Submit your post

Follow Us

भारत ने चीनी कनेक्शन वाला जो ऐप बैन नहीं किया, वो पाकिस्तान ने कर डाला

‘ये पबजी वाला है क्या?’

– नरेंद्र मोदी, भारत के प्रधानमंत्री

भारत में टिकटॉक समेत 59 चायनीज ऐप्स बैन कर दिए गए हैं. इस बीच PUBG गेम को भी बैन करने की बात सोशल मीडिया वाले कर रहे हैं. PUBG को फैलाकर कहें तो इसका नाम PlayerUnknown’s Battlegrounds है. वैसे तो ये साउथ कोरिया का गेम है लेकिन इसका एक कनेक्शन चीन से भी है. भारत में बैन वाली मांग चल रही थी कि पड़ोसी देश पाकिस्तान ने ऐसा कर भी दिया.

पाकिस्तान ने इस भयंकर फेमस गेम पर अस्थायी तौर पर बैन लगा दिया है. वजह बताई है कि बच्चों और यूजर्स पर इसका निगेटिव असर पड़ रहा है. लाइव मिंट के मुताबिक, पाकिस्तान टेलीकम्युनिकेशन अथॉरिटी (PTA) ने ट्विटर पर लिखा,

“PTA को PUBG के खिलाफ कई शिकायतें मिलीं, जहां कहा गया कि गेम लत लगाने वाला, समय की बर्बादी करने वाला है. और इसका बच्चों के शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है.”

‘सुसाइड के कई मामले आए’

टेलीकॉम अथॉरिटी ने दावा किया कि ये नया कदम तब उठाया गया, जब लोगों से कई शिकायतें मिलीं. PTA की तरफ से इस पर भी ज़ोर दिया गया कि PUBG की वजह से कई सुसाइड भी हुए हैं. PTA ने कहा,

“लाहौर हाई कोर्ट ने भी PTA को निर्देश दिया है कि मामले को देखें और शिकायतें सुनने के बाद इस पर फैसला करें. इस संबंध में 9 जुलाई, 2020 को सुनवाई होगी.”

पाकिस्तान के डॉन अखबार की एक रिपोर्ट के मुताबिक, 24 जून को 16 साल के एक लड़के ने हंजरवाल इलाके में फांसी लगा ली थी क्योंकि पबजी में उसका मिशन फेल हो गया था. पुलिस के हवाले से कहा गया कि मोहम्मद जकारिया नाम के लड़के ने ये कदम उठा लिया क्योंकि वो टास्क पूरा नहीं कर पाया. डॉन के मुताबिक, सद्दार डिवीजन एसपी ऑपरेशंस गज़नफार सैयद ने कहा,

हमें उसके शव के साथ मोबाइल फोन मिला, जिस पर पबजी गेम खुला हुआ था. हमने तुरंत जांच के लिए फॉरेंसिक साइंस एजेंसी को बुलाया.

पबजी का चीन कनेक्शन

पबजी एक सरवाइवल गेम है, जिसे 2017 में साउथ कोरिया की ब्लूहोल कंपनी ने डेवलप किया था. बाद में कंपनी का नाम पबजी कॉरपोरेशन हो गया. इस गेम का आधार आयरलैंड के ब्रेंडन ग्रीन का बनाया गेम DayZ: Battle Royale था. ब्रेंडन ग्रीन ने ही बाद में कंपनी के लिए पबजी डिजाइन किया.

लेकिन चीन की एक कंपनी है. टेंसेंट. ये साउथ कोरिया की पबजी कॉरपोरेशन की पार्टनर है. चीन वाली कंपनी ने पबजी का मोबाइल वर्जन PUBG MOBILE बनाया है. इसलिए मोबाइल ऐप की वजह से इसे चायनीज ऐप कहा जाता है. टेंसेंट दुनिया की सबसे बड़ी गेम बनाने वाली कंपनी है. कॉल ऑफ ड्यूटी: मोबाइल, फोर्टनाइट जैसे गेम या तो इसने बनाए या इनमें इसकी हिस्सेदारी है. टेंसेंट की पबजी में हिस्सेदारी कितनी है, ये नहीं बताया गया है लेकिन साल 2019 में उसे इस गेम से 950 करोड़ रुपए की कमाई हुई.


पबजी जैसे गेम खेलने वालों, कहीं आपके साथ ही खेल न हो जाए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

मलेरिया वाली जिस दवा को कोरोना में जान बचाने के लिए इस्तेमाल कर रहे, वो उल्टा काम कर रही है?

हाईड्रॉक्सीक्लोरोक्विन पर चौंकाने वाली रिसर्च!

इस साल के आख़िर तक मिलने लगेगी कोरोना की 'मेड इन इंडिया' वैक्सीन!

भारत बायोटेक के अधिकारी ने क्या बताया?

'कोरोनिल' पर पतंजलि के आचार्य बालकृष्ण पूरी तरह यू-टर्न मार गए!

पतंजलि का दावा था कि 'कोरोनिल' दवा कोरोना वायरस ठीक करने में कारगर होगी.

चीन के ऐप तो बैन हो गए, पर उन भारतीयों का क्या जो इनमें काम करते हैं

चीनी ऐप के कर्मचारियों में घबराहट है.

चीनी ऐप पर बैन के बाद चीन ने भारत के बारे में क्या बयान दिया है?

भारत को कैसी जिम्मेदारी याद दिलाई चीन ने?

लगभग 16 मिनट के राष्ट्र के नाम संदेश में नरेंद्र मोदी ने क्या काम की बात की?

संदेश का सार यहां पढ़िए.

भारत सरकार के चाइनीज़ ऐप बंद करने के स्टेप पर TikTok ने चिट्ठी में क्या लिखा?

अपने यूज़र्स के बारे में भी कुछ कहा है.

PM CARES के तहत बने देसी वेंटिलेटर इस हाल में मिले कि लौटाने की नौबत आ गई

और ख़राब वेंटिलेटर बनाने वालों ने क्या सफ़ाई दी?

भारत में चीन के 59 मोबाइल ऐप बैन, टिकटॉक, यूसी, वीचैट भी लपेटे में

कहा कि देश की सुरक्षा की ख़ातिर इन्हें बैन किया जा रहा है.

गैंगस्टर आनंदपाल एनकाउंटर के बाद हुई हिंसा के लिए CBI ने चार्जशीट में किस-किस का नाम जोड़ा है?

एनकाउंटर की सीबीआई जांच की मांग को लेकर हिंसा हुई थी.