Submit your post

Follow Us

कश्मीर: 6 साल पहले जिस लड़के ने आर्मी जवानों को बचाया था, वो अब एनकाउंटर में मारा गया

साल 2014 में जम्मू-कश्मीर के कई हिस्सों में भयंकर बाढ़ आई थी, तब 19-20 बरस के एक लड़के ने कुछ लोगों के साथ मिलकर आर्मी के कई जवानों को बचाया था. तब उसकी जमकर तारीफ हुई थी. नाम था आसिफ मुज़फ्फर शाह. ये लड़का 22 सितंबर को एक एनकाउंटर में मारा गया. ‘इंडिया टुडे’ से जुड़े अशरफ वानी ने बताया कि इस साल अगस्त के महीने में आसिफ ने मिलिटेंसी जॉइन कर ली थी. वो बडगाम ज़िले के चेरार-ए-शरीफ इलाके में सेना के साथ हुई मुठभेड़ में मारा गया.

कश्मीर के लोकल मीडिया चैनल्स की रिपोर्ट के मुताबिक, आसिफ पुलवामा ज़िले के पाम्पोर का रहने वाला था. साल 2014 की बाढ़ के वक्त उसने पाम्पोर में करीब दो दर्जन जवानों की जान बचाई थी. परिवार के एक सदस्य ने नाम ज़ाहिर न करने की शर्त पर बताया कि इस नेक काम के बाद, लोकल आर्मी यूनिट ने आसिफ को सहायक बनने का ऑफर दिया था. ये भी कहा था कि उसे सेना में भी शामिल कर लिया जाएगा, लेकिन उसने ऑफर ठुकरा दिया. ये कहते हुए कि वो ‘मजबूर’ लोगों की मदद करके केवल अपनी ड्यूटी पूरी कर रहा था. आसिफ के एक पड़ोसी ने बताया,

“जब विनाशकारी बाढ़ एक के बाद एक सभी गांवों को तबाह कर रही थी, तब लेठपोरा कैंप के जवानों के दो वाहन बाढ़ में फंस गए. आसिफ शाह ने बुद्धि और साहस का प्रदर्शन किया और उन सैनिकों को बचाया जो बाढ़ से बचने के लिए वाहन की छत पर चढ़ गए थे.”

आसिफ ने पुलवामा डिग्री कॉलेज से ग्रेजुएशन किया था. और काकापोरा में किताब की दुकान चलाता था. 2019 में पुलवामा के लेठपोरा CRPF के काफिले पर हमला हुआ, इस ब्लास्ट में 40 जवान शहीद हो गए. इसके बाद आसिफ के ऊपर आतंकियों का साथ देने का आरोप लगा. पूछताछ के लिए उसे कई बार हिरासत में लिया गया. इस साल नेशनल इन्वेस्टिगेशन एजेंसी (NIA) ने उसे समन भी भेजा था, लेकिन पुलिस स्टेशन में रिपोर्ट करने के बजाए, उसने 13 अगस्त को घर छोड़ दिया. अपने परिवार को मैसेज भेजा कि उसे खोजने की कोशिश न करें.

एनकाउंटर के बाद मेडिकल और लीगल सारी औपचारिकताएं पूरी करने के बाद, आसिफ के शव को हंदवाड़ा में दफना दिया गया है.


वीडियो देखें: जम्मू-कश्मीर की राजभाषा को लेकर क्या है मोदी सरकार की तैयारी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

केंद्रीय मंत्री सुरेश अंगड़ी का कोविड-19 से निधन

दिल्ली के एम्स में उनका इलाज चल रहा था.

धोनी का वर्ल्ड कप जिताने वाला सिक्सर याद है! वो अब स्टेडियम में अमर होने वाला है

भारत में किसी खिलाड़ी को जो मुकाम हासिल नहीं हुआ, वो अब धोनी को मिलने वाला है.

अंतरिक्ष में भी लद्दाख जैसी हरकतें कर रहा है चीन

भारत के सैटेलाइट पर है ख़तरा!

चुनाव लड़ने के लिए गुप्तेश्वर पांडे ने दूसरी बार पुलिस सेवा से रिटायरमेंट ले ली है

2009 में भी गुप्तेश्वर पांडे ने वीआरएस लिया था, पर तब बीजेपी ने टिकट नहीं दिया था.

दिल्ली दंगे के लिए पुलिस ने अब इस ग्रुप को जिम्मेदार ठहराया है

चार्जशीट में दिल्ली पुलिस ने और क्या कहा है?

किस बात पर पंजाब में सनी देओल के 'सामाजिक बहिष्कार' की बात हो रही है?

कुछ लोग कह रहे हैं कि अपने गांवों में घुसने नहीं देंगे.

एक्ट्रेस के यौन शोषण के इल्ज़ाम पर अनुराग कश्यप का जवाब आया है

पायल घोष ने आरोप लगाया है.

चीन की इंटेलीजेंस को गोपनीय रिपोर्ट्स भेजने के आरोप में चीन की महिला सहित पत्रकार गिरफ्तार

दिल्ली पुलिस ने कई सारे मोबाइल फोन, लैपटॉप समेत कई सेंसिटिव दस्तावेज भी बरामद किए हैं.

केरल और बंगाल से अल कायदा के 9 संदिग्ध आतंकी गिरफ्तार!

एनआईए ने दोनों राज्यों में छापे मारे.

हरसिमरत कौर बादल ने किसानों से जुड़े मुद्दे को लेकर मोदी सरकार से इस्तीफा दिया

हरसिमरत कौर केंद्र सरकार में फूड प्रॉसेसिंग इंडस्ट्रीज मिनिस्टर थीं.