Submit your post

Follow Us

एमएस धोनी लंबे समय बाद 'मैदान' पर उतरे और आते ही कमाल कर दिया

विश्वकप. 9 जुलाई, 2019 का दिन, 49वें ओवर की तीसरी गेंद पर धोनी की वो तेज़ दौड़. गप्टिल की सीधी थ्रो पर धोनी का रन-आउट होना. यही वो आखिरी तस्वीर है जिसे फैंस याद करते हैं. 6 जुलाई के बाद से धोनी को फिर कभी नीली जर्सी में नहीं देखा गया. कभी सेना के लिए तो कभी ड्रेसिंग रूम में खिलाड़ियों की हौसला अफज़ाई के लिए तो दिखे लेकिन मैदान पर नहीं.

न चयनकर्ता साफ-साफ कुछ कहते हैं और न ही कभी धोनी कि वो आएंगे या अब कभी नहीं आएंगे. लेकिन इस बार धोनी की एक ऐसी तस्वीर सामने आई है जो भारतीय क्रिकेट और एमएस धोनी के करोड़ों फैंस के दिल को बड़ी ठंडक देगी.

अपने घर में समय बिता रहे धोनी को हाल ही में मैदान पर देखा गया. ये खेल का मैदान तो था लेकिन क्रिकेट का नहीं. ‘एमएस धोनी फैंस ऑफिशियल’ नाम के सोशल मीडिया हैंडल के जरिए धोनी का एक वीडियो और तस्वीरें शेयर की गईं हैं. जिनमें धोनी टेनिस खेलते नज़र आ रहे हैं.

बताया गया कि वो जेएससीए स्टेडियम में एक टेनिस टूर्नामेंट खेलने आए हैं. इस टूर्नामेंट का नाम है ‘कंट्री क्रिकेट क्लब टेनिस टूर्नामेंट’. इसके पहले मैच में धोनी को अपने साथी सुमित कुमार के साथ जीत मिली. धोनी ने इस मुकाबले में माइकल और चेल्स को मेन्स डबल में (6-0,6-0) धूल चटा दी.

इस मैच की एक खास बात और रही. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ विश्वकप के पहले मैच में धोनी के हाथ पर लगा पैरा मिलिट्री फोर्स का बलिदान बैज तो आपको याद ही होगा. ऐसा ही बैज लेकर धोनी ये टेनिस मैच खेलने उतरे. इस बार ये बैज उनकी टीशर्ट पर था. धोनी भारतीय टैरिटोरियल आर्मी में लेफ्टिनेंट कर्नल के पद पर मौजूद हैं. साल 2011 में उन्हें ये उपाधि दी गई थी. तब से अकसर वो भारतीय सेना के लिए कुछ न कुछ करते रहे हैं.

ऐसा भी नहीं है कि धोनी सिर्फ क्रिकेट के मैदान पर सुपरहीरो हैं. इसके अलावा भी वो पहले स्कूल टाइम में अपनी फुटबॉल टीम के गोलकीपर रह चुके हैं. जबकि वो बैडमिंटन और गोल्फ भी खेलते रहे हैं.

2018 में भी इस टूर्नामेंट के चैम्पियन थे माही:

महेन्द्र सिंह धोनी साल 2018 में भी इस टूर्नामेंट में खेले थे. वो इस टूर्नामेंट के फाइनल तक पहुंचे थे और चैम्पियन बने थे.


इंडिया Vs बांग्लादेश: ऋषभ पंत ने पहले गलती की और फिर दूसरी बार में बचा लिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.

पुलवामा हमले के लिए विस्फोटक कहां से और कैसे लाए गए, नई जानकारी सामने आई

पुलवामा हमला 14 फरवरी, 2019 को हुआ था.

दो महीने बाद शुरू हुई हवाई यात्रा, जानिए कैसा रहा पहले दिन का हाल?

दिल्ली में पहले दिन 80 से ज्यादा उड़ानें कैंसिल क्यों करनी पड़ी?

बलबीर सिंह सीनियर: तीन बार के हॉकी गोल्ड मेडलिस्ट, जिन्होंने 1948 में इंग्लैंड को घुटनों पर ला दिया था

हॉकी लेजेंड और भारतीय टीम के पूर्व कप्तान और कोच बलबीर सिंह सीनियर का 96 साल की उम्र में निधन.