Submit your post

Follow Us

पैगंबर के खिलाफ़ फेसबुक पर लिखा, तो पंचायत ने सुनाई ये सज़ा

फेसबुक पर भड़काऊ पोस्ट करने वाली जमात में इज़ाफ़ा होता ही जा रहा है. ख़ास तौर से किसी धर्म को लेकर ऊलजलूल पोस्ट करने का ट्रेंड सा चल पड़ा है. बंगाल में ऐसी ही एक पोस्ट से ट्रिगर होकर दंगा तक हो चुका है. ऐसे में समाज के रहनुमाओं का फ़र्ज़ बनता है कि वो इस तरह की घटनाओं से लोगों को दूर रखने की कोशिश करे. ऐसी ही एक घटना में मेवात की एक महापंचायत ने एक्शन ले लिया. फेसबुक पर भड़काऊ पोस्ट लिखने वाले लड़के पर महापंचायत में मुकदमा चलाया. उसका दोष साबित भी हुआ. यहां तक तो ठीक था. पर उसके बाद पंचायत ने वही किया, जिसके लिए वो बदनाम है.

पहले पूरा मामला जान लें

मेवात के नगीना कस्बे में एक महापंचायत बुलाई गई. वजह थी दौलतराम नाम के एक 25 साल के लड़के की फेसबुक पर की गई कारगुज़ारी. लड़के ने किसी धर्म को लेकर फेसबुक पर अभद्र टिपण्णी कर दी थी. इससे इलाके में दो धर्मों के बीच तनाव बढ़ने के आसार बढ़ गए थे. तुरंत गांव के बुजुर्गों ने एक्शन लिया. कस्बे के सरपंच और सर्वधर्म समाज की एक बैठक बुलाई. नगीना की चौधरी चौपाल पर महापंचायत शुरु हुई. हाजी असगर हुसैन ने मामले से सबको अवगत कराया. आरोपी युवक से जवाब मांगा गया. हाजी नासिर हुसैन ने आरोपों की फेहरिस्त पढ़ कर सुनाई. दौलतराम ने सारे आरोप कबूल कर लिए. पंचायत से माफ़ी मांग ली. कहा कि पंचायत जो सज़ा दे वो उसे भुगतने के लिए तैयार है.

पंचायत का फैसला

पंचायत का कहना था कि दौलतराम की इस हरकत से इलाके के लोगों का आपसी भाईचारा ख़तरे में पड़ गया है. इस महापंचायत में 21 सदस्य थे, जो सभी धर्मों का प्रतिनिधित्व करते थे. आरोपों और अपराधी की स्वीकारोक्ति को सुनने के बाद, अध्यक्ष सुभाष गुप्ता ने फैसला सुनाया. बस यही फैसला पंचायत के तमाम अच्छे क़दमों पर भारी पड़ गया.

पंचायत ने लड़के को 11 जूते मारने का फरमान सुनाया. साथ में 21 हज़ार का जुर्माना और तीन महीने के लिए गांव से तड़ीपार करने का हुक्म सुना दिया गया. गांव के एक बुज़ुर्ग व्यक्ति ने दौलतराम को सबको सामने 11 जूते लगाए भी. बस यही कुछ जम नहीं रहा.

क्यों ये फैसला गलत है?

पंचायत ने खुद नोटिस लेकर मामले की छानबीन की, ये अच्छी बात है. बल्कि सच कहा जाए तो एक मिसाल है. अगर समाज के लोग ही इतने सजग रहने लगे तो सांप्रदायिक तनाव की स्थिति बने ही न. लोगों को हमेशा ही इतना अलर्ट रहना चाहिए. इस लिहाज़ से मेवात की ये पंचायत सच में ही बधाई की पात्र है. लेकिन…

लेकिन जो सज़ा उन्होंने तय की वो सही नहीं है. किसी को भरी पंचायत में जूते मारना और कुछ नहीं, हल्का तालिबानी संस्करण ही है. 21 हज़ार का जुर्माना भी सही नहीं. हो सकता है आरोपी के परिवार की माली हालत इतना लोड लेने लायक हो ही न. 11 जूते मारकर किया गया अपमान तो उस व्यक्ति को और भी नफरत करने के लिए प्रेरित करेगा.

बेहतर तो ये होता कि पंचायत सज़ा देने का कोई अच्छा रास्ता खोजती. जैसे अगर उस लड़के को तमाम दूसरे धर्मों के ग्रंथों का अध्ययन करने और उसपर कुछ पॉजिटिव लिखने के लिए कहा जाता. ऐसी ही कोई सज़ा मामले को दबा भी देती और एक युवा नफरत से दूर भी चला जाता.

