Submit your post

Follow Us

क्या कोविड-19 की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी से किसी कोरोना मरीज की मौत नहीं हुई?

कोविड-19 की दूसरी लहर के दौरान देश के कई हिस्सों से ऑक्सीजन की कमी से कोरोना मरीजों की मौत के मामले सामने आए थे. लेकिन केंद्र सरकार ने मंगलवार 20 जुलाई को राज्यसभा में कहा कि दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत रिपोर्ट नहीं हुई है. इस मामले में अब लोग सोशल मीडिया पर काफी कुछ लिख रहे हैं.

क्या बोली सरकार?

दरअसल, कांग्रेस के सांसद केसी वेणुगोपाल ने राज्यसभा में कोरोना वायरस संक्रमण की दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी से होने वाली मौतों को लेकर सरकार से सवाल किया था. इसके जवाब में स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से कहा गया कि राज्यों की तरफ से दी जाने वाली जानकारी में इसका ‘विशेष रूप से उल्लेख नहीं’ किया गया कि दूसरी लहर के दौरान ऑक्सीजन की कमी से कोरोना मरीज मारे गए. स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने कहा,

केंद्र सरकार, राज्य सरकारों के भेजे डेटा को ही कंपाइल करती है और पब्लिश करती है. हमने किसी से नहीं कहा कि मृत्यु की कम संख्या दिखाएं या फिर पॉजिटिव केस कम दिखाएं. ऐसा करने का कोई कारण नहीं है.

मनसुख मांडविया ने सदन को बताया कि राज्य और केंद्रशासित प्रदेश कोरोना से होने वाली मौतों की जानकारी नियमित रूप से केंद्र को देते हैं. उनके मुताबिक, किसी भी राज्य या केंद्रशासित प्रदेश ने ऐसी कोई जानकारी केंद्र से साझा नहीं की जिसमें कहा गया हो कि ऑक्सीजन की कमी से कोरोना मरीजों की मौत हुई.

और क्या कहा?

जानकारी देते हुए स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से बताया गया कि कोरोना की पहली लहर के मुकाबले दूसरी लहर के दौरान मेडिकल ऑक्सीजन की मांग काफी बढ़ गई थी. मंत्रालय के मुताबिक, पहली लहर में जहां 3095 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की डिमांड थी, वहीं दूसरी लहर में ये डिमांड 9000 मीट्रिक टन तक पहुंच गई.

मनसुख मांडविया ने बताया कि दूसरी लहर में केंद्र की ओर से 28 मई तक राज्यों को 10250 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की सप्लाई की गई. इस दौरान सबसे अधिक ऑक्सीजन (1200-1200 मीट्रिक टन) महाराष्ट्र और कर्नाटक को दी गई. जबकि, दिल्ली को 400 मीट्रिक टन ऑक्सीजन सप्लाई की गई.

Oxygen (2)
इस तस्वीर को भला कौन भूल पाएगा. पति को ऑक्सीजन नहीं मिली तो पत्नी इस तरह सांस देने लगी. फोटो- आजतक

कांग्रेस लाएगी विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव

उधर, कांग्रेस पार्टी स्वास्थ्य मंत्री के बयान से संतुष्ट नहीं दिखी. पार्टी के सांसद केसी वेणुगोपाल ने कहा कि वो स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया के खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाएंगे. आजतक की एक खबर के मुताबिक, वेणुगोपाल ने कहा,

“सरकार कह रही है कि ऑक्सीजन की कमी से किसी की मौत नहीं हुई. गलत जानकारी देकर स्वास्थ्य मंत्री ने सदन को गुमराह किया है. हम उनके खिलाफ विशेषाधिकार हनन प्रस्ताव लाएंगे.”

सोशल मीडिया पर क्या चल रहा है?

उधर, सोशल मीडिया पर इस खबर को लेकर लोगों ने कमेंट्स करने शुरू कर दिए. ट्विटर पर कई लोगों ने सरकार के बयान की आलोचना की. कुछ ने तंज भी कसे. नीचे कुछ ट्वीट देखें.

अनुराग वर्मा नाम के एक ट्विटर यूजर ने लिखा- ऑक्सीजन की ‘कमी’ से कोई नही मरा, तो लाखों ने खुद अपना गला घोंट लिया.

