Submit your post

Follow Us

दिल्ली में ऑक्सीजन पर कोर्ट ने मोदी सरकार को हड़काया, 'क्यों न आप पर ही अवमानना का केस हो?

दिल्ली में ऑक्सीजन की किल्लत किसी से छुपी नहीं. लोग पर्याप्त सप्लाई न मिल पाने की वजह से मर रहे हैं. आए दिन राज्य का कोई न कोई अस्पताल घोषणा कर देता है कि हमारे पास अब ऑक्सीजन नहीं है. दिल्ली सरकार लगातार आरोप लगा रही है कि केंद्र से उन्हें पर्याप्त मात्रा में ऑक्सीजन नहीं मिल रहा है. मामला दिल्ली हाई कोर्ट तक जा चुका है. सुप्रीम कोर्ट भी बीच में आ चुका है. 01 मई को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को आदेश दिया कि 03 मई की रात तक दिल्ली की ऑक्सीजन सप्लाई की कमी पूरी होनी चाहिए.

दरअसल पिछले महीने ही दिल्ली सरकार ने अनुमानित तौर पर एक फोरकास्ट जारी किया था. जिसमें बताया गया कि दिल्ली को रोज़ 700 मेट्रिक टन ऑक्सीजन की आवश्यकता है. जिसके बाद कोर्ट ने केंद्र को आदेश दिया कि इतनी ऑक्सीजन तो दिल्ली को रोज़ मिलनी ही चाहिए.

लेकिन दिल्ली की ऑक्सीजन समस्या अभी भी नहीं सुलझी. मामला 04 मई को फिर से दिल्ली हाई कोर्ट के समक्ष गया. जस्टिस विपिन संघी और जस्टिस रेखा पल्ली की बेंच सुनवाई कर रही थी. दिल्ली सरकार का पक्ष रख रहे थे सीनियर एडवोकेट राहुल मेहरा. वहीं, एडिशनल सॉलिसिटर जनरल (ASG) चेतन शर्मा केंद्र सरकार का पक्ष रख रहे थे. दिल्ली सरकार के वकीव राहुल मेहरा ने कोर्ट में बताया कि अभी तक उन्हें 700 मेट्रिक टन ऑक्सीजन उपलब्ध नहीं करवाई जा रही है. इसपर कोर्ट ने केंद्र को फटकार लगाई और कहा कि ये सुप्रीम कोर्ट का ऑर्डर है. इसका पालन न करने पर आप अवमानना के दोषी पाए जाएंगे. इससे पहले केंद्र सरकार ने कहा था कि हमारे पास टैंकर नहीं है. राज्य टैंकर अपने पास रख रहे हैं. कोर्ट ने इसपर केंद्र को याद दिलाया कि टैंकर राष्ट्रीय धरोहर नहीं. साथ ही पूछा कि केंद्र ने कोई और ऑप्शन तो सोचा ही होगा.

ASG शर्मा ने कोर्ट को बताया कि 433 मेट्रिक टन ऑक्सीजन 03 मई की रात को दिल्ली पहुंची है. साथ ही 307 मेट्रिक टन ऑक्सीजन 04 मई की सुबह 8:15 पर पहुंची है. दिल्ली सरकार के वकील मेहरा ने पूछा कि आपको 590 मेट्रिक टन डिलिवर करने की जरूरत है. 420 मेट्रिक टन में लोग मर रहे हैं. ASG शर्मा ने इसे आलंकारिक बताया. इसपर कोर्ट ने भी नाराजगी जाहिर करते हुए कहा,

ये आलंकारिक नहीं है. क्या ये तथ्य नहीं? आप अंधे हो सकते हैं, हम नहीं. आप इतने असंवेदनशील कैसे हो सकते हैं?

