Submit your post

Follow Us

शरद पवार ने बताया, बीजेपी को सपोर्ट करने के लिए मोदी ने ये बड़ा लालच दिया था

5
शेयर्स

महाराष्ट्र में सियासी अटकलों का दौर तब तक चलता रहा जब तक नई सरकार नहीं बन गई. सस्पेंस और थ्रिलर से भरपूर चर्चाएं होती रहीं. शिवसेना और कांग्रेस के साथ सरकार गठन की चर्चाओं के बीच शरद पवार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात भी की थी. और इसी मुलाकात के बाद देवेंद्र फडणवीस ने राज्यपाल से मुलाकात कर अजित पवार के समर्थन से सरकार बना ली. तब कहा ये जा रहा था कि इस गठबंधन को शरद पवार जकी मंजूरी है.

राजनीति के गलियारों में शरद पवार के अगले राष्ट्रपति बनने की भी बात चल रही थी. हालांकि शरद पवार ने तब सफाई देते हुए स्पष्ट किया था कि गठबंधन अजित पवार का निजी फैसला था. अंततः शरद पवार ने गठबंधन की पतवार संभाली और शिवसेना, कांग्रेस के साथ नई सरकार का रास्ता साफ किया. तब शरद पवार और मोदी के बीच क्या बात हुई? किन शर्तों की बात हुई? ये सब शरद पवार ने अब बताया है.

# क्या कहा शरद पवार ने?

समाचार एजेंसी पीटीआई के मुताबिक शरद पवार ने एक मराठी चैनल को दिए इंटरव्यू में पीएम से हुई मुलाकात पर बात की. पवार ने कहा कि पीएम मोदी  ने साथ आकर काम करने का प्रस्ताव दिया था. पीएम मोदी ने बेटी सुप्रिया सुले को कैबिनेट मंत्री बनाने का भी प्रस्ताव रखा था. मुझे राष्ट्रपति बनाने जैसी कोई बात नहीं हुई थी.’

शरद पवार ने कहा कि पीएम मोदी का प्रस्ताव मैंने खारिज कर दिया था. सुप्रिया सुले शरद पवार की पुत्री हैं. सुप्रिया पुणे की बारामती लोकसभा सीट से सांसद हैं.

राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (NCP) अध्यक्ष ने बताया कि उन्होंने प्रधानमंत्री से कहा कि हमारे संबंध बहुत अच्छे हैं, अच्छे ही रहेंगे लेकिन मेरे लिए साथ आकर काम करना संभव नहीं है.


ये भी देखें:

महाराष्ट्र: अनंत हेगड़े की रुपए ट्रांसफर वाली बात से देवेंद्र फडणवीस ने इनकार किया है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

नागरिकता कानून में हुए संशोधन पर संविधान एक्सपर्ट्स का क्या कहना है?

एक्सपर्ट्स का दावा, ये संशोधन संविधान के आर्टिकल 14, 5 और 11 का उल्लंघन है.

पासपोर्ट पर कमल छाप तो दिया लेकिन सरकार खुद इसे राष्ट्रीय फूल नहीं मानती

बवाल मचा तो सरकार ने कहा था राष्ट्रीय प्रतीकों को छाप रहे हैं.

16 दिसंबर को इस वजह से नहीं होगी निर्भया के चारों दोषियों को फांसी

सुप्रीम कोर्ट की सुनवाई के बाद ही डेथ वारंट पर फैसला होगा.

CAB विरोध: असम में पुलिस की फायरिंग से दो की मौत, कर्फ़्यू मान नहीं रही है भीड़

तीन BJP विधायकों के घर पर हमला. मेघालय के भी कुछ इलाकों में कर्फ़्यू. तीन राज्य में इंटरनेट बंद.

नागरिकता संशोधन बिल पास होने पर IPS ऑफिसर ने विरोध में इस्तीफा दिया

उन्होंने कहा, 'ये बिल देश को बांटने वाला है.'

कर्नाटक में 15 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में BJP का क्या हुआ?

BJP सरकार बनी रहेगी या जाएगी?

मोदी सरकार के इस कदम से घरेलू इंडस्ट्री चमक सकती है, पर रिस्क भी बहुत बड़ी है

सरकार नई नौकरियों का दावा कर रही. पर आंकड़ा किसी को नहीं पता.

अगर संसद में ये बिल पास हो गया तो एक ही तमंचे पर डिस्को हो पाएगा

वैसे नए कानून के मुताबिक, तमंचे पर डिस्को करने पर भी 2 साल की सज़ा हो सकती है.

तेलंगाना पुलिस ने खुद बताई एनकाउंटर के पीछे की पूरी कहानी

'आरोपियों ने पुलिस से हथियार छीनकर फायरिंग की'.

हैदराबाद डॉक्टर रेप केस: चारों आरोपी पुलिस एनकाउंटर में मारे गए

उसी जगह मारे गए, जहां रेप किया. पुलिस का कहना है कि आरोपियों ने उनपर हमला करके भागने की कोशिश की.