Submit your post

Follow Us

बिरयानी के विज्ञापन में किस ‘संत’ की फोटो देखकर लोग भड़के गए हैं?

कर्नाटक के बेलगाम में एक फूड चेन है- नियाज़ (Niyaaz). यहां की बिरयानी बहुत फेमस है. नियाज़ ने अपने यहां की बिरयानी का एक विज्ञापन तैयार किया. एक मीम टाइप विज्ञापन. विज्ञापन की फोटो हमने ऊपर फीचर फोटो में लगा रखी है. जैसा कि दिख रहा है कि विज्ञापन में एक संत जैसे किरदार है, जो नियाज़ की बिरयानी खाने के बाद ‘बलिदान देना होगा’ की जगह कह रहा है कि ‘बिरयानी देनी होगी’. साथ में कैप्शन दिया गया है –

“हमारी बिरयानी बाकी बिरयानी से कहती है- अह्म ब्रहास्मि.”

नियाज़ बिरयानी के इस ऐड पर बवाल हो गया है. क्यों? क्योंकि बिरयानी के विज्ञापन में संत जैसे किरदार की फोटो लगा दी है. बेलगाम में हिंदूवादी संगठनों के कुछ लोग नियाज़ की दुकान पर पहुंचे और जमकर बवाल किया. दुकान बंद करा दी गई. बजरंग दल और विश्व हिंदू परिषद के कुछ नेताओं ने पुलिस कमिश्नर से मिलकर इसकी शिकायत की है और फूड चेन के मालिक पर कार्रवाई की मांग की है. उनका कहना है कि इस विज्ञापन से धार्मिक भावनाएं आहत हुई हैं.

ऐड में किसकी फोटो?

दरअसल इस पूरे विवाद में और विज्ञापन में इस्तेमाल हुई ‘संत’ की फोटो में एक ट्विस्ट है. दरअसल ये फोटो है नेटफ्लिक्स पर आई पॉपुलर वेब सीरीज़ सेक्रड गेम्स की. जो किरदार तस्वीर में संत के किरदार में दिख रहा है, वो हैं एक्टर पंकज त्रिपाठी. सेक्रड गेम्स सीज़न-2 में पंकज त्रिपाठी ने ‘गुरुजी’ नाम के संत का किरदार प्ले किया था, जो असल में ग्रे शेड लिए हुए था. ये किरदार काफी हिट हुआ था और अभी तक इस पर जमकर मीम बनते रहते हैं. ‘बलिदान देना होगा’ भी इसी किरदार का फेमस डायलॉग था. इसी किरदार और उसके डायलॉग के इर्द-गिर्द नियाज़ ने अपना ऐड तैयार किया. आप देख सकते हैं कि इसमें सामने बैठे लोगों में नवाज़ुद्दीन सिद्दकी भी हैं, जो उस वेब सीरीज़ में लीड रोल में थे.

अब पेंच यही है कि अगर ये फोटो ‘संत’ की है, तब तो सिद्धार्थ मेहरोत्रा ‘फौजी’ हो गए. शाहरुख ख़ान ‘सम्राट अशोक’ हुए, आमिर खान ‘मंगल पांडेय’ और अक्षय कुमार ‘वैज्ञानिक’ हुए. ख़ैर, यहां मामला स्वविवेक वाला है.

नियाज़ के मालिक ने माफी मांगी

नियाज़ ग्रुप ऑफ रेस्टोरेंट के MD इरशाद सौदागर ने इस पूरे प्रकरण पर माफी मांग ली है. एक वीडियो अपलोड करते हुए उन्होंने कहा –

“पिछले 24 घंटे से जो मीम सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है, उसकी वजह से जिन लोगों का भी दिल दुखा है, हम उनसे माफी मांगते हैं. दरअसल हमारा मुंबई की एक सोशल मीडिया एजेंसी से कॉन्ट्रैक्ट है. वो हर दिन 2-3 क्रिएटिव पोस्ट करते हैं. ये क्रिएटिव भी उनकी तरफ से ही बनाकर पोस्ट किया गया है. हम इसके लिए माफी मांगते हैं.”

आगे इरशाद कहते हैं कि हमारे दोस्त, हमारे कस्टमर, हमारा स्टाफ हर कम्युनिटी से है और हम हिंदुस्तान की सभ्यता का आदर करते हैं.


हिंदुओं की छवि खराब करने के आरोप में इस नेता ने नेटफ्लिक्स के खिलाफ केस कर दिया है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.