Submit your post

Follow Us

भारत के चंद्रयान 2 पर नासा ने जो कहा, उसे सुनकर आप गर्व से भर जाएंगे

चंद्रयान 2. भारत का सबसे महत्वाकांक्षी मिशन, जिसे चांद की खोज करनी है. वो कर रहा है. चंद्रयान के ऑर्बिटर ने काम करना शुरू कर दिया है. तस्वीरें भेज रहा है. और लैंडर. उसका भी पता चल गया है. पता चला है कि वो चांद पर ही है, लेकिन वहां नहीं, जहां उसे होना चाहिए था. उससे कुछ दूर है. अभी ISRO के वैज्ञानिक उससे संपर्क करने की कोशिश कर रहे हैं.

इस चंद्रयान की शुरुआती तैयारी से लेकर लॉन्चिंग तक हमने ISRO के साथ ही मुल्क के आम लोगों को उम्मीदों से भरा देखा, हौसले से भरा देखा. और जब विक्रम लैंडर से संपर्क टूटा तो वैज्ञानिकों के साथ ही आम लोगों को भी हताश होते देखा, निराश होते देखा. लेकिन जब 8 सितंबर को चंद्रयान के ऑर्बिटर ने लैंडर की फोटो भेजी, तो एक बार फिर से सबको उम्मीद नज़र आने लगी. ऑल इज वेल होने की उम्मीद. और इस बीच खबर आई नासा से. नासा यानी National Aeronautics and Space Administration. अमेरिका की अंतरिक्ष एजेंसी. उसने भारत की तारीफ की. भारत के वैज्ञानिकों की तारीफ की. ट्वीट किया. कहा-

‘अंतरिक्ष की खोज करना एक मुश्किल काम है. चांद के दक्षिणी ध्रुव पर चंद्रयान-2 की लैंडिंग करवाने की ISRO की कोशिशों की हम तारीफ करते हैं. ISRO ने अपनी इस यात्रा से प्रेरणा दी है. उम्मीद करते हैं कि भविष्य में हम मिलकर सौरमंडल पर काम करेंगे.’

अंतरिक्ष क्षेत्र में भारत की ये एक बड़ी उपलब्धि है, जिसका जिक्र अमेरिका की स्पेस एजेंसी ने अपने ट्वीट में किया है. अमेरिका के अलावा और भी देशों के वैज्ञानिकों ने भारत का हौसला बढ़ाया है. यूनाइटेड अरब अमीरात की स्पेस एजेंसी ने ट्वीट कर कहा- ‘भले ही लैंडर का ISRO से संपर्क टूट गया है, लेकिन हम ISRO को पूरी मदद करने का भरोसा दिलाते हैं. भारत ने खुद को अंतरिक्ष जगत की बेहद ज़रूरी ताकत साबित किया है. भारत ने साबित किया है कि वो अंतिरक्ष के विकास और इसमें हासिल उपलब्धियों का अहम साझीदार है.’

ऑस्ट्रेलिया की स्पेस एजेंसी के अलावा दुनिया भर के और भी वैज्ञानिकों ने ISRO और हमारे मिशन चंद्रयान 2 की तारीफ की है. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर जो लोग भारत के मिशन को फेल्योर बता रहे थे, ISRO के वैज्ञानिकों के साथ ही अंतरराष्ट्रीय स्तर के अंतरिक्ष वैज्ञानिकों ने उनकी बात को खारिज़ कर दिया है. आज पूरी दुनिया एक स्वर में ये कह रही है कि भारत का मिशन कामयाब रहा है. और हम भी तो यही कह रहे हैं. के सिवन भी यही कह रहे हैं. और इसकी वजह भी है. भले ही लैंडर ठीक तरीके से लैंड न कर पाया हो, ऑर्बिटर तो है, जो चांद के चक्कर लगा रहा है और हमें जानकारियां भेज रहा है.


पीएम नरेंद्र मोदी के जाते वक्त भावुक हुए इसरो चीफ, 11 साल से लगे थे चंद्रयान 2 मिशन पर

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लॉकडाउन 4.0: सरकार ने जारी की गाइडलाइंस, जानें क्या खुलेगा और क्या बंद रहेगा

31 मई तक के लिए लॉकडाउन बढ़ाया गया है.

घर जाने को लेकर राजकोट में 500 मज़दूरों का सब्र जवाब दे गया, सड़क पर उतरे

हंगामे के बीच पुलिस घायल, किसी तरह शांत हुआ मामला.

चोटिल बेटे को खटिया पर लादकर 900 किमी दूर घर के लिए निकल पड़ा ये मज़दूर

पंजाब से चला था परिवार, मध्य प्रदेश जाना था.

20 लाख करोड़ के राहत पैकेज की आख़िरी किश्त में मनरेगा को 40 हजार करोड़, अन्य को क्या मिला?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सात सेक्टर्स के लिए घोषणाएं कीं.

यूपी: औरैया में दो ट्रक टकराने से 24 मज़दूर मारे गए, योगी ने कई पुलिसवालों को सस्पेंड किया

पीएम मोदी ने घटना पर शोक जताया है.

घर-घर खाना पहुंचाने वाली ये कंपनी 600 कर्मचारियों को नौकरी से निकाल रही है

राहत वाली बात ये है कि छह महीने तक आधी सैलरी मिलती रहेगी.

बंगाल में हफ्तेभर से क्या बवाल चल रहा है, जिसमें 129 लोग गिरफ्तार हो चुके हैं

‘तुम कोरोना फैला रहे हो’ कहकर हमला किया, हिंसा भड़की.

लंबे वक्त तक क्रिकेट के नक्शे पर पाकिस्तान को जिंदा रखा था इस जोड़ी ने

वो दिन, जब मिस्बाह-उल-हक़ और यूनिस खान ने क्रिकेट को अलविदा कहा

कश्मीर : चेकप्वाइंट पर गाड़ी नहीं रोकी तो आम नागरिक को CRPF ने गोली मार दी?

क्या है घटना का सच?

रेलवे ने टिकट कटा चुके लोगों को बड़ा झटका दिया है

इसका श्रमिक और स्पेशल ट्रेनों पर क्या असर पड़ेगा?