Submit your post

Follow Us

कोर्ट ने रतन टाटा का मूड खराब कर दिया, वापिस आ गए साइरस मिस्त्री

टाटा कंपनी समूह को नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल (NCLAT) से बड़ा झटका मिला है. कहा है कि टाटा संस के चेयरमैन पद से साइरस मिस्त्री को हटाने का फैसला अवैध था. कहा है कि उन्हें फिर से चेयरमैन बनाया जाए. इस फैसले के बाद माना जा रहा है कि रतन टाटा के लिए मुश्किल की घड़ी आ सकती है. क्योंकि एन चंद्रशेखरन को कार्यकारी चेयरमैन बनाने के प्रबंधन के निर्णय को भी NCLAT ने अवैध ठहराया है.

क्या हुआ था?

साल 2016. टाटा संस बोर्ड और रतन टाटा कैम्प ने मिलकर साइरस मिस्त्री को कंपनी से बाहर का रास्ता दिखाया. बोर्ड ने 24 अक्टूबर को साइरस मिस्त्री को चेयरमैन पद से हटा दिया था. इसके बाद साइरस मिस्त्री से कहा गया कि वे ग्रुप की अन्य कंपनियों से भी बाहर निकल जाएं. मिस्त्री ने इस्तीफा दे दिया. लेकिन इसके बाद वे गए नेशनल कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (NCLT). यानी कंपनियों की निचली अदालत.

रतन टाटा
रतन टाटा

शापूरजी पलोनजी ग्रुप की दो कंपनी साइरस इन्वेस्टमेंट और स्टर्लिंग इन्वेस्टमेंट कॉरपोरेशन ने टाटा ट्रस्ट और टाटा सन्स के निदेशकों के ख‍िलाफ याचिका दाखिल की. इनमें टाटा सन्स पर अनियम‍ितता बरतने का आरोप लगाया गया. कहा गया कि प्रबंधन एवं नैतिक मूल्यों का उल्लंघन किया गया. आरोप ये भी थे कि रतन टाटा और कंपनी के ट्रस्टी एन सूनावाला सुपर डायरेक्टर की तरह काम कर रहे थे. कहा कि दोनों वरिष्ठ काम में दखलअंदाज़ी कर रहे थे.

आरोप लगाया गया कि मिस्त्री को चेयरमैन पद से हटाने का काम ग्रुप के कुछ प्रमोटर्स ने किया. ग्रुप और रतन टाटा के अव्यवस्थ‍ित प्रबंधन की वजह से ग्रुप को आय का काफी ज्यादा नुकसान हुआ. 2018 में NCLT ने मिस्त्री की दोनों याचिकाओं को खारिज कर दिया. कहा कि आरोपों में कोई आधार नहीं दिखता.

इसके बाद साइरस मिस्त्री ने अपील की NCLAT में. जिस पर 18 दिसंबर को निर्णय आया. फैसले में कहा गया कि टाटा संस के निदेशक मिस्त्री को पोस्ट से हटाने लायक नहीं हैं. मिस्त्री की कंपनी में 18.4 प्रतिशत की हिस्सेदारी है. ये हिस्सेदारी टाटा संस के बाद सबसे बड़ी है. मिस्त्री का कहना था कि उन्हें भी बोर्ड में उनकी हिस्सेदारी के हिसाब से जगह मिले.

क्या कहना रहा है टाटा ग्रुप का?

टाटा समूह ने मिस्त्री के आरोपों को खारिज किया. कहा कि साइरस मिस्त्री को इसलिए निकाला गया क्योंकि बोर्ड उनके प्रति विश्वास खो चुका था. मिस्त्री पर ये भी आरोप लगे कि उन्होंने जानबूझकर कंपनी को नुकसान पहुंचाने की नीयत से कंपनी की संवेदनशील जानकारी लीक की. इस कारण ग्रुप की वैल्यू को नुकसान पहुंचा.

साइरस मिस्त्री के चेयरमैन बनने की पूरी कहानी पढ़िए : ‘टाटा’ की नैया का नया खिवैया, जो पारसी नहीं है

साइरस मिस्त्री के हटने की पूरी कहानी पढ़िए : साइरस मिस्त्री हटे क्योंकि रतन टाटा की नजर पर शुरू से चढ़े थे!


लल्लनटॉप वीडियो : रतन टाटा: शादी न हो पाने से, फोर्ड जैसी बड़ी कंपनी को खरीदने के किस्से

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

नसीम शाह की ये बॉल देखते ही सब बोल पड़ेंगे- भई वाह!

गज़ब की बॉल पर गिरा जो रूट का विकेट.

CPL के मैच देख सबसे ज्यादा खुशी KKR और DC को हो रही होगी

दोनों टीमों के प्लेयर्स ने गदर काट रखा है.

नेट में धोनी ने चलाया ऐसा बल्ला, खुद को सीटी बजाने से नहीं रोक पाए रैना

अगर ऐसे ही खेल रहे हैं, तो फिर धोनी को संन्यास की क्या ज़रूरत पड़ गई!

आम आदमी पार्टी को लाखों का चंदा देने वाले CA को पुलिस ने किस मामले में गिरफ्तार किया है?

रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज़ की ओर से पुलिस को क्या शिकायत मिली थी?

'आदिपुरुष' में प्रभास जो रोल करने वाले हैं, उससे रामभक्त खुश हो जाएंगे

प्रभास की लास्ट फिल्म 'साहो' थी.

उस ऑस्ट्रेलियन ने लिया संन्यास, जिसका पहला और आखिरी, दोनों विकेट सचिन ही रहे!

इंडिया में डेब्यू करने आया था, लेकिन करियर खत्म करवाकर लौटा.

बिपाशा का खुलासा, किस तरह एक टॉप प्रोड्यूसर ने उन पर डाली थी बुरी नजर

ये भी बताया कि उनकी एक 'गलती' से प्रोड्यूसर की बोलती कैसे बंद हो गई

कोरोना काल में कैसे डाले जाएंगे वोट, चुनाव आयोग ने गाइडलाइन जारी की

कोरोना पॉजिटिव कैसे देंगे वोट, इस सवाल का भी जवाब है.

11 साल की लड़की को सेक्सुअलाइज़ करने वाले पोस्टर पर नेटफ्लिक्स को माफी मांगनी पड़ी

'क्यूटीज़' एक फ्रेंच फिल्म है, जो 9 सितंबर को नेटफ्लिक्स पर रिलीज़ होगी.

वर्ल्ड कप जीतने वाला क्रिकेटर सब्जी बेच रहा है!

सरकार से नौकरी की उम्मीद थी, लेकिन वो उम्मीद दरक रही है.