Submit your post

Follow Us

मोदी सरकार किसान आंदोलन को बैकडोर से सुलझाने की कोशिश कर रही?

गणतंत्र दिवस की हिंसा के बाद लगा कि किसान आंदोलन थोड़ा कमज़ोर पड़ गया है. संयुक्त किसान मोर्चा भी बैकफुट पर दिखा, संसद मार्च रद्द कर दिया. और ये बातें सरकार के पक्ष में गई. लेकिन राकैश टिकैत के आसुंओं ने आंदोलन को दोबारा मजबूती दी. और अब 6 फ़रवरी को फिर किसान संगठन अपनी ताकत की आजमाइश करेंगे. संयुक्त किसान मोर्चा ने 6 फरवरी को देशभर में चक्का जाम रखा है. दोपहर 12 बजे से 3 बजे तक रास्ते रोके जाएंगे. हालांकि किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा है दिल्ली-एनसीआर के अलावा यूपी और उत्तराखंड में भी किसान चक्का जाम नहीं करेंगे.

राकेश टिकैत के आह्वान के बाद अब महापंचायतों का दौर थम नहीं रहा है. यूपी के शामली में आज आरएलडी नेता जयंत चौधरी ने महापंचायत की. राजस्थान के दौसा में कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने महापंचायत की जिसमें हज़ारों लोग जुटे.

धरना-प्रदर्शनों के अलावा लोकतंत्र में चुनी हुई सरकार से जवाबदेही पूछने की जगह संसद भी है. आज संसद में सरकार और विपक्षी नेताओं के बीच फिर टकराव दिखा. बात इतनी आगे चली गई कि कृषि मंत्री ने विपक्ष पर खून से खेती करने का आरोप लगा दिया. आज सुबह राज्यसभा की कार्यवाही शुरू होने के बाद एनसीपी के प्रफुल्ल पटेल, शिवसेना के संजय राउत, बीएसपी के सतीश चंद्र मिश्रा समेत कई विपक्षी सांसदों ने सरकार पर तीखा वार किया. विपक्ष ने किसान आंदोलन को लेकर सरकार की नीयत पर सवाल उठाया. कानून रद्द करने की मांग की. संजय राउत ने कहा कि जो सरकार की निंदा करता है उसे बदनाम कर दिया जाता है. कांग्रेस की तरफ से आनंद शर्मा ने कहा कि सरकार को कानून तो वापस लेने ही पड़ेंगे.

Rakesh Tikait
राकेश टिकैत कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों की आवाज बने हुए हैं.

विपक्ष के आरोपों का जवाब देने के लिए आज खुद कृषि मंत्री राज्यसभा में मौजूद थे. उन्होंने विपक्ष को चैलेंज किया कि कृषि कानून में कमी निकाल कर दिखाएं. ये भी कहा कि संशोधन करने का मतलब ये नही है कि कृषि कानून सही नहीं हैं. कृषि मंत्री ने विपक्ष पर किसानों को बगलाने का आरोप लगा, वही बात जो पीएम मोदी भी कई बार कृषि कानूनों को लेकर कह चुके हैं. कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर ने कह दिया पानी से खेती के बजाय कांग्रेस खून से खेती कर रही है. तोमर ने खून का ज़िक्र किया तो कांग्रेस ने 2002 का गोधरा केस याद दिला दिया. ये तो हुई राज्यसभा की बात. लोकसभा में आज फिर विपक्ष ने हंगामा किया. हंगामे के चलते सदन स्थगित करना पड़ा.

बैकडोर से सुलह की कोशिश?

इस आंदोलन को लेकर एक और बात आ रही है. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक पंजाब सरकार, आंदोलनकारी किसानों और केंद्र सरकार के बीच बैकडोर से सुलह की कोशिश में जुटी है. पंजाब सरकार के कुछ बड़े अधिकारी दिल्ली में हैं जो किसानों और केंद्र सरकार से लगातार संपर्क बनाए हुए हैं. सुलह के लिए एक फॉर्मूला भी दिया गया है. बात यहां समझने वाली ये है कि जब पूरी कांग्रेस बिल वापसी की मांग को लेकर मोदी सरकार को घेर रही है तो पंजाब के कैप्टन अमरिंदर सिंह क्यों सुलह कराना चाहते हैं. जो खबरें आ रही हैं उनके मुताबिक कैप्टन अमरिंदर सरकार को ये चिंता है कि अगर किसानों को दिल्ली से खाली हाथ लौटना पड़ा तो इसके नतीजे ख़तरनाक हो सकते हैं.

कुछ दिन पहले कैप्टन अमरिंदर का एक बयान आया था जिसमें उन्होंने इस झगड़े को जल्दी सुलझाने की बात कही थी. कैप्टन अमरिंदर ने कहा था कि लंबी नेगोशिएशन में उलझने के बाद 1984 में ऑपरेशन ब्लू स्टार हुआ था, उससे सीखना चाहिए. पंजाब के सीएम ने कहा था कि पाकिस्तान से खतरे को हल्के में नहीं आंका जा सकता. गुस्से को ग़लत तरीके से इस्तेमाल करने की कोशिश हो सकती है. उन्होंने ये भी कहा था कि मुझे मालूम है पाकिस्तान से कितने ड्रोन्स, कितने हथियार, गोला-बारूद की तस्करी हो रही है. इस गुस्से का ग़लत फायदा उठाया जा सकता है. इसलिए चीज़ें हाथ से निकलें उससे पहले हमें इस झगड़े को सुलझाना पड़ेगा.

