Submit your post

Follow Us

गोरखपुर: मनीष गुप्ता की हत्या के आरोपी पुलिसवालों पर 302 लगी, पत्नी ने होटल पर क्या आरोप लगाए?

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर से 28 सितंबर को एक मामला सामने आया. शहर के तीन पुलिसवालों पर आरोप लगा कि उनकी पिटाई से कानपुर के एक व्यक्ति की मौत हो गई. पीड़ित मनीष गुप्ता अपने दो दोस्तों के साथ गोरखपुर आया था और एक होटल में रुका था. मीडिया रिपोर्टों के मुताबिक, आरोपी पुलिस देर रात होटल पहुंचे. वे मनीष गुप्ता समेत तीनों लोगों से पूछताछ करने लगे. बाद में खबर आई कि कथित रूप से पुलिस की पिटाई से मनीष गुप्ता की मौत हो गई.

मामले में पहले पहल पुलिस का ये पक्ष सामने आया कि घटना के समय मनीष नशे में थे, वो गिरे और सिर पर चोट आई, जिसके कारण मौत हो गई. इस बीच पुलिस अधिकारियों का एक वीडियो भी आया, जिसमें वो मृतक के परिजनों को केस न कराने की सलाह दे रहे हैं. लेकिन मामला बढ़ा तो 29 सितंबर को मामले में FIR दर्ज हुई और तीनों आरोपी पुलिसवालों पर हत्या का केस दर्ज हुआ है. पूरा घटनाक्रम सिलसिलेवार तरीके से समझते हैं.

मनीष और पुलिसवालों में बहस हुई थी

कानपुर के रहने वाले 35 वर्षीय मनीष गुप्ता अपने दो दोस्तों हरदीप सिंह चौहान और प्रदीप चौहान के साथ 27 सितंबर को गोरखपुर आए थे. अपने एक अन्य दोस्त से मिलने. ये सभी लोग गोरखपुर के रामगढ़ताल इलाक़े के होटल कृष्णा पैलेस में रुके हुए थे. उसी रात क़रीब साढ़े 12 बजे रामगढ़ताल थाने की पुलिस जांच करने होटल पहुंची. कमरे का दरवाजा खटखटाकर खुलवाया गया. साथ में होटल का रिसेप्शनिस्ट भी था. पुलिसवालों ने कहा कि चेकिंग हो रही है, ID प्रूफ़ दिखाओ. इतनी रात गए होटल के रूम में आकर चेकिंग करने पर मनीष और पुलिसवालों में बहस हो गई. पुलिसवालों पर आरोप है कि उन्होंने मनीष को इतना मारा कि वो ख़ून से तरबतर हो गए. उन्हें अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई.

केस न कराने की सलाह देने का आरोप

इसके बाद 29 सितंबर को ही गोरखपुर पुलिस का एक वीडियो आया, जिसमें कुछ पुलिसकर्मी मनीष के परिजनों को केस न कराने की सलाह दे रहे हैं. कह रहे हैं कि आपको अंदाजा नहीं है कि मुकदमा सालों-साल चलता रहता है. स्थानीय पत्रकारों ने ये वीडियो ट्वीट किया.

मामला बढ़ा. राजनीति भी गरम हुई. कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने ट्वीट किया –

“खबरों के अनुसार गोरखपुर में एक कारोबारी को पुलिस ने इतना पीटा कि उनकी मृत्यु हो गई. इस घटना से पूरे प्रदेश के आमजनों में भय व्याप्त है. इस सरकार में जंगलराज का ये आलम है कि पुलिस अपराधियों पर नर्म रहती है और आमजनों से बर्बर व्यवहार करती है.”

बस सुप्रीमो मायावती ने ट्वीट किया –

“यूपी सीएम के गृह जनपद गोरखपुर में पुलिस द्वारा होटल में रात्रि रेड करके तीन व्यापारियों के साथ बर्बर व्यवहार और उसमें से एक की मौत अति दुखद और शर्मनाक घटना है. ये राज्य में भाजपा सरकार की कानून-व्यवस्था के दावों की पोल खोलता है. वास्तव में ऐसी घटनाओं से पूरा प्रदेश पीड़ित है. राज्य सरकार से पीड़ित परिवार को हर स्तर पर समुचित न्याय की मांग है. साथ-साथ ऐसी अन्य जघन्य घटनाओं को भी अति-गंभीरता से लेकर इनकी पुनरावृति को रोकना सुनिश्चित करने के लिए प्रभावी उपाय करने की बीएसपी मांग करती है.”

क्या कार्रवाई हुई?

इंडिया टुडे/आजतक से जुड़े रंजय सिंह की रिपोर्ट के मुताबिक रामगढ़ताल SO जेएन सिंह, उप निरीक्षक अक्षय मिश्रा, उप निरीक्षक विजय यादव और 3 अज्ञात के खिलाफ थाना रामगढ़ताल में IPC की धारा 302 के तहत केस दर्ज किया गया है. SSP विपिन टाडा ने बताया कि 6 पुलिसकर्मियों को सस्पेंड किया गया है. योगी सरकार ने कहा है कि मृतक के परिवार को 10 लाख रुपये की मुआवजा राशि दी जाएगी. वहीं, कानपुर के DM विकास अय्यर ने बताया कि 30 सितंबर को कानपुर में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पीड़ित के परिवार से मिलेंगे.

