Submit your post

Follow Us

'PM जो स्कूल नहीं गए, उनसे छात्रों के प्रति सहानुभूति की उम्मीद कैसे कर सकते हैं?'

नसीरुद्दीन शाह ने हाल ही में द वायर को इंटरव्यू दिया. इसमें उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून (Citizenship Amendment Act), JNU हिंसा और बॉलीवुड स्टार्स की चुप्पी पर बात की. उन्होंने कहा कि सत्ता में बैठी राजनीतिक पार्टी जबरन लोगों को उनकी नागरिकता साबित करने के लिए मजबूर कर रही है. उन्होंने कहा,

मेरे पास जन्म प्रमाण पत्र नहीं है. अब मैं बनवा भी नहीं सकता हूं. जिनके पास बर्थ सर्टिफिकेट नहीं है, उन्हें देश से बाहर निकाल दिया जाएगा क्या? मुझे किसी भी आश्वासन की जरूरत नहीं कि मुसलमानों को डरने की जरूरत नहीं है. अगर मैं 70 साल तक देश में रहकर भी खुद को भारतीय साबित नहीं कर सकता, तो नहीं पता कि कैसे कर पाऊंगा. न मैं डरा हुआ हूं और न चिंतित. मैं नाराज हूं.

छात्रों का अपमान हुआ. छात्रों की अवमानना ​​मुझे सबसे ज़्यादा परेशान कर रही है. मुझे लगता है कि जिन लोगों को नहीं पता कि स्टूडेंट होना क्या होता है, वो छात्रों और बुद्धिजीवियों को एक बीमारी मानते हैं. इसलिए हैरानी नहीं है कि प्रधानमंत्री के पास छात्रों के लिए कोई सहानुभूति या दया नहीं है. उनका एक वीडियो क्लिप है, जिसमें वो कह रहे हैं कि प्रधानमंत्री बनने से पहले उन्होंने कभी पढ़ाई नहीं की, तो आप उनसे छात्रों के प्रति सहानुभूति की उम्मीद कैसे कर सकते हैं? अगर आप युवाओं के गुस्से को खारिज करते हैं, तो आप अपने लिए खतरा पैदा कर रहे हैं. मैं बस यही कह सकता हूं.

इंटरव्यू में जब नसीरुद्दीन शाह से पूछा गया कि बॉलीवुड में कुछ ही सेलेब्रिटी हैं. जो CAA के विरोध में अपनी आवाज़ ऊंची कर रहे हैं. इसके जवाब में उन्होंने कहा-

अगर बात सुपरस्टार्स की करें, तो आप ये समझ सकते हैं कि वो लोग क्यों नहीं बोलते हैं? हैरानी की बात ये है कि आखिर वो बोलकर कितना कुछ खो देंगे. क्या वो सात पीढ़ियों के लिए जमा नहीं कर चुके हैं? ये वैसा ही है कि जब आपका कुआं भरा होता है, तो प्यास का डर कुछ ज्यादा ही होता है. कभी न बुझने वाली प्यास. फेम खोने का डर, पैसा खोने का डर क्या आपको मार देगा? स्टार्स को मुख्यतौर पर खुद की चिंता होती है, बाकी आसपास के लोगों की नहीं.

इसके साथ ही उन्होंने दीपिका पादुकोण के JNU जाने को लेकर उनकी तारीफ की. साथ ही कहा कि अनुराग कश्यप की तरह वो भी पीएम की पॉलिटिकल साइंस की डॉक्टरेट की डिग्री देखना चाहेंगे.


Video : आयुष्मान खुराना की ‘शुभ मंगल ज्यादा सावधान’ ट्रेलर की 5 बातें जानिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

'मुस्लिम होने की वजह से इलाज नहीं', अब इस मामले में एक नई बात सामने आई है

राजस्थान के भरतपुर का केस है.

ओडिशा: लॉकडाउन तोड़ रहे थे, पुलिस ने कहा- चलो घर में, तो पत्थर मारने लगे

25 लोगों को गिरफ्तार कर लिया गया है.

कोरोना के कारण सरकार ने सांसदों की सैलरी में भारी कटौती की है

अब एक साल तक के लिए सांसदों को कम सैलरी मिलेगी.

भारत में कहां तक घुस चुका है कोरोना वायरस, AIIMS के डायरेक्टर ने बताया

डॉक्टर रणदीप गुलेरिया ने लॉकडाउन को लेकर भी बात की.

हनीमून मनाने मालदीव गया था कपल, ऐसे फंसे कि घर खरीदने के जो पैसे बचाए थे उसे भी खर्च करना पड़ रहा

'आईलैंड में फंस जाने वाली बात सिर्फ बोलने में अच्छी लगती है.'

9 मिनट तक दीया जलाने के बाद अब PM मोदी ने कार्यकर्ताओं से क्या आग्रह किया?

BJP का आज स्थापना दिवस है.

'स्टैच्यू ऑफ यूनिटी' को ऑनलाइन बेच रहा था शख्स, कीमत और वजह तो और भी अजीब!

2,989 करोड़ की लागत से बनी इस मूर्ति का उद्घाटन पीएम मोदी ने किया था.

ज़रूरी सामान की आड़ में ये 61 लोग वही काम कर रहे थे, जो लॉकडाउन में नहीं करना है

वो भी महाराष्ट्र में, जो कोरोना वायरस का हॉटस्पॉट बनता जा रहा है.

कोरोना के इलाज के लिए ट्रंप ने मोदी से वो दवा मांग ली जिसके एक्सपोर्ट पर बैन लगा है

कोरोना से अमेरिका में अब तक 8000 लोग मारे जा चुके हैं.

कोरोना से ठीक होने के बाद भारत का फैन बना यह अंग्रेज, कहा- ऐसा इलाज तो मेरे देश में भी नहीं होता

ब्रिटेन के ब्रायन लॉकवुड का इलाज केरल में हुआ और अब वो ठीक हैं.