नजीरुल हुडा नाम के एक ट्विटर यूजर ने पोस्ट किया,

“कोरोना की दूसरी लहर में ऑक्सीजन की कमी से एक भी मौत नहीं हुई- राज्यसभा में केंद्र सरकार का जवाब. हां, सही बात है. ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं हुई, सबने जानबूझकर सरकार को बदनाम करने के लिए अपनी सांस रोक ली. खुद का गला घोंट लिया और हजारों लोग मर गए. धन्य है ऐसी सरकार और उसके समर्थक.”

 

पिंकू आंघन नाम के एक ट्विटर यूजर ने लिखा-

“संसद में सरकार का कहना है कि ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं हुई है.

कोरोना वायरस कोई स्वास्थ्य आपातकाल नहीं है- 20 मार्च
प्रवासी श्रमिकों की मौत का कोई डेटा नहीं- 20 सितंबर
ऑक्सीजन की कमी से कोई मौत नहीं- 21 जुलाई

ऑक्सीजन की कमी से कोई नहीं मरा तो लाखों लोगों ने अपने आप ही खुदकुशी कर ली?”

कांग्रेस सांसद और नेता राहुल गांधी ने भी ट्वीट किया. उन्होंने लिखा- सिर्फ़ ऑक्सीजन की ही कमी नहीं थी. संवेदनशीलता व सत्य की भारी कमी- तब भी थी, आज भी है.

बहरहाल, यहां साफ कर दें कि केंद्र का दावा है कि वो सिर्फ राज्यों से मिलने वाले आंकड़ों को कंपाइल करके पेश करता है. ऐसे में विपक्ष और आम लोगों की प्रतिक्रियाओं के बीच देखना होगा कि राज्य और केंद्रशासित प्रदेशों की सरकारें स्वास्थ्य मंत्री के बयान पर क्या जवाब देती हैं.


वीडियो- सरकार ने कोरोना की तीसरी लहर को लेकर चिंता जताई, कहा- बच्चे भी हो सकते हैं संक्रमित

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बंगाल: क्या सुवेंदु अधिकारी ने जाने-अनजाने फोन टैपिंग का सच बता दिया है?

बंगाल के IPS अधिकारी को चेतावनी देने के चक्कर में सुवेंदु अधिकारी बड़ी बात कह गए.

मुंबई में बारिश से बड़ा हादसा, चेंबूर में दीवार गिरने से 17 की मौत

विक्रोली में भी 6 की मौत, पीएम ने दुख जताया, मुआवजे की घोषणा की.

टी-सीरीज़ वाले भूषण कुमार पर रेप का आरोप लगा, मुंबई में रिपोर्ट दर्ज

मुंबई के डीएन थाने में तीस साल की महिला ने रिपोर्ट दर्ज कराई.

अफगानिस्तान में भारतीय पत्रकार दानिश सिद्दीकी की हत्या, तालिबान ने किया था हमला

दानिश सिद्दीकी अपनी तस्वीरों के लिए फेमस थे, 2018 में Pulitzer अवार्ड भी मिला था.

MP के विदिशा में 30 से ज्यादा लोग कुएं में गिरे, 4 की मौत, 13 लापता, 19 बचाए गए

बच्चा कुएं में गिरा, तो बड़ी संख्या में ग्रामीण कुएं की छत पर चढ़ गए थे.

'नदिया के पार' जैसी बड़ी फ़िल्मों में काम कर चुकीं एक्ट्रेस सविता बजाज की हताशा, "मेरा गला घोंट दो"

इलाज के लिए पैसे नहीं हैं.

PM मोदी ने वाराणसी में जिस रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर का उद्घाटन किया, वो है क्या?

योगी सरकार के लिए क्या बोले PM?

कांवड़ यात्रा पर सुप्रीम कोर्ट ने दिखाई सख्ती, लेकिन यूपी सरकार पीछे हटने को तैयार नहीं?

योगी सरकार में स्वास्थ्य मंत्री के बयान से तो कुछ ऐसा ही लग रहा.

पीएम मोदी के मंत्रिमंडल विस्तार में ऐसा क्या हुआ कि महाराष्ट्र बीजेपी में उथल-पुथल मच गई?

क्या पंकजा मुंडे की नाराजगी महाराष्ट्र बीजेपी को भारी पड़ेगी?

पंजाबी सिंगर मनमीत सिंह का शव बरामद हुआ, भारी बारिश के बाद बह गए थे

एक नाला पार करते वक्त गिर गए थे मनमीत सिंह.