Submit your post

Follow Us

गंभीर बोले, 'अफरीदी ने बड़ा होने से इनकार कर दिया है, किंडरगार्टन भेज रहा हूं'

200
शेयर्स

शाहिद अफरीदी. पाकिस्तान के पूर्व क्रिकेटर. कश्मीर को लेकर काफी चिंता में रहते हैं. अक्सर ट्वीट करके कश्मीरियों के प्रति अपनी सहानुभूति व्यक्त करते रहते हैं. जम्मू कश्मीर में मानवाधिकारों के हनन की बात कह यूएन से गुहार लगाते रहे हैं. और हर बार उन्हें गौतम गंभीर से करारा जवाब भी मिलता है.

आप जानते ही हो कौन गौतम गंभीर. पूर्व क्रिकेटर और बीजेपी के सांसद. गंभीर ने अफरीदी के लिए ऑनलाइन किंडरगार्टन ऑर्डर करने की बात कही है. ताकि वो अपने बचपने से ऊपर उठ सकें. चलिए आपको पूरा मामला पहली गेंद से समझाते हैं-

# ‘कश्मीर आवर’ (Kashmir Hour) मानएंंगे अफरीदी-

5 अगस्त, 2019 को भारत सरकार ने जम्मू कश्मीर राज्य को केंद्र शासित प्रदेश बनाने और आर्टिकल 370 हटाने का निर्णय लिया. भारत के इस फैसले पर पाकिस्तान से कड़ी प्रतिक्रिया आई. जो कि आनी ही थी. प्रधानमंत्री इमरान खान ने हर संभव कोशिश कर भारत को घेरना चाहा लेकिन सफल न हो सके. थक हारकर उन्होंने पाकिस्तानी लोगों से हर शुक्रवार ‘कश्मीर आवर’ मनाने की अपील की. हर हफ्ते एक घंटे के लिए सड़क पर आकर कश्मीर के प्रति एकजुटता प्रदर्शित करने को कहा. इमरान के इस ऐलान के बाद कई अन्य पाकिस्तानियों के अलावा शाहिद अफरीदी भी ‘कश्मीर आवर’ मनाने के लिए आगे आए. उन्होंने ट्विटर पर लिखा-

प्रधानमंत्री द्वारा कश्मीरियों के समर्थन के लिए शुरू किए गए कश्मीर आवर कार्यक्रम को अपना समर्थन दें. मैं शुक्रवार दोपहर 12 बजे इसके लिए मज़ार-ए-क़ाएद (मुहम्मद अली जिन्ना की मज़ार) पर उपस्थित रहूंगा. कश्मीरी भाइयों के प्रति अपना समर्थन दिखाने के लिए मेरे साथ जुड़ें. छह सितंबर को मैं एक शहीद के घर जाउंगा और जल्द ही मैं एलओसी भी जाऊंगा.

शाहिद के इस ट्वीट के बाद गंभीर ने पलटवार किया. उन्होंने कहा-

साथियों, इस फोटो में शाहिद अफरीदी, शाहिद अफरीदी से पूछ रहे हैं कि शाहिद अफरीदी को, शाहिद अफरीदी को शर्मिंदा करने के लिए क्या करना चाहिए ताकि इसमें कोई शक न रह जाए कि शाहिद अफरीदी ने बड़ा होने से इनकार कर दिया है. मैं उनकी मदद के लिए ऑनलाइन किंडरगार्टन ऑर्डर कर रहा हूं.

किंडरगार्डन यानी कि बच्चों की किताब. इससे पहले गंभीर अफरीदी को मनोचिकित्सक के पास ले चलने की बात कह चुके हैं.

इससे पहले 5 अगस्त को भी अफरीदी ने कश्मीर मामले पर यूएन और अमेरिका से मध्यस्थता करने की बात कही थी.

