Submit your post

Follow Us

मोदी के 12 मंत्रियों के इस्तीफों के पीछे क्या वजहें हैं?

2019 की जीत के बाद मोदी सरकार का पहला बड़ा कैबिनेट फेरबदल हुआ. नए मंत्रियों ने शपथ ली. कैबिनेट विस्तार से ठीक पहले कई मंत्रियों ने इस्तीफे दे दिए. इनमें केंद्रीय कानून व आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद, सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावडेकर और स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन जैसे बड़े नाम भी शामिल हैं. केंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री थावरचंद गहलोत ने मंगलवार को ही इस्तीफा दे दिया था. उन्हें कर्नाटक का राज्यपाल बनाया गया है. कुल 12 मंत्रियों का इस्तीफा हो चुका है. जानते हैं कि किन मंत्रियों ने इस्तीफा दिया है, और इसके पीछे क्या वजह सामने आ रही है.

1. डॉ. हर्षवर्धन (स्वास्थ्य मंत्री)

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया. माना जा रहा है कि कोरोना की दूसरी लहर के दौरान स्वास्थ्य सेवाएं चरमराने की वजह से उनकी कुर्सी चली गई. ऑक्सीजन, बेड, वेंटिलेटर ना मिलने की वजह से हजारों लोगों की जानें गईं. सरकार पर सवाल उठे. कहा जा रहा है कि इसी का खामियाजा डॉक्टर हर्षवर्धन को उठाना पड़ा है. हर्षवर्धन के पास विज्ञान और तकनीक मंत्रालय भी था. उनके इस्तीफे से दो मंत्रालय खाली हो गए हैं.

Harsh Wardhan
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन.

2. रमेश पोखरियाल निशंक (शिक्षा मंत्री)

रमेश पोखरियाल निशंक के पास मानव संसाधन विकास मंत्रालय का प्रभार था. बताया जा रहा है कि स्वास्थ्य संबंधी कारणों के चलते निशंक को हटाया गया. कुछ दिन पहले उन्हें कोरोना हो गया था. इसके चलते वह करीब एक महीने तक अस्पताल में भर्ती रहे. उस दौरान शिक्षा के क्षेत्र में हालात इतने ज्यादा बिगड़ गए कि CBSE बोर्ड एग्जाम पर फैसला लेने के लिए पीएम मोदी को खुद आगे आना पड़ा. नई शिक्षा नीति के बारे में भी कहा जा रहा है कि शिक्षा मंत्रालय उसका श्रेय सरकार को नहीं दिला पाया.

Ramesh Pokhriyal
रमेश पोखरियाल. (फाइल फोटो- PTI)

3. थावरचंद गहलोत (सामाजिक न्याय मंत्री)

मोदी सरकार की कैबिनेट में सबसे उम्रदराज केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत के बारे में कहा जा रहा है कि बढ़ती उम्र की वजह से उन्हें पद छोड़ना पड़ा. हालांकि, मोदी सरकार ने उन्हें  कर्नाटक का राज्यपाल बनाकर सक्रिय राजनीति से सम्मानजनक विदाई दी है. मोदी सरकार अपने पहले कार्यकाल 2014 से ही यह तय कर चुकी है कि वह 75 साल से ज्यादा उम्र के किसी भी मंत्री को कैबिनेट में नहीं रखेगी. और गहलोत की उम्र अब 73 के पार हो गई थी.

Thawar Chand Gehlot
थावरचंद गहलोत राज्यसभा में बोलते हुए गहलोत.

4. सदानंद गौड़ा (उर्वरक और रसायन मंत्री)

कर्नाटक की बेंगलूरू उत्तर लोकसभा सीट से भाजपा सांसद सदानंद गौड़ा ने भी इस्तीफा दे दिया है. वह रासायनिक एवं उर्वरक मंत्री थे. सूत्रों के मुताबिक, सदानंद गौड़ा पर कोरोना काल में हुई दवाओं की कमी को लेकर गाज गिरी है. इसके चलते मोदी सरकार की काफी फजीहत हुई थी.

सदानंद गौड़ा
सदानंद गौड़ा

5.संतोष गंगवार (श्रम राज्य मंत्री)

उत्तर प्रदेश की बरेली लोकसभा सीट से सांसद संतोष गंगवार को भी पद से हटा दिया गया. कोरोना काल में संतोष गंगवार की लिखी एक चिट्ठी काफी वायरल हुई थी. इसमें उन्होंने उत्तर प्रदेश सरकार की आलोचना की थी. ऐसी चर्चा है कि गंगवार को उसी चिट्ठी की सजा मिली.

