Submit your post

Follow Us

अंतिम संस्कार की फ़ोटोज़ पर जिस फोटोग्राफर को कंगना ने दीपिका का पालतू कहा, उसका जवाब आ गया

विरल भयानी. बॉलीवुड सेलेब्स की तस्वीरें खींचने वाले जाने-माने फोटोग्राफर हैं. इस वक्त खबरों में हैं. क्योंकि उन्होंने दीपिका पादुकोण और कंगना के लिए कई सारे ट्वीट किए हैं. क्यों किए हैं? इसका कनेक्शन एक्टर सुशांत सिंह राजपूत से है.

दरअसल, सुशांत के जाने के बाद से ही पैपराजी लगातार उनसे जुड़ी तस्वीरें और वीडियो डाल रहे हैं. कुछ ने अंतिम संस्कार से जुड़े वीडियो भी डाले थे. ऐसा करने वाले एक फोटोग्राफर योगेन शाह थे. उन्होंने वीडियो शेयर करते हुए लिख दिया था कि कोई उसका इस्तेमाल उनकी परमिशन के बिना न करे. इस पर दीपिका ने उन्हें काफी कड़ा जवाब दिया था. कहा था,

‘सही बात. लेकिन क्या ये आपके लिए सही है कि आप ये वीडियो रिकॉर्ड करें और न केवल इसे पोस्ट करें, बल्कि शायद इसको मोनेटाइज भी कर डालें (मोनेटाइज का शॉर्ट में मतलब वीडियो से पैसे कमाना), वो भी उनकी और उनके परिवार वालों की लिखित सहमति के बिना.’

Deepika Padukone Tweet
योगेन का पोस्ट और दीपिका का कमेंट. (फोटो- इंस्टाग्राम/deepikapadukone_arabfc)

इसके बाद कंगना की डिजिटल टीम ने दीपिका के लिए ट्वीट किया था. लिखा था,

‘दीपिका ने तुरंत ही योगेन शाह पर गुस्सा दिखा दिया, जो अक्सर हिंदी मीडिया के लिए काम करते हैं. और उन कम लोगों में शामिल थे, जिन्होंने कंगना को बैन नहीं किया था. उनके पालतू पैपराजी मानव मंगलानी और विरल भयानी का क्या हुआ? उन्हें (दीपिका को) तब बुरा नहीं लगता, जब ये लोग सुशांत के वीडियो को मोनेटाइज करते हैं?’

Kangana
कंगना का जवाब.

एक्ट्रेस की बातों पर फोटोग्राफर का जवाब

इन दोनों एक्ट्रेस की बातों पर विरल ने जवाब दिया. उन्होंने 23 जून को चार-पांच ट्वीट किए. कहा,

‘बहुत सारे टीवी चैनल और मीडिया हाउस भी अंतिम संस्कार का लाइव कवरेज कर रहे थे. और उनमें से कोई भी गाइडलाइन्स का पालन नहीं कर रहा था. लेकिन आखिर में पैपराजियों पर ही निशाना साधा जाता है. इंस्टाग्राम को मोनेटाइज नहीं किया जा सकता, लेकिन किसी के अंतिम संस्कार को मोनेटाइज करना भी गिरी हुई बात है. आपको क्या लगता है बासू चटर्जी के अंतिम संस्कार को कवर करके मैंने पैसे बनाए?’

आगे लिखा,

‘जब आप अपनी पार्टियों में लोगों को बुलाते हैं, तो वो ड्रिंक्स के लिए आते हैं, लेकिन जब उसी व्यक्ति की मौत हो जाती है, तब क्या? ये बहुत ही मतलबी इंडस्ट्री है. मैंने कई सारे अंतिम संस्कारों को कवर किया है, लेकिन केवल रज़ा मुराद और अशोक पंडित सम्मान देने के लिए आते हैं. मैं हमेशा आलोचना और निगेटिविटी के लिए तैयार हूं, क्योंकि ये सब मेरी मदद ही करते हैं. मैं अकेले ही अपने सोशल मीडिया अकाउंट को हैंडल करता हूं. इसलिए कई सारी गलतियां भी हो जाती हैं, लेकिन मेरे फॉलोअर्स हमेशा मुझे सुधार देते हैं. और हां मेरे पोस्ट अजीब होते हैं और हमेशा ‘अटेंशन सीकिंग (ध्यान आकर्षित करने की चाहत रखने वाले)’ होते हैं, लेकिन मैं ऐसा नहीं हूं.’

