Submit your post

Follow Us

क्या कोरोना मरीजों से प्राइवेट अस्पताल मोटी फीस वसूल रहे हैं?

कोरोना वायरस फैलने का दौर है. सरकारी अस्पतालों पर कोरोना मरीजों के इलाज और देख-रेख का बड़ा जिम्मा है. सरकार ने प्राइवेट अस्पतालों को भी कोरोना पॉजिटिव मरीजों के इलाज का आदेश दे रखा है. लेकिन शिकायतें आ रही हैं कि प्राइवेट अस्पताल मरीजों से मोटा पैसा वसूल रहे हैं. वे लैब टेस्ट, दवाओं और पीपीई किट जैसे सामान पर जमकर मुनाफा कूट रहे हैं. मुंबई से ऐसे कई मामले सामने आए हैं.

कई चीजों के मनमाना चार्ज लेने का आरोप

‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ ने इस बारे में खबर दी है. इसमें लिखा है कि ऐसे मामले सामने आए हैं, जिनमें 10-15 दिन भर्ती रहे मरीजों से 4 से 16 लाख रुपये तक इलाज के नाम पर वसूले गए. ऐसी शिकायतें आई हैं कि मरीजों से आइसोलेशन के नाम पर भी बड़ी रकम ऐंठी गई. रिपोर्ट में मुंबई के एक बड़े अस्पताल के सीनियर कंसल्टेंट के हवाले से लिखा,

आइसोलेशन के नाम पर मरीजों से फर्स्ट क्लास सिंगल रूम या सिंगल डीलक्स रूम का पैसा लिया जा रहा है. छाती के एक्सरे और सीटी स्कैन थोपे जा रहे हैं. कई मरीजों की हालत ठीक होती है, लेकिन उन्हें आईसीयू में रखा जा रहा है. इससे बिल बढ़ता है. मरीज के टेस्ट कराने को लेकर किसी नियम वगैरह को नहीं माना जा रहा. एक मरीज का आठ घंटे अस्पताल में रहने का बिल 80,000 रुपये हो गया था. यह हैरान कर देने वाला मामला है.

रिपोर्ट में आगे कहा गया है कि मरीजों से अस्पताल एक पीपीई किट और मास्क वगैरह के 2200 या इससे ज्यादा रुपये तक वसूल रहे हैं. एक मल्टी स्पेशलिटी अस्पताल के कंसल्टेंट के हवाले से लिखा है कि अच्छी क्वालिटी की पीपीई किट 800 से 1200 रुपये तक में आ जाती है.

सामान्य जांच के भी चौगुने दाम

‘टाइम्स ऑफ इंडिया’ ने एक अस्पताल के बिल का हवाला देते हुए लिखा कि मरीज से बायोमेडिकल वेस्ट और कोरोना रेजिडेंट मेडिकल ऑफिसर के नाम पर, एक दिन के 3500 रुपये चार्ज किए गए. इसी तरह लिवर और किडनी जांच के भी सामान्य से भी ज्यादा पैसे लिए जा रहे हैं. रिपोर्ट के अनुसार, लिवर या किडनी से जुड़े टेस्ट आमतौर पर 400 से 800 रुपये में होते हैं. लेकिन प्राइवेट अस्पतालों ने इनके 3000 से 3500 रुपये तक लिए.

एक अस्पताल पर फूल बरसाता सेना का हेलीकॉप्टर. यह कदम कोरोना वॉरियर्स याी डॉक्टरों के सम्मान में उठाया गया था. (Photo:AP)
एक अस्पताल पर फूल बरसाता सेना का हेलीकॉप्टर. यह कदम कोरोना वॉरियर्स यानी डॉक्टरों के सम्मान में उठाया गया था. (Photo:AP)

किसी व्यक्ति के कोरोना वायरस से संक्रमित होने पर उसके ठीक होने तक कोरोना टेस्ट होते हैं. प्राइवेट लैब में जांच के लिए सरकार ने 4500 रुपये तय किए हैं. हालांकि यह सामने आया है कि जांच का वास्तविक खर्चा कम है. फिर भी मरीज से हर बार 4500 रुपये ही वसूले जा रहे हैं.

10 दिन के इलाज का खर्च चार लाख रुपये

‘हिंदुस्तान टाइम्स’ ने भी इसी तरह की एक खबर दी थी. 18 अप्रैल की खबर के अनुसार, प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों से ज्यादा पैसे लिए जाने के मामले सामने आए हैं. रिपोर्ट में दादर के मरीजों का उदाहरण दिया गया है. इसके अनुसार एक दंपत्ति को COVID-19 हुआ. वे 4 अप्रैल को एक प्राइवेट अस्पताल में भर्ती हुए. 12 अप्रैल को छुट्टी देने के समय इनका बिल चार लाख रुपये का आया. उस बिल में सेफ्टी किट के पैसे भी जोड़े गए.

