Submit your post

Follow Us

2,00,500 रुपए: चालान का ये नया रिकॉर्ड बनाने के लिए बंदे को क्या-क्या नियम न तोड़ने पड़े होंगे

1.67 K
शेयर्स

चर्चा-ए-चालान अब सबकी महफ़िल में है… किसका कितना और कैसे कटा यही सवाल सबकी जुबां पे है…

हर दिन नए रिकॉर्ड बना रहा चालान कहीं किसी दिन नई गाड़ी की रक़म से ही आगे ना निकल जाए. इन्फेक्ट एक बार तो निकल भी चुका था, बेशक वो सेकेंड हेंड ऑटो था. बहरहाल, चालान ने पिछ्ला रिकॉर्ड बनाया था दिल्ली में. तक़रीबन डेढ़ लाख के चालान के साथ ये रिकॉर्ड बना था, और अगले ही दिन टूट भी गया. कहां? राजधानी दिल्ली में.

# कित्ते का कटा

दिल्ली में 12 सितंबर की रात अब तक का सबसे बड़ा चालान काटा गया है. 2 लाख 500 रुपये का चालान एक ट्रक मालिक को ओवरलोडिंग के लिए चुकाना पड़ा. मुकरबा चौक से भलस्वा की तरफ जाते समय हरियाणा के नंबर की इस गाड़ी का चालान हुआ था. दिल्ली के रोहिणी कोर्ट में चालान पेश हुआ. मालिक ने कोर्ट में ही चालान भर भी दिया.

इत्ते चालान लगे हैं इस ट्रक पर कि बस पूछिए मत
इत्ते चालान लगे हैं इस ट्रक पर कि बस पूछिए मत

अब आप सोचेंगे कि इत्ता भारी चालान कटा कैसे? शायद आपको ड्राइवर और ट्रक मालिक के लिए बुरा भी महसूस हो रहा होगा. इस पर भी बात करेंगे. लेकिन पहले हिसाब समझ लीजिए.

ट्रक ड्राइवर से 56 हजार ओवरलोडिंग के लिए, 5000 हजार रुपये ड्राइविंग लाइसेंस नहीं होने पर, 10 हजार रुपये रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट के लिए, 10 हजार रुपये फिटनेस के लिए, 10 हजार रुपये परमिट वायलेशन के लिए, 4 हजार रुपये इंश्योरेंश के लिए, 10 हजार रुपये पॉल्यूशन सर्टिफिकेट नहीं होने के लिए, 20 हजार रुपये बिना ढकीं निर्माण सामग्री ले जाने के लिए और 1000 रुपये सीट बेल्ट न लगाने के लिए जुर्माना किया गया.

2 लाख 500 का भारी चालान
2 लाख 500 का भारी चालान

ये भी समझ लीजिए कि ओवर लोडिंग का चालान 20 हजार रुपये है, और जितना टन अधिक सामान होगा उसे 2 हजार के गुना कर दिया जाएगा. ड्राइवर कुल 18 टन ज्यादा सामान लेकर जा रहा था. बता दें कि जितनी चालान की रकम ड्राइवर को देनी होगी, करीब उतनी ही रकम ट्रक मालिक को भी देनी पड़ेगी.

# अब ये समझिए

हां, तो आपको ड्राइवर के लिए बुरा लग रहा था क्या? लेकिन कुछ फ़ील करने से पहले इतना समझ लीजिए कि ये ट्रक नहीं बल्कि सड़क पर फुल स्पीड में दौड़ते किसी बम जैसा है. ना तो ट्रक का रजिस्ट्रेशन सर्टिफ़िकेट था, ना ड्राइवर के पास ड्राइविंग लाइसेंस था. ड्राइवर इतना हैवी ट्रक चलाने के लिए भी फिट नहीं था. ओवरलोड माने आपके हमारे पैसों से बनी सड़क का सत्यानाश. थर्ड पार्टी इंश्योरेंस ना होना, माने अगर ट्रक से कोई मर गया तो कोई जवाबदेही नहीं. ना सीटबेल्ट और ना बाक़ी कोई नियम.

मतलब खुल्ला खेल फर्रुखाबादी. सड़क पर चलने का लगभग हर नियम तोड़ रहा था ये ट्रक. चालान भर चुका है तो शायद सुधार हो.


वीडियो देखें:

नए मोटर व्हिकल एक्ट में मोदी सरकार का लगाया जुर्माना क्या सच में अति है?। दी लल्लनटॉप शो|Episode 301

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

इस यंग बॉक्सर की वजह से मेरी कॉम को बड़ा झटका लगने वाला है!

पहले ओलंपिक क्वॉलिफायर्स में सीधे जाने वाली थीं, अब ट्रायल देना होगा.

अयोध्या पर फैसलाः पीएम मोदी ने क्यों किया बर्लिन की दीवार गिरने का जिक्र

गज़ब का संयोग है.

इस पैरा एथलीट ने अपना ही वर्ल्ड रिकॉर्ड तोड़ दिया है

टोक्यो में अगले साल होने वाले पैरालंपिक इवेंट का टिकट भी जीत लिया है.

मुस्लिम पक्ष के वकीलों ने रामलला और हिन्दू आस्था के बारे में क्या कहा था?

एक सुर में एक बात.

राम मंदिर के लिए रथ यात्रा निकालने वाले आडवाणी ने SC के फैसले पर क्या कहा है?

आडवाणी ने सर्वोच्च न्यायालय के फैसले का स्वागत किया है.

एमएस धोनी लंबे समय बाद 'मैदान' पर उतरे और आते ही कमाल कर दिया

एक बार फिर मैदान पर उतरे एमएस धोनी.

कैप्टन रोहित शर्मा ने वो काम कर दिया जिसे करने से धोनी चूक गए थे

नई परंपरा शुरू करने में धोनी से आगे निकल गए रोहित.

चाइना ओपनः इन भारतीय प्लेयर्स ने दुनिया की नंबर एक जोड़ी के पसीने छुटा दिए

कड़ी टक्कर देने के बाद भी फाइनल में नहीं जा पाई सात्विक और चिराग की जोड़ी.

वो चुनाव, जब कांग्रेस ने राम मंदिर के नाम पर वोट मांग विधायक जितवाया था

वो भी नेहरू के रहते हुए.

राम मंदिर मामला - कौन हैं वो दो वकील जिन्हें सुप्रीम कोर्ट ने धन्यवाद कहा

जानिए उनके बारे में.