श्रम एवं रोजगार मंत्री संतोष गंगवार
संतोष गंगवार

6.बाबुल सुप्रियो (पर्यावरण मंत्रालय)

पश्चिम बंगाल की आसनसोल लोकसभा सीट से सांसद बाबुल सुप्रियो ने भी मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. वह पर्यावरण मंत्रालय में राज्य मंत्री थे. कहा जा रहा है कि सुप्रियो पार्टी से नाराज चल रहे थे. इसके पीछे पश्चिम बंगाल विधानसभा को जिम्मेदार ठहराया जा रहा है, जिसमें बाबुल सुप्रियो मैदान में उतरे थे, लेकिन 50 हजार वोटों से हार गए. बाबुल ने फेसबुक पर अपना दर्द जाहिर किया. इस्तीफे की खबरों पर उन्होंने लिखा कि जब धुआं होता है तो कहीं आग जरूर होती है. हां, मुझे इस्तीफा देने के लिए कहा गया है, और मैंने दे भी दिया है.

Babul Supriyo
केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो को बीजेपी ने विधायकी का चुनाव लड़वा दिया था. फाइल फोटो

7. देबाश्री चौधरी (महिला बाल विकास मंत्री)

पश्चिम बंगाल की रायगंज लोकसभा सीट से भाजपा सांसद देबाश्री चौधरी ने भी मंत्री पद छोड़ दिया है. वह महिला एवं बाल विकास राज्य मंत्री थीं. कहा जा रहा है कि पश्चिम बंगाल भाजपा में उन्हें अहम पद दिया जा सकता है, जिसके चलते उनसे इस्तीफा लिया गया.

Deboshree
देबोश्री

8. संजय धोत्रे

महाराष्ट्र की अकोला लोकसभा सीट से सांसद संजय धोत्रे का भी इस्तीफा हो गया है. वह शिक्षा के साथ ही सूचना और प्रौद्योगिकी मंत्रालय के राज्य मंत्री थे. बताया जा रहा है कि पीएम नरेंद्र मोदी, संजय धोत्रे के काम से खुश नहीं थे. उन्हें संगठन में एडजस्ट किया जा सकता है.

Sanjay
संजय धोत्रे

9.रतन लाल कटारिया

हरियाणा की अंबाला लोकसभा सीट से सांसद रतन लाल कटारिया ने भी इस्तीफा दे दिया है. वह जल शक्ति मंत्रालय में राज्य मंत्री थे. कटारिया को किसान आंदोलन के दौरान पिछले साल अंबाला में काले झंडे दिखाए गए थे. इस पर वो भड़क गए थे और प्रदर्शनकारियों के बारे में कह दिया था कि इन्हें यहीं मरना था. उन्हें काले झंडे ही दिखाने थे तो कहीं और जाकर दिखा लेते.

Ratanlal Kataria
रतनलाल कटारिया को किसानों ने काले झंडे दिखाए. (फोटो – फेसबुक)

10. प्रताप चंद्र सारंगी

ओडिशा की बालासोर लोकसभा सीट से सांसद प्रताप चंद्र सारंगी से भी इस्तीफा ले लिया गया है. वह सूक्ष्म, लघु और मध्यम के साथ पशुपालन, डेयरी और मत्स्य पालन मंत्रालय के राज्य मंत्री थे. जब 2019 में मंत्री बने थे, तब उन्हें सादगी का प्रतीक बताया गया था. उन्हें ओडिशा का मोदी कहकर प्रचारित किया गया था.

प्रताप चंद्र सड़ंगी ओडिशा के मोदी कहलाते हैं (फोटोः फेसबुक)
प्रताप चंद्र सारंगी ओडिशा के मोदी कहलाते हैं (फोटोः फेसबुक)

11. रविशंकर प्रसाद (कानून मंत्री)

केंद्रीय कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद को भी पद से इस्तीफा देना पड़ा है. बिहार के पटना साहिब से लोकसभा सांसद हैं. मोदी सरकार में कानून व न्याय मंत्री, संपर्क व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री थे. ट्विटर के साथ विवाद की वजह से चर्चा में रहे. कई यूजर्स ने उन पर ‘देश के कानून को ठेंगा’ दिखा रहे ट्विटर के खिलाफ सख्त ऐक्शन के बजाय महज ‘जबानी जमा-खर्च’ का आरोप लगाया था. यहां तक कि ट्विटर ने एक अमेरिकी कानून के कथित उल्लंघन के लिए उनके अकाउंट को कुछ देर के लिए लॉक भी कर दिया था.

Ott Social Media Ravishankar Prakash Javdekar
आईटी मिनिस्टर रविशंकर प्रसाद और आईबी मिनिस्टर प्रकाश जावडेकर

12. प्रकाश जावडेकर (सूचना प्रसारण मंत्रालय)

प्रकाश जावडेकर को भी इस्तीफा देना पड़ा है. जावडेकर महाराष्ट्र से राज्यसभा सांसद हैं. वह मोदी मंत्रिमंडल में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय का जिम्मा संभाल रहे थे.

