Submit your post

Follow Us

पालघर लिंचिंग मामले में जिस व्यक्ति से पुलिस ने पूछताछ की, उसने ख़ुदकुशी कर ली!

16 अप्रैल को महाराष्ट्र के पालघर में दो साधुओं और उनके ड्राइवर की लिंचिंग कर दी गई. यह हादसा कुछ पुलिस वालों के सामने हुआ था, जो उन लोगों को भीड़ से बचाने में नाकाम रहे. इसके बाद कई पुलिस वाले सस्पेंड हुए. कासा पुलिस स्टेशन के पूरे स्टाफ का ट्रांसफर कर वहां दूसरे स्टाफ लाए गए थे. क्रिमिनल इंवेस्टिगेशन डिपार्टमेंट (CID) मामले की जांच कर रहा है. इस बीच वहां एक व्यक्ति की संदिग्ध आत्महत्या ने स्थिति को गंभीर बना दिया है.

कोई सुसाइड नोट नहीं मिला  

व्यक्ति का नाम वीनस धर्मा धांगड़ा. इनकी उम्र थी 32 साल. ये दिवशी-चिंचपाड़ा के रहने वाले थे. CID ने इनसे पालघर लिंचिंग मामले में पूछताछ की थी. शनिवार शाम उन्हें कासा में एक पेड़ पर नायलॉन की रस्सी से लटका हुआ पाया गया.

कासा पुलिस स्टेशन के असिस्टेंट पुलिस इंसेप्क्टर सिद्धवा जयभाए ने बताया :

“CID ने लिंचिंग मामले में पूरे गांव से पूछताछ की थी. धांगड़ा से लिंचिंग में उसके संदिग्ध रोल के लिए अलग से पूछताछ नहीं की गई थी. हमें अभी आत्महत्या के पीछे का कारण नहीं पता, क्योंकि घटनास्थल से कोई नोट बरामद नहीं हुआ है. हमने दुर्घटनावश मृत्यु की रिपोर्ट दर्ज कर ली है. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के आने का इंतज़ार है. हमने रस्सी को भी अपने कब्ज़े में ले लिया है.”

धांगड़ा के परिवार के सदस्यों का स्टेटमेंट रिकॉर्ड करवाना जाना बाकी है. पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि धांगड़ा इस मामले के आरोपियों में से नहीं था. वह उन गांव वालों में से था, जिन्हें छानबीन कर रही पुलिस टीम द्वारा पूछताछ के लिए बुलाया गया था.   

आपको बता दें कि दो साधु अपने ड्राइवर के साथ सूरत जा रहे थे. सिल्वासा पोस्ट से वापस मोड़ दिए जाने पर उन्हें कोई दूसरा रास्ता लेना पड़ा था. इस नए रूट में वे गढ़चिंचले गांव से निकल रहे थे, तब गांव वालों ने उन्हें रोक लिया. शुरुआती छानबीन में पता चला कि एक अफवाह फैली हुई थी कि कुछ लोगों का गिरोह बच्चों को किडनैप करने के लिए आसपास के गांवों में घूम रहा है. जब साधु वहां से निकल रहे थे, तो उन पर बच्चों के किडनैपर होने का शक करते हुए उनकी लिंचिंग कर दी गई.


वीडियो देखें: पालघर लिंचिंग स्पॉट पर जा रही पुलिस 13 किलोमीटर की दूरी पर फंस गई थी!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी मां को हुआ कोरोना इंफेक्शन, दिल्ली के अस्पताल में भर्ती

बीते कुछ दिनों से दोनों की तबीयत खराब थी.

बिहार: अमित शाह ने वर्चुअल रैली में तेजस्वी को घेरा, कहा-लालटेन राज से एलईडी युग में आ गए

तेजस्वी यादव ने रैली पर 144 करोड़ खर्च करने का आरोप लगाया.

गर्भवती ने 13 घंटे तक आठ अस्पतालों के चक्कर लगाए, किसी ने भर्ती नहीं किया, मौत हो गई

महिला की मौत के बाद अब जिला प्रशासन जांच की बात कर रहा है.

दिल्ली के सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में अब सिर्फ दिल्ली वालों का इलाज होगा

दिल्ली के बॉर्डर खोले जाने पर भी हुआ फैसला.

लद्दाख में तनाव: भारत-चीन सेना के कमांडरों की मीटिंग में क्या हुआ, विदेश मंत्रालय ने बताया

6 जून को दोनों देशों के सेना के कमांडरों की मीटिंग करीब 3 घंटे तक चली थी.

पहले से फंसी 69000 शिक्षक भर्ती में अब पता चला, रुमाल से हो रही थी नकल!

शुरू से विवादों में रही 69 हजार शिक्षक भर्ती में जुड़ा एक और विवाद

'निसर्ग' चक्रवात क्या है और ये कितना ख़तरनाक है?

'निसर्ग' नाम का मतलब भी बता रहे हैं.

कोरोना काल में क्रिकेट खेलने वाले मनोज तिवारी ‘आउट’

दिल्ली में हार के बाद बीजेपी का पहला बड़ा फैसला.

1 जून से लॉकडाउन को लेकर क्या नियम हैं? जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब

सरकार ने कहा कि यह 'अनलॉक' करने का पहला कदम है.

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.