Submit your post

Follow Us

BJP अध्यक्ष अमित शाह के काम-काज को कितने प्रतिशत भारतीय अच्छा मानते हैं?

5
शेयर्स

इंडिया टुडे ने एक सर्वे किया है. कार्वी के साथ मिलकर किया है. ‘मूड ऑफ दी नेशन’ नाम दिया है इसको. राजनीति से जुड़े सवाल पूछे गए लोगों से. क्या है इसमें, जानते हैं:

1. कांग्रेस की तरफ से प्रधानमंत्री पद के लिए सबसे योग्य उम्मीदवार कौन है?
– 52% लोग राहुल गांधी और 11% लोग मनमोहन सिंह को योग्य मानते हैं. उनसे नीचे सोनिया गांधी 7% पर और प्रियंका गांधी 5% पर हैं.

motn-rahul

 

2. क्या आप मानते हैं कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी 2019 लोकसभा चुनावों में अपनी पार्टी की तकदीर बदल सकते हैं?
– जनवरी, 2019 में 55% लोगों ने इस सवाल का जवाब हां में दिया. अगस्त, 2018 में ऐसा केवल 47% लोगों ने माना था. अगस्त, 2018 में 36% लोगों ने ना कहा था, जो जनवरी 2019 में घटकर 32% रह गया.

motn-rahul-congress2

 

3. क्या महागठबंधन में शामिल नेता 2019 के लोकसभा चुनावों में राहुल गांधी को प्रधानमंत्री पद के उम्मीदवार के तौर पर स्वीकार करेंगे?
– अगस्त, 2018 में 46% लोगों ने हां कहा था. जनवरी, 2019 में ये बढ़कर 53% हो गया. अगस्त, 2018 में 35% लोगों ने ना कहा था. जनवरी, 2019 में ये घटकर 32% हो गया.

motn-rahul-mahagathbandhan-

 

4. पिछले कुछ वक्त में राहुल गांधी लगातार कई मंदिरों में गए हैं. क्या इससे बीजेपी के हिंदुत्व पर एकाधिकार को चुनौती मिली है?
– पिछले एक साल में इस सवाल के जवाब में उतार-चढ़ाव आया है. हां में जवाब देने वाले जनवरी 2018 में 47%, अगस्त 2018 में 56% और जनवरी 2019 में 51% हैं. ना में जवाब देने वाले जनवरी 2018 में 39%, अगस्त 2018 में 29% और जनवरी 2019 में 35% हैं.

motn-rahul-mandir-4

 

5. बीजेपी अध्यक्ष के तौर पर अमित शाह की परफॉर्मेंस कैसी रही?
– जनवरी 2019 में 9% ने वेरी गुड और 25% ने गुड कहा है. मतलब कि 34% लोग अच्छा या उससे ऊपर मानते हैं. औसत मानने वाले भी 34% ही हैं. 27% लोग खराब या बहुत खराब मानते हैं. गुड और वेरी गुड वाला आंकड़ा अगस्त 2016 से जनवरी 2018 तक बढ़ता गया, लेकिन उसके बाद घटने लगा. खराब और बहुत खराब वाला आंकड़ा जनवरी 18 से लगातार बढ़ता जा रहा है.

motn-amit-shah-5

अच्छा तो जाते-जाते समझते हैं कि ये सर्वे है क्या. अंग्रेजी में लिख रहे हैं MOTN. बोले तो Mood Of The Nation. ये एक बड़ा सर्वे है. जो इंडिया टुडे ग्रुप हर 6 महीने में करता है. इस बार कार्वी इनसाइट्स के साथ हुए इस सर्वे में देश की 97 लोकसभा सीटों को कवर किया गया. इस सर्वे के लिए 12,166 इंटरव्यू हुए. जो एकदम आमने-सामने से हुए. देश के 19 राज्यों में ये सर्वे हुआ. ये सर्वे 28 दिसंबर 2018 से 8 जनवरी 2019 के बीच किया गया है. इस सर्वे की एक और खास बात है. वो ये कि इस सर्वे का सैंपल 69 फीसदी ग्रामीण इलाकों से लिया गया है और 31 फीसदी शहरी इलाकों से.


वीडियो: अगर सब साथ आ गए तो यूपी में बीजेपी को सिर्फ 5 सीट मिलेंगी – सर्वे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

JNU : जिस समय आइशी घोष को पीटा जा रहा था, उसी वक़्त उन पर FIR हो रही थी

और नक़ाबपोश गुंडों का न कोई नाम, न कोई सुराग

बवाल हुआ तो JNU प्रशासन ने मंत्रालय से कैम्पस को बंद करने की मांग उठा दी

मंत्रालय ने भी ये जवाब दिया.

5 जनवरी की रात तीन बजे तक JNU कैम्पस में क्या-क्या हुआ?

जेएनयू कैम्पस में 5 जनवरी को नकाबपोशों ने स्टूडेंट्स और टीचर्स पर हमला किया.

2015 और इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में क्या अंतर है?

चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे.

JNU छात्रों पर हमले के बाद VC एम जगदीश कुमार क्या बोले?

नकाबपोश गुंडों ने कैंपस में मारपीट की थी.

जानिए, 5 जनवरी की दोपहर और शाम JNU कैंपस में क्या हुआ?

दो-तीन दिनों से कैंपस में तनाव था. अगले सेमेस्टर के रजिस्ट्रेशन पर स्टूडेंट्स में झड़पों की भी ख़बरें आईं थीं.

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...

CAA Protest : यूपी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाने वालों को पुलिस ने क्यों ब्लॉक किया?

यूपी पुलिस की इस कार्रवाई का क्या मतलब है?