विपक्षी दलों ने इस्तीफों पर क्या कहा?

इन इस्तीफों पर राजनीतिक प्रतिक्रिया भी देखने को मिली है. कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि अगर परफॉर्मेंस पैमाना है तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को भी हट जाना चाहिए. कैबिनेट विस्तार सिर्फ ‘डिफेक्टर एडजस्टमेंट एक्सरसाइज’ है. अगर परफॉर्मेंस ही पैमाना है तो सबसे पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को हट जाना चाहिए, क्योंकि उनके रहते चीन ने हमारी जमीन पर कब्जा कर लिया. गृह मंत्री अमित शाह को भी हट जाना चाहिए, क्योंकि उनके रहते मॉब लिंचिंग और कस्टडी में डेथ जैसे मामले आम हो गए हैं. नक्सलवाद बेकाबू हो गए हैं.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि मैं नहीं कह सकती कि इतने सारे मंत्रियों ने इस्तीफा क्यों दिया. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉक्टर हर्षवर्धन के इस्तीफे पर ममता बनर्जी ने कहा कि क्या आपको लगता है कि वे शासन को लेकर गंभीर हैं? कोरोना को लेकर सारी बैठकें प्रधानमंत्री करते हैं. स्वास्थ्य मंत्री को शिकार बना रहे हैं. अगर वे गंभीर होते तो कोविड-19 की दूसरी लहर नहीं होती. बंगाल के केंद्रीय मंत्रियों के इस्तीफे पर ममता बनर्जी ने सवाल किया कि क्या अचानक बाबुल सुप्रियो और देबाश्री बीजेपी के लिए गलत हो गए हैं?


सोशल लिस्ट: मोदी सरकार के मंत्रिमंडल में बदलाव के पहले क्या बातें चलीं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल के साथ उत्तराखंड में भी बारिश का कहर, सड़कें, इमारतें, पुल ध्वस्त, 16 की मौत

केरल में भारी बारिश के कारण हुई मौतों की संख्या 35 तक पहुंची.

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

जिस CBI अफसर को केस बंद करने के लिए सौंपा गया था, उसी ने सलाखों के पीछे पहुंचा दिया राम रहीम को

इंसाफ दिलाने के लिए धमकियों और खतरों की परवाह नहीं की.

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

लगातार दूसरे दिन आतंकियों ने गैर कश्मीरी मजदूरों को बनाया निशाना, 2 की मौत, 1 घायल

पुलिस और सुरक्षा बलों ने इलाके को घेरा.

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

केरल में भारी बारिश से तबाही, 25 से ज़्यादा मौतें, कई लापता

पीएम मोदी ने केरल के मुख्यमंत्री से की बात.

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

श्रीनगर में बिहार के रेहड़ीवाले और पुलवामा में यूपी के मजदूर की गोली मारकर हत्या

कश्मीर ज़ोन पुलिस ने बताया घटनास्थलों को खाली कराया गया. तलाशी जारी.

सिंघु बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या पर किसान नेताओं ने क्या कहा है?

सिंघु बॉर्डर पर युवक की बर्बर हत्या पर किसान नेताओं ने क्या कहा है?

राकेश टिकैत ने भी मीडिया से बात की है.

बांग्लादेश: दुर्गा पूजा पंडाल को कट्टरपंथियों ने तहस-नहस किया, मूर्तियां तोड़ीं, 3 लोगों की मौत

बांग्लादेश: दुर्गा पूजा पंडाल को कट्टरपंथियों ने तहस-नहस किया, मूर्तियां तोड़ीं, 3 लोगों की मौत

कुरान को लेकर अफवाह उड़ी और बांग्लादेश के कई हिस्सों में सांप्रदायिक तनाव फैल गया.

आर्यन खान को अब भी नहीं मिली बेल, 20 तारीख तक जेल में ही रहना होगा

आर्यन खान को अब भी नहीं मिली बेल, 20 तारीख तक जेल में ही रहना होगा

जज ने दोनों पक्षों की दलीलें तो सुनी लेकिन अपना फैसला रिज़र्व रख दिया.

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

पुंछ मुठभेड़ से कुछ देर पहले भाई से बचपन की बातें कर हंस रहे थे शहीद मंदीप सिंह!

किसी ने लोन लेकर परिवार को नया घर दिया था तो कोई दिवंगत पिता के शोक में जाने वाला था.

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, पूछताछ में डराने वाली जानकारी दी

दिल्ली में संदिग्ध पाकिस्तानी आतंकी गिरफ्तार, पूछताछ में डराने वाली जानकारी दी

पुलिस ने संदिग्ध आतंकी के पास से एके-47, हैंड ग्रेनेड और कई कारतूस मिलने का दावा किया है.