Submit your post

Follow Us

'सुभाष चंद्र बोस प्लेन से उतरे तो उनके कपड़े जल रहे थे, वो आग से घिरे हुए थे'

एक जापानी वेबसाइट की माने तो नेताजी की मौत का राज 2016 में ही खुल चुका है.

जापान सरकार ने कुछ पुरानी रिपोर्ट्स शेयर की थीं जिनके हिसाब से सुभाष चंद्र बोस की मौत वाकई एक प्लेन एक्सीडेंट में ही हुई थी, 18 अगस्त 1945 को, ताइवान में. ये जो रिपोर्ट्स हैं ये ‘बोसफाइल्स.इंफो’ नाम की एक वेबसाइट ने 2016 में दी थीं. और कहा कि यह पहली बार है कि इन्वेस्टिगेशन ऑन द कॉस ऑफ डेथ एंड अदर मैटर्स ऑफ द लेट सुभाष चंद्र बोस मतलब ‘दिवंगत सुभाष चंद्र बोस की मौत की वजह और दूसरे कारणों की जांच’ नाम की एक रिपोर्ट पब्लिक की गई. ये डॉक्यूमेंट्स सीक्रेट थे. इंडियन और जापानी दोनों ही सरकारों की ओर से.

वेबसाइट का कहना है कि रिपोर्ट जनवरी 1956 में ही पूरी हो गई थी और टोक्यो में भारत की एंबेसी को दे दी गई थी, पर चूंकि यह एक सीक्रेट डॉक्यूमेंट था तो इसे अभी तक इसे पब्लिक नहीं किया गया था. ये सात पन्ने की रिपोर्ट जापानी भाषा में है. और 10 पन्नों में इसका इंग्लिश ट्रांसलेशन हुआ है. यह रिपोर्ट बताती है कि नेताजी 18 अगस्त 1945 को विमान हादसे का शिकार हो गए और उसी दिन शाम को ताइपेई के एक अस्पताल में उनकी मौत हो गई. रिपोर्ट में लिखा है, ‘उड़ान भरने के तुरंत बाद वो विमान नीचे गिर पड़ा, जिसमें बोस थे. शाम करीब तीन बजे उन्हें ताइपेई सैनिक अस्पताल की नानमोन शाखा ले जाया गया और शाम करीब सात बजे उनकी मौत हो गई.

रिपोर्ट के हिसाब से उसी शाम 22 अगस्त को ताइपेई निगम श्मशानघाट में उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया था. रिपोर्ट के हिसाब से प्लेन उड़ान भरने के बाद जैसे ही जमीन से करीब 20 मीटर ऊपर गया, इसके बाईं ओर के तीन पंख वाले प्रोपेलर की एक पंखुड़ी अचानक टूट गई और इंजन अंदर गिर पड़ा.

रिपोर्ट के हिसाब से प्लेन डिसबैलेंस हो गया और हवाई पट्टी के पास कंकड़-पत्थरों के ढेर पर गिर गया फिर कुछ ही देर में ये आग की लपटों से घिर गया. आग की लपटों से घिरे बोस प्लेन से उतरे, कर्नल हबीबुर रहमान और अन्य पैसेंजर्स ने उनके कपड़ों में लगी आग बुझाने की कोशिश की. पर देर हो चुकी थी इससे पहले ही उनका शरीर बुरी तरह झुलस गया था. नेताजी की उम्र तब 48 साल थी. वेबसाइट के हिसाब से उनकी मौत से जुड़ी जापान सरकार की रिपोर्ट शाहनवाज खान समिति की रिपोर्ट का समर्थन करती है. यह शाहनवाज खान समिति तत्कालीन प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू ने 1956 में सुभाष चंद्र बोस की मौत की जांच के लिए बनाई थी.

ये भी पढ़ें –

जब नेताजी बोस के जीतने पर गांधी बोले- ये मेरी हार है

क्या सुभाष चंद्र बोस विमान हादसे के 20 साल बाद जिंदा थे?

प्लेन क्रैश के बाद जिंदा नेताजी बोस ने दिए ये 3

गुमनामी बाबा का बक्सा खुला, निकली नेताजी की फैमिली फोटो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

अमेरिकी कंपनी ने कोरोना की अंडर ट्रायल वैक्सीन का चूहे पर ट्रायल किया, तो क्या हुआ?

जुलाई के महीने को लेकर अहम बात भी कह डाली है.

केजरीवाल ने लॉकडाउन 4 में बहुत सारी छूट दे दी हैं

ऑड-ईवन आ गया, लेकिन ट्रांसपोर्ट में नहीं.

लॉकडाउन 4: पर्सनल गाड़ी से शहर या राज्य के बाहर जाने के क्या नियम हैं?

केंद्र सरकार ने इस पर क्या कहा है?

कोरोना संक्रमण के बीच स्विगी ने बहुत बुरी खबर दी है

दो दिन पहले जोमैटो ने भी ऐसा ही ऐलान किया था.

ममता बनर्जी ने लॉकडाउन के नियमों में बहुत बड़ा बदलाव किया है

केंद्र सरकार की नई बात मानने से मना कर दिया!

लॉकडाउन 4.0: सरकार ने जारी की गाइडलाइंस, जानें क्या खुलेगा और क्या बंद रहेगा

31 मई तक के लिए लॉकडाउन बढ़ाया गया है.

घर जाने को लेकर राजकोट में 500 मज़दूरों का सब्र जवाब दे गया, सड़क पर उतरे

हंगामे के बीच पुलिस घायल, किसी तरह शांत हुआ मामला.

चोटिल बेटे को खटिया पर लादकर 900 किमी दूर घर के लिए निकल पड़ा ये मज़दूर

पंजाब से चला था परिवार, मध्य प्रदेश जाना था.

20 लाख करोड़ के राहत पैकेज की आख़िरी किश्त में मनरेगा को 40 हजार करोड़, अन्य को क्या मिला?

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने सात सेक्टर्स के लिए घोषणाएं कीं.

यूपी: औरैया में दो ट्रक टकराने से 24 मज़दूर मारे गए, योगी ने कई पुलिसवालों को सस्पेंड किया

पीएम मोदी ने घटना पर शोक जताया है.