीने की प्रेग्नेंट हैं

फीमेल डॉक्टर को AIIMS के आइसोलेशन वॉर्ड में रखा गया है, वहीं उनकी डिलिवरी होगी.

तबलीगी जमात मामले में दर्ज हुई FIR में क्या लिखा है, किन लोगों का नाम हैं?

तबलीगी जमात प्रमुख मौलाना मोहम्मद साद की तलाश जारी है.

14 अप्रैल के बाद ट्रैवल करना है तो टिकट बुक कर सकते हैं या नहीं, रेलवे ने बताया

भारतीय रेलवे ने मामले को लेकर सफाई दी है.