Submit your post

Follow Us

अजित पवार पहले भी सिग्नल दे रहे थे, शरद पवार ने अनदेखा कर बड़ी गलती की

5
शेयर्स

23 नवंबर 2019 की सुबह. देशभर के अखबारों में छपी खबरें झूठी साबित हुई. 22 नवंबर की रात तक ये खबर चली कि महाराष्ट्र के सियासी समीकरण में ठहराव आ चुका है. एनसीपी, शिवसेना और कांग्रेस मिलकर सरकार बनाने वाली थी. उद्धव ठाकरे खास कीवर्ड हो गए थे. महाराष्ट्र राज्य के नए चीफ़ मिनिस्टर.

लेकिन सुबह तक नज़ारे बदले हुए थे. सीएम पद की कुर्सी उद्धव ठाकरे से खिसककर देवेंद्र फडणवीस के पास पहुंच चुकी थी. लेकिन पूरे समीकरण में एक नया नाम उभर कर सामने आया. ये नाम था अजित पवार का. एनसीपी के साहेब शरद पवार के भतीजे. अजित पवार ने फडणवीस के साथ डिप्टी-सीएम पद की शपथ ले ली थी. राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी के घर पर. सुबह जब ये खबर फ्लैश हुुई तो चाचा पवार तक अपने भतीजे के इस दांव से हैरान रह गए थे.

लेकिन क्या अजित पवार का ये दांव हैरान करने वाला था?

इंडियन एक्सप्रेस में एक रिपोर्ट छपी है. पार्टी सूत्रों के हवाले से दावा किया गया है कि अजित पवार ने बहुत पहले ही आंखों-आंखों में इशारे कर दिए थे. कि उनका दिल कांग्रेस और शिवसेना के साथ नहीं बल्कि बीजेपी के साथ है. 17 नवंबर को एनसीपी की एक हाई लेवल मीटिंग हुई. शरद पवार इस मीटिंग के चौधरी थे. इसी मीटिंग में अजित पवार ने बीजेपी के साथ मिलकर सरकार बनाने पर जोर दिया था.

एनसीपी के तीन और दिग्गज नेता सुनील तटकरे, धनंजय मुंडे और प्रफुल्ल पटेल ने भी अजित पवार के इस आइडिया को सपोर्ट किया था. तटकरे और धनंजय मुंडे अजित पवार के खेमे के माने जाते हैं. इस मीटिंग में एनसीपी के अधिकतर नेता बीजेपी के साथ गठबंधन का विरोध कर रहे थे, इसलिए शरद पवार ने अजित पवार की उस राय को नकार दिया. शरद पवार ने शिवसेना-कांग्रेस के साथ सरकार बनाने की राय का समर्थन किया था.

Sharad Ajit Pawar
शरद पवार और अजित पवार. फोटो : पीटीआई

18 नवंबर को शरद पवार और अजित पवार दिल्ली पहुंचे. मीटिंग करने. लेकिन दिल्ली में दोनों की मंज़िल अलग-अलग थी. एनसीपी के नेता चाचा शरद पवार सोनिया गांधी से मिले. और एनसीपी के ही नेता भतीजे अजित पवार बीजेपी नेताओं मे मिलने पहुंचे.

अजित पवार कांग्रेस-एनसीपी वाली मीटिंग में मौजूद रहते थे. 22 नवंबर को हुई शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी वाली मीटिंग में भी अजित पवार ने हिस्सा लिया था. लेकिन पूरी मीटिंग के दौरान उन्होंने एक शब्द नहीं बोला. उस दिन की मीटिंग में अजित पवार बीच में ही निकल गए. लेकिन किसी ने उसपर ध्यान नहीं दिया था. क्योंकि शरद पवार भी उसी समय मीटिंग से निकले थे. और बाहर निकलकर ऐलान किया कि उद्धव ठाकरे शिवसेना-कांग्रेस-एनसीपी के सीएम पद के कैंडिडेट होंगे.

लेकिन 23 नवंबर की सुबह वो ट्विटर पर उन बधाई संदेशों के रिप्लाई कर रहे थे जो उनके डिप्टी-सीएम बनने पर आई थीं. देवेंद्र फडणवीस के डिप्टी सीएम.


वीडियो : अजीत पवार का ट्वीट NCP का BJP से गठबंध, शरद पवार बोले- NCP शिवसेना और कांग्रेस के साथ

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

एक तरफ अमित शाह रैली में बोले नक्सलवाद ख़त्म किया, उधर नक्सलियों ने हमला कर दिया

नक्सलियों ने अमित शाह को गलत साबित कर दिया. चार जवान शहीद हो गए.

कांग्रेस ने अलग से प्रेस कॉन्फ्रेंस क्यों की?

और क्या बोले अहमद पटेल?

महाराष्ट्र में रातों रात बदला गेम, देवेंद्र फडणवीस सीएम और एनसीपी के अजित पवार डिप्टी सीएम बने

शिवसेना ने इसे अंधेरे में डाका डालना बताया.

किसका डर है कि अयोध्या मसले में सुन्नी वक्फ बोर्ड रिव्यू पिटीशन नहीं फ़ाइल कर रहा?

चेयरमैन के ऊपर दो-दो केस!

डूबते टेलीकॉम को बचाने के लिए सरकार 42 हज़ार करोड़ की लाइफलाइन लेकर आई है

तो क्या वोडाफोन आईडिया और एयरटेल बंद नहीं होने वाले हैं?

मालेगांव बम ब्लास्ट की आरोपी प्रज्ञा ठाकुर देश की रक्षा करने जा रही हैं

रक्षा मंत्रालय की कमेटी में शामिल होंगी.

IIT गुवाहाटी के छात्र एक प्रोफेसर के लिए क्यों लड़ रहे हैं?

प्रोफेसर बीके राय लंबे समय से करप्शन के खिलाफ जंग छेड़े हुए हैं.

आर्टिकल 370 हटने के बाद कश्मीर में पत्थरबाजी कम हुई या बढ़ी?

राज्यसभा में सरकार ने आंकड़े बताए हैं.

फोन कंपनियां ये किस बात के लिए हम लोगों से पैसा लेने जा रही हैं?

कॉल और डाटा का पैसा बढ़ने वाला है, पढ़ लो!

BHU के मुस्लिम टीचर के पिता ने कहा, 'बेटे को संस्कृत पढ़ाने से अच्छा था, मुर्गे बेचने की दुकान खुलवा देता'

बीएचयू में मुस्लिम टीचर की नियुक्ति पर बवाल!