कोरोना वायरस के चलते मास्क, ग्लव्स काफी डिमांड है.(Photo:AP)
कोरोना वायरस के चलते मास्क, ग्लव्स काफी डिमांड है.(Photo:AP)

प्रशासन ने कही कदम उठाने की बात

ऐसे मामले सामने आने के बाद बृहन्मुंबई महानगरपालिका ने प्राइवेट अस्पतालों में मरीजों के इलाज की कीमत तय करने का फैसला किया था. एडिशलन म्युनिसिपल कमिश्नर (हेल्थ) सुरेश काकानी ने ‘हिंदुस्तान टाइम्स’ से बात की. कहा कि प्राइवेट अस्पतालों के साथ लैबों में भी ज्यादा पैसे लेने के मामले आए हैं. इसकी जांच कर रहे हैं. साथ ही रेट तय किए जाएंगे. उन्होंने कहा कि हरेक मरीज के लिए अलग से पीपीई किट इस्तेमाल करने की जरूरत नहीं है. एक सेफ्टी किट से कई मरीजों का इलाज हो सकता है. ऐसे में सेफ्टी किट के लिए मरीज से अलग से पैसे लेना ठीक नहीं.

आईएमए ने क्या कहा

इसी बीच इंडियन मेडिकल एसोसिएशन यानी आईएमए की महाराष्ट्र ब्रांच के प्रेसिडेंट डॉ. अविनाश भोंडवे ने प्राइवेट अस्पतालों का पक्ष रखा. कहा कि प्राइवेट अस्पतालों को पीपीई किट खरीदनी पड़ रही हैं. अगर महानगर पालिका बिल की कीमतें तय करना चाहता है, तो उसे सेफ्टी किट फ्री मुहैया करानी चाहिए. अस्पतालों को भी पैसों का नुकसान हो रहा है.

इंश्योरेंस कंपनियों ने भी आंखें तरेरीं

वहीं ‘मनी कंट्रोल’ ने खबर दी है कि प्राइवेट अस्पतालों के ज्यादा पैसे वसूलने के मामलों पर इंश्योरेंस कंपनियों का भी ध्यान गया है. कंपनियों का कहना है कोरोना मरीजों के बिल के दावे औसतन दो से तीन लाख के बीच हैं. लेकिन कई ऐसे मामले हैं, जिनमें 12 लाख रुपये के बिल भी आए हैं. ऐसे में डेटा जुटाया जा रहे हैं. इसके बाद फैसला लिया जाएगा.

भारत में कोरोना वायरस के मामलों का स्टेटस


Video:कोरोना वायरस से लड़ने के लिए इम्यूनिटी कैसे बढ़ाएं, आयुष मंत्रालय बता रहा है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

राजस्थान हारी पर तेवतिया ने विराट के साथ खेल कर दिया!

राजस्थान हारी पर तेवतिया ने विराट के साथ खेल कर दिया!

तेवतिया क्या खाकर खेल रहे हैं यार?

धोनी ने बता ही दी जडेजा को आख़िरी ओवर देने की वजह

धोनी ने बता ही दी जडेजा को आख़िरी ओवर देने की वजह

DC ने CSK को अंतिम ओवर में हराया.

RR को हराने के बाद विराट कोहली ने डिविलियर्स के साथ किसे दिया जीत का क्रेडिट?

RR को हराने के बाद विराट कोहली ने डिविलियर्स के साथ किसे दिया जीत का क्रेडिट?

फिंच की फॉर्म पर कोहली ने कही ये बात.

सहवाग ने क्यों ट्वीट किया- 'कोविड वैक्सीन बना सकते हैं राहुल तेवतिया'

सहवाग ने क्यों ट्वीट किया- 'कोविड वैक्सीन बना सकते हैं राहुल तेवतिया'

कोहली को तो तेवतिया ने चखा ही दी 'कड़वी वैक्सीन'.

गोंडा: पुजारी और महंत ने गांव के प्रधान के साथ मिल कर खुद हमला कराया था

गोंडा: पुजारी और महंत ने गांव के प्रधान के साथ मिल कर खुद हमला कराया था

पुजारी को गोली मारने के मामले में पुलिस का दावा.

बिहार: बीजेपी प्रत्याशी के भाई के फ्लैट पर पुलिस का छापा, 22 किलो सोना मिला!

बिहार: बीजेपी प्रत्याशी के भाई के फ्लैट पर पुलिस का छापा, 22 किलो सोना मिला!

नेपाल पुलिस ने छापेमारी कर सारा सोना, चांदी जब्त कर लिया है.

मिथुन चक्रवर्ती के बेटे के खिलाफ रेप और जबरन अबॉर्शन का केस दर्ज

मिथुन चक्रवर्ती के बेटे के खिलाफ रेप और जबरन अबॉर्शन का केस दर्ज

महाक्षय की पत्नी ने कहा-ये सब पुरानी कहानियां हैं. ये सब तीन साल पहले हुआ था.

ग्लोबल हंगर इंडेक्स: पाकिस्तान और नेपाल से भी पीछे रह गया भारत

ग्लोबल हंगर इंडेक्स: पाकिस्तान और नेपाल से भी पीछे रह गया भारत

इस रिपोर्ट को लेकर राहुल गांधी ने सरकार पर निशाना साधा है.

नीतीश कुमार की पार्टी में शामिल हुए 2008 मालेगांव बम धमाके के आरोपी

नीतीश कुमार की पार्टी में शामिल हुए 2008 मालेगांव बम धमाके के आरोपी

लेकिन मामला बिहार का नहीं यूपी का है.

जबलपुर केस में मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने उसकी परेड निकाल दी

जबलपुर केस में मुख्य आरोपी की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने उसकी परेड निकाल दी

ऑटो ड्राइवर से मारपीट का मामला, चार में से तीन गिरफ्तार हो चुके हैं, एक अभी भी फरार है.