इस सबके बीच मनीष गुप्ता की पत्नी का वीडियो भी वायरल है. इसमें वे अपने पति को याद कर रोते हुए उन्हें न्याय देने की गुहार लगा रही हैं. उन्होंने ये भी कहा कि जिस होटल में मनीष रुके थे उसे पूरी तरह साफ करवा दिया गया है, जबकि घटना के समय कमरे में मनीष का खून फैला हुआ था.

मीनाक्षी गुप्ता ने आरोप लगाया कि जिस होटल में मेरे पति की हत्या हुई, उसका मालिक हमारे साथ सहयोग नहीं कर रहा है. मैं होटल के ख़िलाफ़ भी मुक़दमा दर्ज़ करूंगी. होटल का मालिक अच्छा नहीं है. उस होटल का लाइसेंस रद्द होना चाहिए और सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि होटल का मालिक फिर से कहीं और होटल ना बनाए.


गोरखपुर में प्रॉपर्टी डीलर मनीष गुप्ता की मौत पर UP पुलिस की सफाई खून खौलाने वाली है!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

राजीव गांधी के हत्यारे को सुप्रीम कोर्ट ने रिहा किया, जानिए किस कानून का इस्तेमाल हुआ?

राजीव गांधी के हत्यारे को सुप्रीम कोर्ट ने रिहा किया, जानिए किस कानून का इस्तेमाल हुआ?

वो पेरारिवलन, जिसने राजीव गांधी की हत्या में इस्तेमाल जैकेट के लिए बैटरी सप्लाई की थी

सुप्रीम कोर्ट में बाबरी मस्जिद वाले जज सुनेंगे ज्ञानवापी मस्जिद वाला केस!

सुप्रीम कोर्ट में बाबरी मस्जिद वाले जज सुनेंगे ज्ञानवापी मस्जिद वाला केस!

मामला सुप्रीम कोर्ट क्यों गया?

LIC-IPO की लिस्टिंग पर लगी 42,500 करोड़ की चपत, अब क्या करें ?

LIC-IPO की लिस्टिंग पर लगी 42,500 करोड़ की चपत, अब क्या करें ?

ऑफर प्राइस से 8% नीचे लिस्ट हुआ देश का सबसे बड़ा IPO

मुंडका अग्निकांड: मृतकों का आंकड़ा 26 तक पहुंचा, बचाव के लिए NDRF को बुलाया गया

मुंडका अग्निकांड: मृतकों का आंकड़ा 26 तक पहुंचा, बचाव के लिए NDRF को बुलाया गया

इस घटना ने दिल्ली के लोगों को हिलाकर रख दिया है.

छत्तीसगढ़ के रायपुर एयरपोर्ट पर सरकारी हेलीकॉप्टर क्रैश, दो पायलटों की मौत

छत्तीसगढ़ के रायपुर एयरपोर्ट पर सरकारी हेलीकॉप्टर क्रैश, दो पायलटों की मौत

क्रैश का कारण अभी साफ नहीं हो सका है.

जम्मू-कश्मीर में एक और कश्मीरी पंडित की हत्या, आतंकियों ने सरकारी दफ्तर में घुसकर गोली मारी

जम्मू-कश्मीर में एक और कश्मीरी पंडित की हत्या, आतंकियों ने सरकारी दफ्तर में घुसकर गोली मारी

मृतक राहुल भट्ट राजस्व विभाग में कार्यरत थे.

क्या क्रिप्टो करंसी के बुरे दिन शुरू हो गए हैं ? छह महीने में आधी हो गईं कीमतें

क्या क्रिप्टो करंसी के बुरे दिन शुरू हो गए हैं ? छह महीने में आधी हो गईं कीमतें

30% इनकम टैक्स के बाद अब 28% जीएसटी लगाने की तैयारी

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

पेट्रोल के दाम घटाने की मांग कर रहे विपक्षी राज्यों को पीएम मोदी ने नवंबर याद दिला दिया

मुख्यमंत्रियों के साथ वर्चुअल मीटिंग में पीएम मोदी ने नाम ले-लेकर सुनाया.

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

धार्मिक जुलूस की अनुमति की प्रक्रिया जान लो, जहांगीरपुरी हिंसा की वजह समझ आ जाएगी

जानकारों ने जहांगीरपुरी में निकले जुलूस पर सवाल उठाए हैं.

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

लेफ्टिनेंट जनरल मनोज पांडे का सेनाध्यक्ष बनना खास क्यों है?

मौजूदा आर्मी चीफ मनोज मुकुंद नरवणे के रिटायर्ड होने पर पदभार संभालेंगे.