Submit your post

Follow Us

'द गॉडफादर' ने इस्लामिक पाकिस्तान की राजनीति में बवाल मचा दिया

700
शेयर्स

जब से पनामा पेपर्स लीक्स में पाकिस्तानी पीएम नवाज़ शरीफ का नाम आया है तब से वहां किसी और टॉपिक पर बात कम, पनामा पर ज़्यादा हो रही है. 20 अप्रैल को फैसला तो आ गया, लेकिन फैसला सुनाने में सुप्रीम कोर्ट के जज ने ‘द गॉडफादर’ उपन्यास की एक ऐसी बात दोहरा दी कि बवाल हो गया. इस उपन्यास पर 1972 में रिलीज़ हुई द गॉडफादर को गैंगस्टर और माफिया पर आधारित फिल्मों का सरताज कहा जाता है. इस फिल्म को फ्रांसिस फोर्ड कोपोला ने डायरेक्ट किया था.

पर पनामा लीक्स मामले में जज ने ये बात क्यों कही, पढ़िए ये रिपोर्ट.

पाकिस्तान के जस्टिस आसिफ सईद खोसा ने मारियो पूजो के मशहूर उपन्यास का कोट दोहराया, ‘हर बेहिसाब रईसी के पीछे कोई न कोई गुनाह होता है.’ खोसा ने आगे कहा, ‘ये एक तंज़ और सरासर इत्तेफाक है कि मौजूदा केस भी बाल्जाक की इस बात के इर्द-गिर्द घूमता है.’

ये बातें कहकर सुप्रीम कोर्ट ने अपने फैसले में सुनाया कि नवाज़ शरीफ का पद अयोग्य ठहराने के लिए पर्याप्त सबूत नहीं हैं. ये तो नवाज़ के लिए राहत की खबर थी, लेकिन उनके खिलाफ लगे करप्शन के इल्ज़ाम की जांच के लिए जॉइंट इनवेस्टिगेशन टीम बनाने को बोल दिया. जो दो महीने में रिपोर्ट देगी.

nawaz-sharif_647_080215110437

इस कोट को दोहराने में बवाल क्या है?

‘द गॉडफादर’ के इस कोट पर विपक्षी पार्टियां करप्शन के इल्ज़ाम और मज़बूती से लगा रही हैं. पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के अध्यक्ष इमरान खान ने इस कोट के ज़रिए पीएम नवाज़ शरीफ के खिलाफ अपना अभियान तेज़ कर दिया. कहा जा रहा है कि उनकी कामयाबी के पीछे पनामा पेपर्स लीक्स में सामने आया करप्शन है.

इससे बचाव के लिए सत्ता पक्ष ने भी धार्मिक एंगल जोड़ दिया. क्योंकि भावनाएं वो चीज़ हैं जिनके ज़रिए बड़ी से बड़ी मुश्किल को भी उस जाल में फंसाया जा सकता है. पंजाब प्रांत के कानून मंत्री हैं राणा सनाउल्ला. उन्होंने कहा, ‘पनामा फैसले में गॉडफादर को कोट किया जाना परेशान करने वाला है. हमें कुरान से मार्गदर्शन लेना चाहिए ना कि गॉडफादर से. ये टिप्पणी हमें दुःख पहुंचाती है.’

मंत्री ने कहा कि पीएम नवाज़ शरीफ की फैमिली सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी के खिलाफ समीक्षा याचिका दायर करने पर विचार कर रही है. हालांकि उनकी पार्टी के कुछ नेताओं का कहना है कि इस बारे में अपील नहीं करनी चाहिए. क्योंकि ये कोट सुर्खियां बनेंगे और विपक्ष को मौका मिलेगा. इससे जॉइंट इन्वेस्टीगेशन में बात उनके खिलाफ जा सकती है.

आखिर क्या है इस फिल्म में जो नवाज़ की पार्टी इस कोट से बौखला गई?

Behind every great fortune there is a crime.
ये कोट असल में फ्रेंच लेखक बाल्जाक का है. जिसका द गॉडफादर में इस्तेमाल हुआ है. और इसी कोट को पाकिस्तानी जज ने फैसला सुनाने से पहले दोहराया.

द गॉडफादर ने रिलीज़ होने के बाद कमाई के सारे रिकॉर्ड तोड़ दिए थे. यह फिल्म 1945 से 1955 के बीच न्यूयॉर्क के एक माफिया की फैमिली पर आधारित फिक्शन है. विटो कार्लियोन (मार्लन ब्रांडो) इस फैमिली का मुखिया होता है. वह गॉडफादर के नाम से जाना जाता है और उससे सब डरते हैं. अपने धनबल, बाहुबल और राजनीतिक पकड़ की वजह से वो ताकतवर हो जाता है. उसके अपने नियम हैं. उसके खुद के कानून हैं. और न्याय के भी अपने ही तरीके हैं. वह पैसे लेता है और बदले में संरक्षण देता है. बात न मानने वालों को वो मरवा देता है. हर काम के लिए लोग उसके पास आते हैं.

