Submit your post

Follow Us

बिहार, यूपी और झारखंड देश के सबसे गरीब राज्य, नीति आयोग ने जारी किए आंकड़े

नीति आयोग (Niti Aayog) के पहले बहुआयामी गरीबी सूचकांक (Multidimensional Poverty Index- MPI) में बिहार, झारखंड और उत्तर प्रदेश देश के सबसे गरीब राज्यों के तौर पर सामने आए हैं. वहीं केरल, गोवा और सिक्किम में सबसे कम गरीबी है.

न्यूज एजेंसी PTI की रिपोर्ट के मुताबिक, नीति आयोग की तरफ से जारी किए गए इस इंडेक्स में सामने आया है कि बिहार की लगभग 52 फीसदी जनसंख्या गरीब है. झारखंड की 42 फीसदी और उत्तर प्रदेश की लगभग 38 फीसदी आबादी गरीबी का शिकार है. इन राज्यों के बाद मध्य प्रदेश और मेघालय का नंबर आता है. इंडेक्स के मुताबिक, मध्य प्रदेश में लगभग 37 फीसदी और मेघालयल में करीब 33 फीसदी लोग गरीब हैं. दूसरी तरफ, केरल में केवल 0.71 फीसदी लोग ही गरीब हैं. वहीं गोवा में करीब 4 फीसदी और तमिलनाडु में लगभग 5 फीसदी लोग गरीब हैं.

बिहार में सबसे अधिक कुपोषित!

इस इंडेक्स के मुताबिक, बिहार जहां एक तरफ सबसे गरीब राज्य हैं, वहीं यहां कुपोषित लोगों की संख्या भी सबसे ज्यादा है. कुपोषित लोगों के मामले में बिहार के बाद झारखंड, मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और छत्तीसगढ़ का नंबर आता है. मूलभूत सुविधाएं ना मिलने के मामले में भी बिहार पहले स्थान पर है. वहीं उत्तर प्रदेश में शिशु एवं वयस्क मृत्यु दर सबसे अधिक है. साफ-सफाई ना होने के मामले में झारखंड सबसे ऊपर है.

रिपोर्ट के मुताबिक, इस इंडेक्स को तैयार करने में ऑक्सफोर्ड पोवर्टी एंड ह्यूमन डेवलपमेंट इनिसिएटिव का इस्तेमाल किया गया है. यह इनिसिएटिव यूनाइटेड नेशंस डेवलपमेंट प्रोग्राम के तहत काम करता है. अलग-अलग परिवार जिन आभावों से गुजर रहे हैं, ये इनिसिएटिव इसकी भी रिपोर्ट तैयार करता है.

नीति आयोग के इस सूचकांक में पूरे भारत की गरीबी रिपोर्ट भी तैयार की गई है. इस रिपोर्ट में प्रमुख तौर पर तीन पहलुओं स्वास्थ्य, शिक्षा और जीवन स्तर पर ध्यान दिया गया है. नीति आयोग का मानना है इस इंडेक्स से गरीबी दूर करने में सरकारी नीतियां बनाने में मदद मिलेगी. जिससे देश मिलेनियम डेवलपमेंट गोल हासिल करने की दिशा में तेजी से आगे बढ़ेगा.

नीति आयोग के इस सूचकांक में राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण को संदर्भ के तौर पर इस्तेमाल किया गया है. नीति आयोग का कहना है कि यह सूचकांक देश में व्याप्त गरीबी को बिल्कुल सही ढंग से मापता है.

कोई भी पीछे ना छूटे!

साल 2015 में 193 देशों की तरफ से अपनाए गए  मिलेनियम डेवलपमेंट गोल ने दुनिया भर में विकास की प्रगति को मापने के लिए विकास नीतियों और सरकारी प्राथमिकताओं को फिर से परिभाषित किया है. नीति आयोग के उपाध्यक्ष राजीव कुमार ने सूचकांक के बारे में बताया,

भारत के राष्ट्रीय बहुआयामी गरीबी सूचकांक का विकास एक सार्वजनिक नीति उपकरण स्थापित करने की दिशा में एक महत्वपूर्ण योगदान है. यह बहुआयामी गरीबी की निगरानी करता है, साक्ष्य-आधारित और केंद्रित हस्तक्षेप के बारे में बताता है, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि कोई भी पीछे न छूटे.

उन्होंने आगे कहा कि राष्ट्रीय MPI को 12 प्रमुख पहलुओं का उपयोग करके तैयार किया गया है जिसमें स्वास्थ्य और पोषण, शिक्षा और जीवन स्तर जैसे क्षेत्रों को शामिल किया गया है.


वीडियो- भारत में आबादी अब बढ़ने के बजाय घटने लगेगी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?

Covaxin को WHO के एक्सपर्ट पैनल से इमरजेंसी यूज की मंजूरी मिली

स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने पीएम मोदी के लिए क्या कहा?

आज आए चुनाव नतीजे में ममता, कांग्रेस और BJP को कहां-कहां जीत हार का सामना करना पड़ा?

उपचुनाव के नतीजे एक जगह पर.

जेल से बाहर आए शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान, मन्नत के लिए रवाना

3 अक्टूबर को आर्यन खान को गिरफ्तार किया गया था.