Submit your post

Follow Us

शहीद पलानी ने लोन लेकर घर बनवाया था, लेकिन एक बार देख भी नहीं सके

शहीद जवान हवलदार के. पलानी. तमिलनाडु के रामनाथपुरम के रहने वाले थे. लोन लेकर घर बनवाया था. घरवालों ने गृह प्रवेश भी कर लिया था, केवल पलानी के आने का इंतज़ार कर रहे थे. वो एक साल के अंदर रिटायरमेंट लेकर नए घर में परिवार के साथ रहने जाने वाले थे. लेकिन 15 जून को गलवान घाटी में भारत और चीन सेना के बीच हुई झड़प में वो शहीद हो गए.

रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस झड़प में भारत के 20 सैनिक शहीद हुए हैं. 16 जून की दोपहर खबर आई थी कि तीन सैनिक शहीद हुए, लेकिन रात तक पता चला कि शहीद होने वाले जवानों की संख्या 20 है. ये संख्या अभी और बढ़ सकती है. वहीं चीन के भी कुछ जवान घायल हुए हैं और कुछ मारे गए हैं.

बर्थडे पर आखिरी बार बात की थी.

जवान हवलदार के. पलानी उन तीन सैनिकों में शामिल थे जिनके शहीद होने की खबर 16 जून को दिन में आई थी. TOI की रिपोर्ट के मुताबिक, 3 जून को पलानी का बर्थडे था. वो 40 बरस के हुए थे. इसी दिन उनके नए घर में परिवार वालों ने गृह प्रवेश किया था. पलानी ने फोन पर अपनी पत्नी से बात की थी. कहा था,

‘हमें सीमा से हटाया जा रहा है, इसलिए तुमसे मेरी बात नहीं हो पाएगी. चिंता मत करना.’

शहीद पलानी के ससुर ने बताया कि उन्होंने फोन पर ही गृह प्रवेश के दौरान हुई गणपति पूजा के मंत्रों के जाप सुने. पलानी के भाई भी आर्मी में क्लर्क हैं. राजस्थान में पोस्टेड हैं. 16 जून की सुबह 9 बजे उन्होंने घर पर फोन किया और गलवान घाटी में हुई घटना के बारे में बताया. शहादत की जानकारी दी. खबर सुनकर शहीद पलानी की पत्नी बेहोश हो गईं. उनके 10 साल के बेटे और 8 साल की बेटी को ये समझने में वक्त लगा कि उनके पिता के साथ क्या हुआ है. पलानी के एक रिश्तेदार कहते हैं,

‘हम नहीं जानते कि उन्हें गोली से मारा गया है या पत्थरों से. हम हैरान हैं, लेकिन हमें उनकी शहादत पर गर्व है.’

गरीबी थी, इसलिए 18 बरस में ही आर्मी से जुड़ गए

हवलदार पलानी तीन भाई-बहनों में सबसे बड़े थे. उनके माता-पिता ज्यादा नहीं कमा पाते थे. इसलिए पलानी केवल 10वीं तक ही पढ़ पाए थे. 18 की उम्र में उन्होंने आर्मी जॉइन कर ली. उसके बाद डिस्टेंस एजुकेशन के ज़रिए 12वीं पास की और बी.ए. की डिग्री ली. उनकी पत्नी 33 बरस की हैं और एक प्राइवेट कॉलेज में क्लर्क हैं.

करीब छह महीने पहले आखिरी बार अपने घर आए थे. 15 दिन के लिए. पलानी ने छोटी सी ज़मीन खरीदी थी, छुट्टियों में उन्होंने उस ज़मीन पर घर के लिए नींव डलवाई. उनके दोस्त बताते हैं,

‘बहुत भागा-दौड़ी करके उन्होंने घर बनाने के लिए लोन किया था. ये घर उनका सपना था. उन्होंने अपनी पत्नी के गहने गिरवी रखकर लोन की शुरुआती इंस्टॉलमेंट भरी. वो एक साल के अंदर रिटायरमेंट लेना चाहते थे. उनकी प्लानिंग थी कि रिटायरमेंट के बाद जो पैसे उन्हें मिलेंगे उससे वो घर की किश्तें भरेंगे और परिवार के साथ रहेंगे.’

जवान हवलदार के. पलानी की शहादत पर हर कोई उन्हें श्रद्धांजलि दे रहा है. लद्दाख की गलवान घाटी में हुआ क्या, ये जानने के लिए यहां क्लिक करें.


वीडियो देखें: लद्दाख में अचानक क्या हुआ कि चीनी सेना के साथ झड़प में जवान शहीद हो गए?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

उत्तर प्रदेश में एक IPS अधिकारी के ट्रांसफर पर क्यों तहलका मचा हुआ है?

69000 भर्ती में कार्रवाई का नतीजा ट्रांसफर बता रहे लोग. मगर बात कुछ और भी है.

गलवान घाटी: LAC पर भारत के तीन नहीं, 20 जवान शहीद हुए हैं, कई चीनी सैनिक भी मारे गए

लड़ाई में हमारे एक के मुकाबले तीन थे चीनी सैनिक.

गलवान घाटीः वो जगह जहां भारत-चीन के बीच झड़प हुई

पिछले कुछ समय से यहां पर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं.

लद्दाख: गलवान घाटी में भारत-चीन झड़प पर विपक्ष के नेता क्या बोले?

सेना के एक अधिकारी समेत तीन जवान शहीद हुए हैं.

क्या परवीन बाबी की राह पर चल पड़े थे सुशांत?

मुकेश भट्ट ने एक इंटरव्यू में कहा.

सुशांत के पिता और उनके विधायक भाई ने डिप्रेशन को लेकर क्या कहा?

फाइनेंशियल दिक्कत की ख़बरों पर भी बोले.

मुंबई में सुशांत सिंह राजपूत को दी गई अंतिम विदाई, ये हस्तियां हुईं शामिल

मुंबई में तेज बारिश के बीच अंतिम संस्कार.

सुशांत ने किस दोस्त को आख़िरी कॉल किया था?

दोस्त फोन रिसीव न कर सका. जब तक कॉल बैक किया, देर हो चुकी थी.

सुशांत के साथ काम कर चुके मनोज बाजपेयी, राजकुमार राव और अनुष्का शर्मा ने क्या कहा?

सुशांत ने 11 फिल्मों में काम किया था.

सुशांत के सुसाइड से जुड़ी शुरुआती डिटेल्स आ गई हैं, सुबह 10 बजे तक सब ठीक था

किसे कॉल किया था? घर में कितने लोग थे? वगैरह.