Submit your post

Follow Us

टेरर फंडिंग: NIA ने जम्मू-कश्मीर के 14 जिलों में 45 जगहों पर की छापेमारी

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने रविवार, 8 अगस्त को जम्मू- कश्मीर में 14 जिलों में 45 जगहों पर रेड की. ये छापेमारी टेरर फंडिंग के मामले में की गई. जम्मू-कश्मीर पुलिस और CRPF की सहायता से NIA के अधिकारियों ने जमात-ए-इस्लामी के सदस्यों के आवासों पर छापे मारे. साल 2019 में इस संगठन को केंद्र सरकार ने पाकिस्तान समर्थक और अलगाववादी समर्थक झुकाव के कारण प्रतिबंधित कर दिया था.

इंडिया टुडे की एक रिपोर्ट के मुताबिक प्रतिबंध के बावजूद जम्मू-कश्मीर में जमात-ए-इस्लामी की गतिविधियां बढ़ रही थीं, इसी की जांच के लिए NIA ने ये छापे मारे. छापेमारी से पहले दिल्ली से एक सीनियर डीआईजी और एक टीम श्रीनगर के लिए रवाना हुई थी. श्रीनगर के अलावा ये रेड बड़गाम, गांदरबल, बारामूला, कुपवाड़ा, बांदीपोरा, अनंतनाग, शोपियां, पुलवामा, कुलगाम, रामबन, डोडा, किश्तवाड़ और राजौरी जिलों में हुई.

रिपोर्ट्स के मुताबिक जमात-ए-इस्लामी, आतंकी संगठनों को फंडिंग करने की फिराक में है. जम्मू कश्मीर में लश्कर-ए-तयैबा, जैश-ए-मोहम्मद और हिज्बुल मुजाहिदीन जैसे संगठनों की फंडिंग रोकनी इसलिए भी जरूरी है ताकि आतंकी घटनाओं पर ब्रेक लगाई जा सके. एजेंसी को ऐसी रिपोर्ट्स मिली थीं कि जमात-ए-इस्लामी के कुछ लोग पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी ISI के संपर्क में हैं और दुबई व तुर्की के रास्तों से पैसे ले रहे हैं. ये पैसा शिक्षा और स्वास्थ्य जैसे कामों के नाम पर लिया जा रहा है.

रिपोर्ट्स के मुताबिक जमात-ए-इस्लामी, घाटी में आतंकी घटनाओं और पत्थरबाजी की घटनाओं में तेजी लाना चाहता है. आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद से इस तरह की घटनाओं में कमी दर्ज की गई है. इंडिया टुडे संवाददाताओं के सूत्रों के मुताबिक प्रतिबंधित संगठन जमात-ए-इस्लामी ने एक सीक्रेट मीटिंग भी की जिसमें नए आतंकियों की भर्ती पर चर्चा की गई.

IED की बरामदगी और लश्कर-ए-मुस्तफा के टॉप कमांडर हिदायतुल्ला मलिक की गिरफ्तारी से जुड़े मामलों में NIA ने 31 जुलाई को जम्मू-कश्मीर में 14 ठिकानों पर छापेमारी की थी.

क्या और कैसे काम करता है जमात-ए-इस्लामी

इंडिया टुडे ग्रुप के संवाददाता जितेंद्र सिंह की एक रिपोर्ट के मुताबिक कश्मीर के सबसे बड़े आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन को जमात-ए-इस्लामी ने ही खड़ा किया था और इस संगठन को हर तरह की सहायता देता रहा है. आतंकियों को ट्रेनिंग देने से लेकर उनको शरण देने तक का काम जमात-ए-इस्लामी करता रहा है. जमात, इस्लामिक धार्मिक गतिविधियों के नाम पर फंड लेकर उसका इस्तेमाल देश विरोधी गतिविधियों में करता है.

इसके अलावा जमात, हिज्बुल मुजाहिदीन के लिए अपने संसाधनों का इस्तेमाल कर जम्मू कश्मीर के युवाओं, विशेष तौर पर ग्रामीण क्षेत्रों के युवाओं का ब्रेनवाश कर भारत विरोधी भावनाओं को भड़काने और आतंकवादी गतिविधियों में शामिल करने का काम करता है. हिज्बुल के अलावा भी जमात, अन्य आतंकी संगठनों को समर्थन देता रहा है. जमात के नेता, हमेशा से कश्मीर के भारत के साथ होने को चुनौती देते रहे हैं.


वीडियो- अनुच्छेद 370 हटने की दूसरी सालगिरह पर जम्मू कश्मीर से जुड़ी ये बात आपको जरूर जाननी चाहिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

बाबर पर बनी इस वेब सीरीज़ का ट्रेलर देखकर इसकी नई डायरेक्टर से उम्मीदें बंध गई हैं

Disney Plus Hotstar की नई वेब सीरीज़ The Empire का ट्रेलर आया.

अनिल देशमुख को फंसा देगा वो काग़ज़, जिसके लिए मुंबई पुलिस ने CBI तक को धमका दिया?

क्या ये काग़ज़ CBI के हत्थे लगने से अनिल देशमुख की हालत ख़राब हो जाएगी?

'CID', 'जोधा अकबर' जैसे टीवी शोज़ में काम कर चुके एक्टर को डायबिटीज़ के चलते पैर कटवाना पड़ा

लोकेंद्र सिंह राजावत रणबीर कपूर के साथ 'जग्गा जासूस' में भी नज़र आ चुके हैं.

मुहर्रम को लेकर यूपी पुलिस के 'गोपनीय' सर्कुलर में क्या है, जिस पर मुस्लिम धर्मगुरुओं की सख्त आपत्ति है?

यूपी पुलिस का कहना है कि उसके सर्कुलर में कुछ भी नया नहीं है.

7 लाख का इनामी गैंगस्टर काला जठेड़ी यूपी के सहारनपुर से गिरफ्तार

साथी अनुराधा उर्फ मैडम मिंज भी गिरफ्तार.

संसद में हंगामे का नतीजा, लोकसभा में इन 5 चर्चित विधेयकों को पारित होने में एक घंटा भी नहीं लगा

राज्यसभा का हाल भी जान लीजिए.

धनबाद: चोरी के ऑटो से मारी थी जज को टक्कर; हादसा नहीं, हत्या है?

CCTV फुटेज ने दिखाई असलियत.

चर्चित हत्याकांड की सुनवाई कर रहे जज की टेम्पो से टक्कर के बाद मौत, वीडियो ने खड़े किए सवाल

घटना झारखंड के धनबाद की है.

बिहार के इस IAS से लोगों को इतना प्यार कि ट्रांसफर रोकने के लिए ट्विटर पर मुहिम चला दी

अपने पूरे करियर में IAS रंजीत सिंह ने सराहनीय काम किए हैं.

कौन हैं बसवराज बोम्मई, जिन्हें कर्नाटक का नया सीएम बनाया गया है?

27 जुलाई को बीजेपी विधायक दल की बैठक में बसवराज बोम्मई के नाम पर मुहर लग गई.