Submit your post

Follow Us

खुद थाला से जानिए कि अगले सीजन कहां होंगे धोनी?

महेंद्र सिंह धोनी अगले साल भी चेन्नई सुपरकिंग्स के पीले रंग में दिखेंगे. हालांकि यह साफ नहीं है कि वह प्लेयर के रूप में होंगे या सपोर्ट स्टाफ बनकर CSK का साथ देंगे. धोनी ने एक बयान में कहा कि उन्हें नहीं पता कि IPL2022 के दौरान उनका CSK में क्या रोल रहेगा. धोनी साल 2008 से ही CSK के कप्तान हैं. उन्होंने पंजाब किंग्स के खिलाफ चल रहे मैच के दौरान साफ कर दिया कि वह अगले साल भी CSK के साथ ही रहेंगे.

धोनी ने टॉस के वक्त कहा,

‘आप अगले साल भी मुझे येलो में ही देखेंगे. लेकिन पता नहीं कि मैं अगले साल भी CSK के लिए खेलूंगा या नहीं. यहां बहुत सारी अनिश्चितताएं हैं और अभी दो नई टीमें भी आने वाली हैं, हमें नहीं पता कि रिटेंशन पॉलिसी क्या होने वाली है. पता नहीं कितने भारतीय और विदेशी प्लेयर्स रिटेन किए जा सकते हैं, पता नहीं टीमों को कितने पैसे खर्च करने की परमिशन होगी. हमें इसका इंतजार करना होगा. हमें इसका इंतजार करना होगा और उम्मीद है कि यह सबके लिए अच्छा होगा.’

धोनी ने यह भी कहा कि इस सीजन लगातार होते मैचों के चलते उनके लिए फिटनेस मेंटेन करना मुश्किल रहा. बता दें कि भारत में शुरू हुए IPL2021 को कोविड के चलते बीच में रोकना पड़ा था. और फिर UAE में टूर्नामेंट दोबारा शुरू होने के बाद मैचों के बीच का गैप कम हुआ. धोनी ने इस बारे में कहा,

‘फिटनेस मेंटेन करना मुश्किल है. IPL पोस्टपोन होने का अर्थ था कि हमें लगातार मुकाबले खेलने होंगे. हमें थोड़ा स्ट्रेच करना पड़ा लेकिन ठीक है, फिटनेस की कोई चिंता नहीं है.’

बता दें कि चेन्नई की टीम प्लेऑफ के लिए क्वॉलिफाई कर चुकी है. पिछले सीजन के बुरे प्रदर्शन के बाद टीम ने इस सीजन कमाल की वापसी करते हुए प्लेऑफ में एंट्री की. हालांकि प्लेऑफ में पहुंचने के बाद उनका प्रदर्शन थोड़ा खराब हुआ है. टीम ने लगातार तीन मैच गंवाए हैं लेकिन कैप्टन कूल धोनी को इसका लोड नहीं है. उनका मानना है कि CSK रिकवर करने में सक्षम है.


IPL 2021: विलियमसन के एक थ्रो ने पलट दिया पूरा मैच

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

लखीमपुर: SC ने यूपी सरकार से रिपोर्ट मांगते हुए ऐसी बात पूछी है कि जवाब देना मुश्किल हो सकता है

लखीमपुर: SC ने यूपी सरकार से रिपोर्ट मांगते हुए ऐसी बात पूछी है कि जवाब देना मुश्किल हो सकता है

विस्तृत रिपोर्ट दाखिल करने के लिए यूपी सरकार को एक दिन का वक्त दिया है.

छत्तीसगढ़: कवर्धा में किस बात पर ऐसी हिंसा हुई कि इंटरनेट बंद करना पड़ गया?

छत्तीसगढ़: कवर्धा में किस बात पर ऐसी हिंसा हुई कि इंटरनेट बंद करना पड़ गया?

रविवार 3 अक्टूबर की शाम से यहां कर्फ्यू लगा है.

पैंडोरा पेपर्स: लक्ष्मी निवास मित्तल के भाई प्रमोद मित्तल पर बड़ी टैक्स चोरी और धोखाधड़ी का आरोप

पैंडोरा पेपर्स: लक्ष्मी निवास मित्तल के भाई प्रमोद मित्तल पर बड़ी टैक्स चोरी और धोखाधड़ी का आरोप

ब्रिटेन की अदालतों में इन दोनों ने अपनी आय शून्य बताई थी.

लखीमपुर का रोंगटे खड़े करने वाला वीडियो, प्रदर्शन कर रहे किसानों पर पीछे से कैसे चढ़ा दी गाड़ी!

लखीमपुर का रोंगटे खड़े करने वाला वीडियो, प्रदर्शन कर रहे किसानों पर पीछे से कैसे चढ़ा दी गाड़ी!

घटना में घायल शख्स ने 'दी लल्लनटॉप' को बताई पूरी कहानी.

फोन पर नेताओं की कुर्सी फिक्स करती थी, अब नई तरह की हैट्रिक बनाई है

फोन पर नेताओं की कुर्सी फिक्स करती थी, अब नई तरह की हैट्रिक बनाई है

पनामा हो या पैराडाइज़, या हो पैंडोरा. लीक जहां, नीरा राडिया का नाम वहां.

जब कोर्ट में बहस के दौरान आर्यन खान के वकील बोले,

जब कोर्ट में बहस के दौरान आर्यन खान के वकील बोले, "वो चाहे तो पूरी शिप खरीद सकता है"

आर्यन खान 7 अक्टूबर तक कस्टडी में रहेंगे.

पैंडोरा पेपर्स: जैकी और टाइगर श्रॉफ ने ट्रस्ट से पैसा कमाया, लेकिन ट्रस्टी को पैसा नहीं लौटाया!

पैंडोरा पेपर्स: जैकी और टाइगर श्रॉफ ने ट्रस्ट से पैसा कमाया, लेकिन ट्रस्टी को पैसा नहीं लौटाया!

जैकी की बेटी आयशा श्रॉफ़ ने आरोपों पर सफाई भी दी है.

पैंडोरा पेपर लीक: इधर पनामा पेपर लीक हुए, उधर सचिन ने अपनी कंपनी बंद कर दी

पैंडोरा पेपर लीक: इधर पनामा पेपर लीक हुए, उधर सचिन ने अपनी कंपनी बंद कर दी

ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड्स में सचिन और उनके परिवार के सदस्यों के नाम 2016 तक एक कंपनी थी.

कौन हैं अरबाज़ मर्चेंट और मुनमुन धमेचा, जो आर्यन खान के साथ गिरफ्तार हुए?

कौन हैं अरबाज़ मर्चेंट और मुनमुन धमेचा, जो आर्यन खान के साथ गिरफ्तार हुए?

अरबाज़ के कई सारे सेलेब्रिटी दोस्त हैं.

लखीमपुर खीरी: मृत किसानों के परिजनों को मुआवजे के तौर पर ये सब देगी योगी सरकार

लखीमपुर खीरी: मृत किसानों के परिजनों को मुआवजे के तौर पर ये सब देगी योगी सरकार

केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा की मांग, मारे गए बीजेपी कार्यकर्ताओं के परिवार को 50-50 लाख दिए जाएं.