इसके अलावा विरल ने ‘बॉलीवुड लाइफ’ से भी बात की. उनसे दीपिका और कंगना के कमेंट्स को लेकर सवाल किया गया, तब उन्होंने कहा,

‘दीपिका और कंगना ने सही काम किया. प्रतिक्रिया देना इंसान का काम है. वो मेरे दुश्मन बनने की कोशिश नहीं कर रहे थे, ये बहुत ही नेचुरल बात थी और मैं इसकी सराहना भी करता हूं. मैं खुद भी एक इंसान हूं और जब मैं इस तरह की चीज़ें कवर करता हूं, तो भावनाओं के साथ करता हूं. और लोगों से भी जुड़ता हूं. जब कोई पार्टी होती है, हर कोई जाता है, लेकिन जब किसी की मौत होती है, तो कोई नहीं जाता. मैंने हमेशा केवल रज़ा मुराद और अशोक पंडित को ही ऐसी जगहों पर देखा है, बाकी सेलेब्स नहीं आते.’

आगे विरल ने कहा,

‘पहले इस तरह की तस्वीरें डालने पर (शवों की तस्वीरें) ज्यादा कोई दिक्कत नहीं होती थी. लेकिन पिछले कुछ बरसों में लोग ऐसी चीज़ों को लेकर ज्यादा इमोशनल हो गए. अब, अगर ये और ज्यादा हो जाता है, तो हम अंतिम संस्कार को कवर करना ही बंद कर देंगे. एक फोटोग्राफर के तौर पर, हम भी ऐसी घटनाओं से इमोशनली कनेक्ट होते हैं. एक अंतिम संस्कार बहुत दुख वाली बात है. ये किसी भी तरह से पैसे बनाने की बात नहीं है. अगर मुझे पैसे ही बनाने होते, तो मैं ग्लैमरस शूट्स करता, बहुत सारे रास्ते हैं, जिससे हम पैसे बना सकते हैं, फॉलोअर्स और लाइक्स बढ़ा सकते हैं.’

विरल ने आगे बताया कि अंतिम संस्कार की तस्वीरें लेते वक्त वो किस बात का ख्याल रखते हैं. उन्होंने कहा,

‘कई बार हम श्मशान घाट के अंदर भी नहीं जाते. हर बार हम परिवार वालों से परमिशन लेते हैं. कई बार मिल जाती है, कई बार नहीं. मैं जानता हूं कि अंतिम संस्कार की तस्वीरों और वीडियो को ज्यादा व्यूज़ मिलते हैं. लेकिन आप इसे मोनेटाइज नहीं कर सकते. इस तरह के शब्द का इस्तेमाल करना भी अपमानजनक है. लोग सोचते हैं कि पैपराजी बहुत नीचे गिर गए हैं. ऐसा नहीं है. हम गाइडलाइन्स का पालन करते हैं. हम कोशिश करते हैं कि शव का क्लोज-अप न लें. मैंने ज्यादा से ज्यादा क्या किया, एंबुलेंस का वीडियो डाला. परिवार वालों की फोटो, वीडियो नहीं थी. मैंने केवल सेलेब्स को ही दिखाया. परिवार वालों में से किसी को भी नहीं.’

ये सारी बातें विरल ने कही. उनका कहना है कि अगर ज़रूरत पड़ी तो वो अंतिम संस्कार को कवर करना ही छोड़ देंगे. बार-बार इस बात पर फोकस किया कि पैपराजी अंतिम संस्कार की तस्वीरों से पैसे नहीं बनाते.


वीडियो देखें: सुशांत की अंतिम यात्रा के वीडियो पर दीपिका ने फोटोग्राफर की बोलती बंद कर दी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला हुआ तो ममता बनर्जी ने उलटा क्या आरोप मढ़ दिया?

बंगाल में केंद्रीय मंत्री के काफिले पर हमला हुआ तो ममता बनर्जी ने उलटा क्या आरोप मढ़ दिया?

लगातार हो रही हिंसा की जांच के लिए होम मिनिस्ट्री ने अपनी टीम बंगाल भेज दी है.

पंजाबी फ़िल्मों के मशहूर एक्टर-डायरेक्टर सुखजिंदर शेरा का निधन

पंजाबी फ़िल्मों के मशहूर एक्टर-डायरेक्टर सुखजिंदर शेरा का निधन

कीनिया में अपने दोस्त से मिलने गए थे, वहां तेज बुखार आया था.

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

सलमान खान ने मदद मांगने वाले 18 साल के लड़के को यूं दिया सहारा!

कुछ दिन पहले ही कोरोना से अपने पिता को गंवा दिया.

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.