खैर ये हो न सका. पंचायत ने एक गलत फैसले से अपनी एक बेहतरीन पहल का सत्यानास मार दिया.


ये भी पढ़ें:

ये भाजपा के विधायक हैं या गली के गुंडे!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

सुवेंदु अधिकारी और उनके भाई के खिलाफ राहत सामग्री चोरी करने के आरोप में FIR

सुवेंदु अधिकारी और उनके भाई के खिलाफ राहत सामग्री चोरी करने के आरोप में FIR

वेस्ट बंगाल पुलिस ने इस मामले में जांच शुरू कर दी है.

अलीगढ़ शराबकांड का मुख्य आरोपी और एक लाख का इनामी ऋषि शर्मा गिरफ्तार

अलीगढ़ शराबकांड का मुख्य आरोपी और एक लाख का इनामी ऋषि शर्मा गिरफ्तार

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जहरीली शराब से अब तक 108 लोगों की मौत हो चुकी है.

ट्विटर ने उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू के अकाउंट से ब्लू टिक हटाया, कुछ ही घंटे में रिस्टोर किया

ट्विटर ने उपराष्ट्रपति वैंकेया नायडू के अकाउंट से ब्लू टिक हटाया, कुछ ही घंटे में रिस्टोर किया

पर्सनल अकाउंट से हटा था ब्लू टिक, ट्विटर ने वजह बताई.

यूपीः भाजपा नेताओं ने हिस्ट्रीशीटर को पुलिस की गिरफ्त से छुड़ाकर भगा दिया, पुलिस अब तक तलाश रही है

यूपीः भाजपा नेताओं ने हिस्ट्रीशीटर को पुलिस की गिरफ्त से छुड़ाकर भगा दिया, पुलिस अब तक तलाश रही है

कानपुर की घटना, पुलिस ने शुरुआती FIR में बीजेपी नेताओं का नाम ही नहीं लिखा.

राजस्थान में क्या सचमुच कोरोना वैक्सीन की जमकर बर्बादी हो रही है?

राजस्थान में क्या सचमुच कोरोना वैक्सीन की जमकर बर्बादी हो रही है?

अशोक गहलोत सरकार का इनकार, लेकिन आंकड़े कुछ और ही बता रहे.

रिटायर्ड जस्टिस अरुण मिश्रा को मोदी सरकार ने NHRC चेयरमैन बनाया तो बवाल क्यों हो रहा है?

रिटायर्ड जस्टिस अरुण मिश्रा को मोदी सरकार ने NHRC चेयरमैन बनाया तो बवाल क्यों हो रहा है?

लोग जस्टिस अरुण मिश्रा को इस पद के लिए चुने जाने का बस एक ही कारण गिना रहे हैं.

क्या कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों को लेकर मोदी सरकार झूठ बोल रही है?

क्या कोरोना के कारण अनाथ हुए बच्चों को लेकर मोदी सरकार झूठ बोल रही है?

अलग-अलग आंकड़े क्या कहानी बताते हैं?

लक्षद्वीप में दारू और बीफ़ वाले नियमों पर बवाल बढ़ा तो अमित शाह ने क्या कहा?

लक्षद्वीप में दारू और बीफ़ वाले नियमों पर बवाल बढ़ा तो अमित शाह ने क्या कहा?

लक्षद्वीप के सांसद मोहम्मद फैज़ल ख़ुद मिलने गए थे अमित शाह से

पत्रकार से IAS बने अलपन बंदोपाध्याय, जो ममता और मोदी सरकार में रस्साकशी की नई वजह बन गए हैं

पत्रकार से IAS बने अलपन बंदोपाध्याय, जो ममता और मोदी सरकार में रस्साकशी की नई वजह बन गए हैं

ममता बनर्जी ने केंद्र के आदेश की क्या काट ढूंढ निकाली है?

वैक्सीनेशन पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को घेरा, पूछा- वैक्सीन का एक रेट क्यों नहीं?

वैक्सीनेशन पर सुप्रीम कोर्ट ने सरकार को घेरा, पूछा- वैक्सीन का एक रेट क्यों नहीं?

वैक्सीन की कमी, राज्यों के टेंडर जैसे मुद्दों पर भी सरकार से तीखे सवाल किए.