अखबारी रपटों के मुताबिक गणतंत्र दिवस वाली घटना के बाद पंजाब सरकार को डर था कि अगर उस नोट पर आंदोलन खत्म हो गया तो नतीजे खतरनाक हो सकते हैं. हालांकि राकेश टिकैत ने एक बार फिर से आंदोलन में जान फूंक दी. इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक पंजाब की तरफ से ये फॉर्मूला दिया जा रहा है कि डेढ़ साल के बजाय कृषि कानूनों को तीन साल के लिए मुल्तवी किया जाए. इसी बात पर दोनों पक्षों के साथ पंजाब सरकार के अधिकारियों की बात चल रही है, ऐसी जानकारी है.

Republic Day Red Fort Mob Violence
दिल्ली पुलिस की ओर से 25 तस्वीरें जारी की गई हैं, जिनमें लोग तोड़फोड़ करते नजर आ रहे हैं. (तस्वीर: इंडिया टुडे)

माना ये भी जा रहा है कि गणतंत्र दिवस वाली हिंसा में भी ऐसे ही संगठनों का हाथ था जो किसानों के गुस्से का गलत इस्तेमाल करना चाहता है. गणतंत्र दिवस वाली हिंसा मे शामिल लोगों की आज दिल्ली पुलिस ने फोटा जारी की ये. ये वो चेहरे हैं जिनकी वीडियो के आधार पर दिल्ली पुलिस ने हिंसा में शामिल होने की शिनाख्त की है.


 

विडियो- किसान प्रोटेस्ट पर ग्रेटा के ट्वीट के बाद दिल्ली पुलिस को किस साजिश का पता चला?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

मुंबई और चेन्नई के बीच होने वाले मैच में किसका पलड़ा भारी है?

मुंबई और चेन्नई के बीच होने वाले मैच में किसका पलड़ा भारी है?

UAE में मैच है लेकिन फिर भी ये स्टैट CSK फैन्स को खुश कर देगा.

WTC फाइनल के बाद ही टीम इंडिया ने कर दी थी कोहली से बग़ावत?

WTC फाइनल के बाद ही टीम इंडिया ने कर दी थी कोहली से बग़ावत?

ये तो अलग ही कहानी है.

रोहित के फेवरेट ने क्यों ठुकराया टीम इंडिया की कोचिंग का ऑफर?

रोहित के फेवरेट ने क्यों ठुकराया टीम इंडिया की कोचिंग का ऑफर?

ये आते तो कमाल ही हो जाता.

धोनी के मेंटॉर बनने का ये वाला फायदा तो शायद ही किसी ने सोचा होगा!

धोनी के मेंटॉर बनने का ये वाला फायदा तो शायद ही किसी ने सोचा होगा!

वीरू ने बताई कायदे की बात.

इस्तीफे के बाद बोले अमरिंदर - सिद्धू के पाकिस्तान से कनेक्शन, वो राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा

इस्तीफे के बाद बोले अमरिंदर - सिद्धू के पाकिस्तान से कनेक्शन, वो राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा

कैप्टन ने अपने राजनीतिक भविष्य पर भी बड़ी बात कही.

मुंबई के खिलाफ उतरने से पहले बढ़ गया धोनी का सरदर्द!

मुंबई के खिलाफ उतरने से पहले बढ़ गया धोनी का सरदर्द!

ये तो बहुत गड़बड़ ख़बर है.

आयकर विभाग का दावा, सोनू सूद ने करोड़ों की अवैध विदेशी फंडिंग, फर्जी लेनदेन और टैक्स चोरी की

आयकर विभाग का दावा, सोनू सूद ने करोड़ों की अवैध विदेशी फंडिंग, फर्जी लेनदेन और टैक्स चोरी की

विभाग बोला, सूद ने फर्जी लोन और रसीदों के जरिए वित्तीय धोखाधड़ी को अंजाम दिया!

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस्तीफा दिया

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने इस्तीफा दिया

विधायकों की मीटिंग से पहले सौंप दिया इस्तीफा.

शार्दुल ठाकुर को किसने सिखाया बल्ला पकड़ने का तरीका?

शार्दुल ठाकुर को किसने सिखाया बल्ला पकड़ने का तरीका?

माही से बेहतर टिप्स कौन देगा?

'चीन और इस्लामिक देश करीब आ रहे हैं', बिपिन रावत के बयान को विदेश मंत्रालय ने नकारा!

'चीन और इस्लामिक देश करीब आ रहे हैं', बिपिन रावत के बयान को विदेश मंत्रालय ने नकारा!

एस जयशंकर ने चीन के विदेश मंत्री से कहा- भारत और चीन को एक दूसरे के प्रति सम्मान की भावना रखनी होगी.