Submit your post

Follow Us

विधानसभा चुनावों के चलते उल्लुओं की शॉर्टेज, 4-4 लाख के बिक रहे हैं

2.09 K
शेयर्स

पांच राज्यों के विधानसभा चुनाव चल रहे हैं. राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, मिज़ोरम और तेलंगाना. कुछ में हो चुके हैं कुछ में होना बाकी हैं. कुल मिलाकर देश भर में राजनितिक माहौल गर्म है. लेकिन इसी लोकतांत्रिक उत्सव के चलते एक जीव की जान पर बन आई है. जीव का नाम है उल्लू. उल्लू, जिनकी तादात कर्नाटक में घटती जा रही है.

अब आप पूछेंगे कि कर्नाटक में तो चुनाव हैं नहीं फिर वहां के उल्लू क्यूं घट रहे हैं. लेकिन उससे महत्वपूर्ण सवाल है कि उल्लुओं का इस इलेक्शन से क्या संबंध.

तो दोस्तों अंग्रेज़ी के प्रमुख अख़बार टाइम्स ऑफ़ इंडिया के अनुसार, तेलंगाना में राजनितिक दल अपना उल्लू सीधा करने के लिए उल्लुओं का सहारा ले रहे हैं.

क्यूं?

क्यूंकि उल्लुओं को हमेशा से ही तंत्र-मंत्र से जोड़कर देखा जाता है. साथ ही लक्ष्मी का वाहन होने के बावज़ूद इसे ‘दुर्भाग्य’ या अपशकुन का प्रतीक भी माना जाता है.

सांकेतिक तस्वीर/रायटर्स
सांकेतिक तस्वीर/रायटर्स

अब देखिए आप लोग ये मत कहना कि आदमी चांद पे पहुंच गया, और हम अब भी अंधविश्वासों में जकड़े हुए हैं. आपको नहीं पता कि कुछ लोग तो इंसान का चांद पर पहुंचना भी एक अंधविश्वास ही मानते हैं. वो क्या कहते हैं हॉक्स.

खैर, हम मुद्दे से भटक रहे हैं और उल्लू-जलूल बातें कर रहे हैं.

हां तो उल्लुओं का यूज़ खुद को जिताने के लिए नहीं प्रतिद्वंदियों को हराने के लिए किया जा रहा है. होने को दोनों ही बातें सेम हैं बस एक अंतर है. खुद चुनाव जीतना हो तो आप अपने लिए ‘शकुन’ के कार्य करते हैं, जैसे हवन यज्ञ. लेकिन अगर अपने प्रतिद्वंदी को चुनाव हराना हो तो आप उनके लिए ‘अपशकुन’ वाले कार्य करते हैं, जैसे टोना-टोटका, तंत्र-मंत्र.

बस यही किया जा रहा है. और इस टोने-टोटके और तंत्र-मंत्र के लिए ज़रूरत पड़ती है ढेर सारे उल्लुओं की. और यहां पर आड़े आ रही है इकोनॉमिक्स. ख़ास तौर पर उसका डिमांड एंड सप्लाई यानी मांग और आपूर्ति वाला चैप्टर. चुनावों में उल्लुओं की मांग बढ़ गई है. (क्या कहा? वो तो हर चुनाव में ही बढ़ जाती है? नहीं, लेकिन वो तो मेटाफर टाइप हुआ न, अबकी तो सच में मांग बढ़ गई है.)

तो, चूंकि चुनावों में उल्लु की मांग बढ़ गई है तो उनकी शॉर्टेज भी हो गई है. दूसरे राज्यों से उल्लू मंगाने पड़ रहे हैं. और तेलंगाना के सबसे नज़दीकी उल्लू प्रचुर राज्य कर्नाटक पड़ रहा है. लेकिन उल्लुओं के इस आयात-निर्यात के दौरान नियमों का सरे आम उल्लूंघन हो रहा है.

वोटिंग के दौरान की सांकेतिक इमेज (REUTERS/Danish Siddiqui)
वोटिंग के दौरान की सांकेतिक इमेज (REUTERS/Danish Siddiqui)

इस सब का पता पुलिस को तब लगा जब कलबुर्गी जिले में पुलिसकर्मियों ने 6 लोगों को उल्लू की तस्करी करते हुए पकड़ा. उन्होंने बताया कि क्यूं उल्लुओं को तेलंगाना ले जाया जा रहा था. उन्होंने ये भी बताया कि उल्लू की कीमत भी अच्छी मिल रही है. तीन से चार लाख रुपए प्रति उल्लू. इनके इतने महंगे होने का कारण है चुनाव और इकोनॉमिक्स.

तो अंत में इतना ही कहा जा सकता है –

बर्बाद गुलिस्तां करने को एक ही उल्लू काफी था,
हर शाख पे उल्लू बैठा है अंजाम ए गुलिस्तां क्या होगा.

वैसे इसका एक उत्तर भी है –

कुछ बात है कि हस्ती मिटती नहीं हमारी….

शब्वा खैर… टेक केयर…


वीडियो देखें –

बच्चे की बलि वाली फेक मेसेज देखकर क्या बोलीं महिलाएं? –

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Owls shortage in Telangana state during election due to black magic

क्या चल रहा है?

397 रन: मॉर्गन आज ऐसे खेले, जैसे सहवाग, गेल, अफरीदी की इकट्ठी आत्मा उनके अंदर आ गई हो

राशिद ख़ान जैसे धाकड़ बॉलर का मज़ाक बनाके रख दिया.

पाकिस्तान के फ़खर ज़मान का नाम गावस्कर ने लाइव टीवी पर लेने से क्यूं मना कर दिया?

फ़खर या कुछ और?

वर्ल्ड कप के 3 सबसे लंबे छक्के एक ही टीम के खिलाड़ियों ने लगाए हैं

बाकी टीम के प्लेयर कहां गायब हैं?

जिस सरबजीत के लिए मोर्चे निकल रहे हैं, उसने पहले भी एक गुरुद्वारे के सेवादार का हाथ तोड़ दिया था

दिल्ली पुलिस पर कृपाण से हमला करने के बाद सरबजीत को पुलिस ने बीच सड़क पर मारा था.

एक्टर करण ओबेरॉय छूट गए, रेप का आरोप लगाने वाली लड़की को ही पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया

पुलिस ने बताया कि लड़की ने खुद ही खुद पर हमला करवाया था.

जिस 'पारले जी' को आप चाव से खाते हैं, उसका ये घिनौना रूप आपने नहीं देखा होगा

ये हाल तब है, जब लोगो में एक मासूम बच्चे की तस्वीर लगा रखी है.

पुलवामा के बाद भारतीय सेना की सर्जिकल स्ट्राइक आज पूरी हुई है

पुलवामा का असली हिसाब आज चुकता हुआ है.

संसद में ओवैसी को चिढ़ाने के लिए जय श्री राम के नारे लगे, ओवैसी ने बॉल बाउंड्री पार भेज दी

जय श्री राम का नारा अब चिढ़ाने के काम आ रहा है, वो भी संसद में.

हिट विकेट होने के बाद भी वेस्ट इंडीज़ बैट्समेन को आउट क्यों नहीं दिया गया?

अंपायर्स को भी समझ नहीं आया कि ये हुआ क्या, मामला थर्ड अंपायर तक पहुंच गया.

जानिए क्या है ‘हुडिनी ट्रिक’, जिसे दिखाने के लिए कोलकाता के जादूगर पानी में गए, लेकिन बाहर नहीं आए

चंचल लहरी: वो 'शो मैन' जिनकी मौत भी एक स्टंट के दौरान हुई.