Submit your post

Follow Us

पतंजलि का कोरोनिल लॉन्च करने वाले डॉक्टर ने दवा की सबसे बड़ी गड़बड़ी बता दी!

पतंजलि आयुर्वेद ने ‘कोरोना की दवा’ बना लेने का दावा किया. दवा है ‘कोरोनिल’. दवा बनते ही आयुष मंत्रालय ने कहा कि इस दवा का प्रचार और इसकी बिक्री नहीं कर सकते हैं. साथ ही उत्तराखंड सरकार ने इसकी लाइसेंसिंग पर सवाल उठाए. 

अब ये बात सामने आ रही है कि इस दवा के ट्रायल के समय मरीज़ों को बस अकेले कोरोनिल ही नहीं दी गयी, दूसरी दवाएं भी दी गयीं. और बड़ी बात ये है कि ये जानकारी किसी और ने नहीं, नैशनल इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज़ (NIMS), जयपुर के डॉक्टर गणपत देवपुरा ने दी है, जो ख़ुद पतंजलि के कोरोनिल के लॉन्च के समय मौजूद थे. 

लॉन्च के समय डॉ. देवपुरा ने कोरोनिल के ट्रायल के बारे में बहुत सारी जानकारी दी थी. कहा था कि मरीज़ों को कोरोनिल दिया गया. लेकिन इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत करते हुए देवपुरा ने बताया,

“लेकिन अगर किसी मरीज़ में कम या हल्के फुल्के लक्षण दिखाई दे रहे थे, तो हम उन्हें उन लक्षणों के लिए दवा दे रहे थे.”

यानी पतंजलि की कोरोनिल के अलावा मरीज़ों को अंग्रेज़ी दवा भी दी गयी. इसी बात को लेकर हमने पतंजलि से पूछा भी था कि ट्रायल में शामिल मरीज़ों को और भी दवाएं दी गयीं, जवाब नहीं मिला. 

इस सबके अलावा राजस्थान सरकार ने भी कोरोनिल के ट्रायल पर सवाल उठाए हैं. कहा है कि उनके राज्य में कोरोनिल के ट्रायल के पहले राज्य सरकार से परमिशन लेनी चाहिए थी, लेकिन पतंजलि ने ऐसा नहीं किया. राज्य के अतिरिक्त मुख्य सचिव (स्वास्थ्य) रोहित कुमार सिंह ने इंडियन एक्सप्रेस से कहा,

“नियम ये है कि सबसे पहले राज्य सरकार को ऐसे किसी ट्रायल को सूचना देनी होती है. हम इस आवेदन को राज्य के क्लिनिकल ट्रायल कमिटी और एथिक्स कमिटी को देते हैं. इन जगहों से अनुमति मिल जाने के बाद हम ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया (DCGI) और ICMR को लिखते हैं. वहां से परमिशन मिल जाने के बाद ही दवा का क्लिनिकल ट्रायल किया जा सकता है. राज्य सरकार के पास इस ट्रायल को लेकर कोई रिक्वेस्ट नहीं आयी, न ही ट्रायल की कोई जानकारी थी.”

हमने ट्रायल की परमिशन ICMR से लेने के बारे में भी पतंजलि से सवाल पूछे थे, पतंजलि ने उन सवालों के उत्तर भी नहीं दिए. 

लेकिन NIMS के कुलपति डॉ. बीएस तोमर ने कहा है कि उनके पास सबकुछ की अनुमति थी. तोमर कोरोनिल के लॉन्च के समय मौजूद थे. उन्होंने इंडिया टुडे से कहा,

“ट्रायल के पहले हमने सबकुछ की परमिशन ले ली थी. हमारे पास क्लीनिकल ट्रायल रजिस्ट्री ऑफ़ इंडिया (CTRI) की अनुमति है, जो ICMR का ही अंग है. मेरे पास परमिशन दिखाने के सारे काग़ज़ भी हैं. हमने राजस्थान के स्वास्थ्य विभाग को भी 2 जून को सूचित कर दिया था.”


कोरोना ट्रैकर :

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

कुत्तों ने बकरी को काटा तो बकरीवाले ने पूरे गांव के कुत्तों से बदला ले लिया

और 40 कुत्तों के साथ ऐसा करने के बाद फ़रार

इस वजह से CSK में शामिल हुए धोनी, बाकी टीमों के साथ हो गया खेल!

विराट को लेकर भी दिल्ली से ऐसी ही भूल हुई थी!

12 अगस्त तक का ट्रेन टिकट बुक करा चुके लोगों को झटका लगा है

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच अभी सभी ट्रेनों के चलने में और वक्त लगेगा.

भारत बोला- चीन की इन हरकतों से सीमा पर तनाव और गलवान घाटी में हिंसक झड़प हुई

विदेश मंत्रालय का कहना है कि चीन ने समझौतों का पालन नहीं किया.

बिहार MLC चुनाव: कांग्रेस ने सीनियर नेता को टिकट दिया, लेकिन अंत में प्रत्याशी बदल क्यों दिया?

चुनाव में नामांकन का आज आखिरी दिन था.

कान फेस्टिवल में इंडिया से जो फिल्म दिखाई गई, उसकी असली कहानी रोंगटे खड़े कर देती है

25 जून को प्रीमियर हुआ फिल्म 'माई घाट: क्राइम नंबर 103/2005' का.

भारत में वर्ल्ड कप खेलने से पहले BCCI से क्या मांग रहा है PCB?

ICC के जरिए BCCI तक पहुंची PCB की मांग.

क्या 'हाफ गर्लफ्रेंड' में पहले सुशांत काम कर रहे थे, जो बाद में अर्जुन कपूर को मिल गई?

चेतन भगत का एक पुराना ट्वीट वायरल हो रहा है, जिससे यही लग रहा है.

अंतिम संस्कार की फ़ोटोज़ पर जिस फोटोग्राफर को कंगना ने दीपिका का पालतू कहा, उसका जवाब आ गया

दीपिका ने एक फोटोग्राफ़र को फटकार लगाई थी, अब विरल भयानी ने बताया कि अंतिम संस्कार की तस्वीरों से क्या मिलता है?

क्या सुशांत के ट्विटर हैंडल से कुछ ट्वीट डिलीट हो गए?

मुंबई पुलिस ये पूछने ट्विटर वालों के पास पहुंची है.