ASG शर्मा ने कोर्ट से इमोशनल न होने को कहा. कोर्ट ने जवाब दिया कि ये इमोशनल मामला है. लोगों की ज़िंदगी का सवाल है. ASG शर्मा ने भरोसा दिलाया कि सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद सरकार पूरी कोशिश कर रही है. वो हर संभव प्रयास कर रहे हैं. कोर्ट ने केंद्र सरकार के नाम एक शो कॉज़ नोटिस (कारण बताओ नोटिस) जारी किया. पूछा कि 01 मई को जारी सुप्रीम कोर्ट के ऑर्डर का पालन न करने पर उनके खिलाफ अवमानना के तहत एक्शन क्यों नहीं लिया जाना चाहिए. कहा,

हम रोज़ विकट परिस्थिति देख रहे हैं. हालत ऐसी हो गई है कि ऑक्सीजन की कमी की वजह से अस्पतालों को अपने बेड कम करने पड़ रहे हैं. एक तरफ बढ़ते मामलों की वजह से हमें अपनी क्षमता बढ़ाने की जरूरत है. दूसरी ओर हमारी व्यवस्था ध्वस्त होती जा रही है. हम केंद्र सरकार को आदेश देते हैं कि वो कारण बताए कि सुप्रीम कोर्ट का ऑर्डर न मानने पर उनके खिलाफ अवमानना के तहत कार्रवाई क्यों नहीं की जानी चाहिए.

 

दिल्ली हाईकोर्ट में अब मामले की अगली सुनवाई 05 मई को होगी.


वीडियो: कोरोना वैक्सीन, ऑक्सीजन और लॉकडाउन को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

उत्तराखंड में एक और आपदा, उत्तरकाशी और रुद्रप्रयाग के पास बादल फटा

भारी नुक़सान की ख़बरें लेकिन एक राहत की बात है

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

क्या वाकई केंद्र सरकार ने मार्च के बाद वैक्सीन के लिए कोई ऑर्डर नहीं दिया?

जानिए वैक्सीन को लेकर देश में क्या चल रहा है.

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

Covid-19: अमेरिका के इस एक्सपर्ट ने भारत को कौन से तीन जरूरी कदम उठाने को कहा है?

डॉक्टर एंथनी एस फॉउसी सात राष्ट्रपतियों के साथ काम कर चुके हैं.

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

रेमडेसिविर या किसी दूसरी दवा के लिए बेसिर-पैर के दाम जमा करने के पहले ये ख़बर पढ़ लीजिए

देश भर से सामने आ रही ये घटनाएं हिला देंगी.

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

कुछ लोगों को फ्री, तो कुछ को 2400 से भी महंगी पड़ेगी कोविड वैक्सीन, जानिए पूरा हिसाब-किताब

वैक्सीन के रेट्स को लेकर देशभर में कन्फ्यूजन की स्थिति क्यों है?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

कोरोना से हुई मौतों पर झूठ कौन बोल रहा है? श्मशान या सरकारी दावे?

जानिए न्यूयॉर्क टाइम्स ने भारत के हालात पर क्या लिखा है.

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

PM Cares से 200 करोड़ खर्च होने के बाद भी नहीं लगे ऑक्सीजन प्लांट, लेकिन राजनीति पूरी हो रही है

यूपी जैसे बड़े राज्य में केवल 1 प्लांट ही लगा.

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

कोरोना की दूसरी लहर के बीच किन-किन देशों ने भारत को मदद की पेशकश की है?

पाकिस्तान के एक संगठन की ओर से भी मदद की बात कही गई है.

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

अब सुप्रीम कोर्ट ने कहा- हम राष्ट्रीय आपातकाल जैसी स्थिति में हैं, क्या केंद्र के पास कोई नेशनल प्लान है?

ऑक्सीजन सप्लाई से जुड़ी एक याचिका पर सुप्रीम कोर्ट सुनवाई कर रहा था.

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

'सबसे कारगर' कोरोना वैक्सीन बनाने वाली कंपनी फाइजर ने भारत के सामने क्या शर्त रख दी है?

भारत सरकार की ओर से इस पर अभी कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है.