नवाज़ शरीफ और मरियम नवाज़. (Source: pakistan today)
नवाज़ शरीफ और बेटी मरियम नवाज़. (Source: pakistan today)

नवाज़ शरीफ पर इल्ज़ाम

पनामा पेपर्स लीक के जरिये खुलासा हुआ था कि प्रधानमंत्री शरीफ के दो बेटों हसन और हुसैन के अलावा उनकी एक बेटी मरियम ने विदेश में खाते खोले और कंपनियां बनाई हैं, जिसमें 2.5 करोड़ रुपये का निवेश किया गया है. कर चोरी का बड़ा मामला पनामा पेपर्स से सामने आया. ये इल्ज़ाम उसी तरह से मेल खाते हैं जैसे गॉडफादर में डॉन का अपनी फैमिली के लिए दिखाया गया है.

इसके अलावा नवाज शरीफ पर पाक सरकार के एक हजार करोड़ रुपये के हेर-फेर करने का भी आरोप है और शरीफ फैमिली की कुल जायदाद चार हजार करोड़ रुपये है. बताया जाता है कि नवाज ने गलत तरीके से ये रकम जुटाई थी. पाकिस्तान के कई बड़े शहरों में भी उनकी गैरकानूनी प्रॉपर्टी है.

क्या बला है पनामा पेपर्स?

पनामा पेपर्स के नाम से कुछ दस्तावेज लीक हुए. इनको सामने लाने में मुख्य भूमिका अमेरिका के एक एनजीओ खोजी पत्रकारों के अंतरराष्ट्रीय महासंघ (ICIJ) की है. इनके मुताबिक इन्होंने उन दस्तावेजों की गहरी छानबीन की, जो इन्हें किसी अज्ञात सोर्स ने उपलब्ध करवाए थे. जांच में ढेरों फिल्मी और खेल जगत की हस्तियों के अलावा लगभग 140 राजनेताओं, अरबपतियों की छिपी संपत्ति का खुलासा करने का दावा किया गया. इनमें नवाज़ शरीफ के अलावा आइसलैंड के प्रधानमंत्री, यूक्रेन के राष्ट्रपति, सऊदी अरब के राजा और डेविड कैमरन के पिता का नाम भी शामिल था.

गॉडफादर के और डायलॉग भी मशहूर हैं:

मेरे पिता ने मुझे बहुत कुछ सिखाया, अपने दोस्तों को करीब रखो. मगर अपने दुश्मनों को और ज्यादा करीब रखो.

आत्मविश्वास खामोश होता है, असुरक्षा चीखती है.

अपने परिवार के बाहर किसी को यह मत जानने दो कि तुम क्या सोच रहे हो.

ये भी पढ़ें:

उम्र 70 है तो क्या, इस औरत को मॉडलिंग से परहेज नहीं

ट्रंप के घर में घुस कर इसने जो कहा वो आज तक कोई नहीं कह पाया

‘अगर उनके पास दाउद इब्राहिम है, तो हमारे पास अरुण गवली है’

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

पाकिस्तान से प्याज़ खरीदने की तैयारी में भारत, किसान बोले- ये ठीक नहीं

प्याज़ की कीमतें लगातार बढ़ रही हैं.

इमरान खान: इक्कीसवीं सदी के वो कोलंबस, जिन्होंने 11 नए देश खोज डाले हैं

पहले आती थी हर बात पर हंसी...

बैन के बावजूद होर्डिंग लगाया, स्कूटी चला रही लड़की पर गिरा, संभलने से पहले ट्रक ने कुचल दिया

नेता के बेटे की शादी का होर्डिंग था.

अरे बाप रे! बुड्ढा बनकर देश से भाग रहे इस बंदे ने तो बहुत बड़े-बड़े कांड किए हैं

फर्जीवाड़े की 'थोक की दुकान' है ये!

बच्चा बोल रहा था, 'मेरे चाचा को छोड़ दो', यूपी पुलिस ने गाड़ी का कागज़ न मिलने पर लात-घूंसों से पीट दिया

फिर कार्रवाई क्या हुई?

खुश तो बहुत होंगे अमिताभ, KBC में उस डॉक्टर से मिले जिसने 35 साल पहले जान बचाई थी

इंतेहा हो गई....

चंकी पांडे ने साजिद खान के बारे में ये बात बोलकर पूरे मीटू मूवमेंट की आत्मा मार दी

आमिर खान के आंखों की नींद क्या गायब हुई, इंडस्ट्री की आंखों का तो पानी ही चला गया.

गज़ब! इन श्रद्धालुओं ने कुछ अच्छा करने के लिए गणपति विसर्जन की रैली तक रोक दी

'श्रद्धा' के साथ 'सबूरी' भी जुड़ जाए तो ये होता है.

4,6,8,10,12... दिल्ली में ऑड-ईवन दोबारा

जान लीजिए कब से लागू हो रहा है?

चुनाव जीतने के लिए हेटस्पीच फैला रहे थे नेतन्याहू, फेसबुक ने सस्पेंड किया अकाउंट

इज़राइल में 6 महीने के अंदर दोबारा चुनाव हो रहे हैं.