कश्मीरियों को यूनाइटेड नेशंस के प्रस्ताव के मुताबिक अधिकार दिए जाने चाहिए. आज़ादी का अधिकार हम सभी को पसंद है. यूनाइटेड नेशंस को क्यों बनाया गया और यह सो क्यों रहा है? कश्मीर में लगातार जो मानवता विरोधी अकारण अग्रेशन और क्राइम हो रहा है उस पर ध्यान दिए जाने की जरुरत है. डोनाल्ड ट्रंप को मध्यस्थ की भूमिका निभानी चाहिए.

और जैसा कि युगों-युगों से होता आया है. उस बार भी शाहिद की बात पर गंभीर का रिप्लाई आया-

शाहिद अफरीदी एक बार फिर हाजिर हैं. शाहिद अफरीदी बिल्‍कुल सही कह रहे हैं, ‘अकारण अग्रेशन’, ‘मानवता के खिलाफ अपराध’ है. लेकिन यह बताना भूल गए कि यह सब ‘पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर’ में हो रहा है. चिंता मत करो, हम इसका भी हल निकालेंगे बेटा!!!

गंभीर और अफरीदी की टकराव नई बात नहीं है. दुनिया ने पहली बार इस टकराव को 2007 के एशिया कप में देखा था. कानपुर में वनडे मैच खेला जा रहा था. गंभीर बैटिंग कर रहे थे और अफरीदी बॉलिंग. इतने में किसी बात को लेकर दोनों भिड़ गए. गाली गलौज पर उतर आए. गंभीर और अफरीदी के बीच वो लड़ाई फिजिकल हो जाती अगर अंपायर मौके पर उन्हें अलग न करते. उस मैच में अफरीदी को मैच फीस का 95 फीसदी और गंभीर को 65 फीसदी जुर्माना हुआ था.


वीडियो: शाहिद अफरीदी के कश्मीर प्रेम की असली वजह क्या है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

करतारपुर कॉरिडोर: PM मोदी ने इमरान को शुक्रिया कहा, लेकिन इमरान का जवाब पीएम मोदी को पसंद नहीं आएगा

वहां पर भी कॉरिडोर से ज़्यादा 'विवादित मुद्दे' पर ही बोलता नज़र आया पाकिस्तान.

सुप्रीम कोर्ट का फैसला: विवादित ज़मीन रामलला को, मुस्लिम पक्ष को कहीं और मिलेगी ज़मीन

जानिए, कोर्ट ने अपने फैसले में और क्या-क्या कहा है...

नेहरु से इतना प्यार? मोदी अब बिना कांग्रेस के नेहरू का ख्याल रखेंगे

एक भी कांग्रेस का नेता नहीं. एक भी नहीं.

शरद पवार बोले- महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगने से बचाना है, तो बस एक ही तरीका है

शिवसेना के साथ मिलकर सरकार बनाने की मिस्ट्री पर क्या कहा?

मोदी को क्लीन चिट न देने वाले चुनाव अधिकारी को फंसाने का तरीका खोज रही सरकार!

11 कंपनियों से सरकार ने कहा, कोई भी सबूत निकालकर लाओ

दफ़्तर में घुसकर महिला तहसीलदार पर पेट्रोल छिड़का, फिर आग लगाकर ज़िंदा जला दिया

इस सबके पीछे एक ज़मीन विवाद की वजह बताई जा रही है. जिसने आग लगाई, वो ख़ुद भी झुलसा.

दिल्ली के तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकीलों के बीच झड़प, गाड़ियां फूंकी

पुलिस और वकील इस झड़प की अलग-अलग कहानी बता रहे हैं.

US ने जारी किया विडियो, देखिए कैसे लादेन स्टाइल में किया गया बगदादी वाला ऑपरेशन

अमेरिका ने इस ऑपरेशन से जुड़े तीन विडियो जारी किए हैं.

लल्लनटॉप कहानी लिखिए और एक लाख रुपये का इनाम जीतिए

लल्लनटॉप कहानी कंपटीशन लौट आया है. आपका लल्लनटॉप अड्डे पर पहुंचने का वक्त आ गया है.

अमेठी: पुलिस हिरासत में आरोपी की मौत, 15 पुलिसवालों के खिलाफ केस दर्ज

मौत कैसे हुई? मजिस्ट्रेट जांच के आदेश दिए गए हैं.