Submit your post

Follow Us

चीन पर मनमोहन सिंह ने पीएम मोदी को खरी-खरी सुना दी

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने लद्दाख में तनाव को लेकर बयान जारी किया है. इसमें उन्होंने पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को अपने शब्दों और घोषणाओं को लेकर सावधान रहना चाहिए. क्योंकि इनका देश की सुरक्षा पर असर पड़ता है. साथ ही कहा कि पीएम ऐसे बयान न दें, जिससे चीन की साजिशों को बल मिले. बता दें कि सर्वदलीय बैठक में पीएम मोदी ने कहा था कि भारतीय सीमा में कोई नहीं घुसा है. इस पर काफी हंगामा हुआ था. बाद में पीएमओ की ओर से इस बारे में सफाई दी गई थी. इसमें कहा गया था कि पीएम मोदी के बयान का गलत मतलब निकाला गया है.

क्या कहा मनमोहन सिंह ने?

# 15-16 जून को गलवान वैली, लद्दाख में भारत के 20 साहसी जवानों ने सर्वोच्च कुर्बानी दी. इन बहादुर सैनिकों ने कर्तव्य निभाते हुए देश के लिए अपने प्राण न्यौछावर कर दिए. उनका बलिदान बेकार नहीं जाना चाहिए.

# हम इतिहास के एक नाज़ुक मोड़ पर खड़े हैं. हमारी सरकार के निर्णय और कदम तय करेंगे कि भविष्य की पीढ़ियां हमारा आंकलन कैसे करेगी.

# प्रधानमंत्री को अपने शब्दों और घोषणाओं को लेकर सावधान रहना चाहिए. क्योंकि उनका देश की सुरक्षा और सामरिक व भूभागीय हितों पर प्रभाव पड़ता है.

# चीन ने अप्रैल 2020 से लेकर आज तक भारतीय सीमा में गलवान वैली एवं पैंगोंग लेक में कई बार जबरन घुसपैठ की है. हम न तो उनकी धमकियों और दबाव के सामने झुकेंगे, न ही अपनी भूभागीय अखंडता से कोई समझौता स्वीकार करेंगे.

# प्रधानमंत्री को अपने बयान से चीन के षडयंत्रकारी रुख को बल नहीं देना चाहिए. उन्हें यह तय करना चाहिए कि सरकार के सभी अंग इस खतरे का सामना करने और हालात को ज्यादा गंभीर होने से रोकने के लिए मिलकर काम करें.

# सरकार को आगाह करते हैं कि भ्रामक प्रचार कभी भी कूटनीति और मजबूत नेतृत्व का विकल्प नहीं हो सकता. पिछलग्गू सहयोगियों की ओर से फैलाए गए झूठ के आडंबर से सच्चाई को नहीं दबाया जा सकता.

# प्रधानमंत्री व केंद्र सरकार से आग्रह करते हैं कि वे वक्त की चुनौतियों का सामना करें. और हमारे सैनिकों की कुर्बानी की कसौटी पर खरा उतरे. अगर ऐसा नहीं होता है तो यह जनादेश से ऐतिहासिक विश्वासघात होगा.


Video: गलवान घाटी में भारत-चीन के बीच 15 जून को क्या-क्या हुआ था, विस्तार से जानिए

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

गलवान घाटी में भारत से लड़ाई पर चीन के लोग किस-किस तरह के सवाल उठा रहे हैं?

चीनी टि्वटर 'वीबो' पर कई पोस्ट लिखी गई हैं.

Exclusive: गलवान घाटी में 15 जून को तीन बार हुई लड़ाई में क्या-क्या हुआ था, विस्तार से जानिए

तीसरी लड़ाई के बाद भारत ने 16 चीनी सैनिकों के शव सौंपे थे.

राज्यसभा की 18 सीटों में से कांग्रेस और बीजेपी ने कितनी जीतीं?

एक और पार्टी है जिसने कांग्रेस जितनी सीटें जीती हैं.

दिल्ली के हेल्थ मिनिस्टर सत्येंद्र जैन ऑक्सीजन सपोर्ट पर, दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किए गए

कुछ दिन पहले कोरोना पॉज़िटिव आए थे, अब प्लाज़मा थेरेपी दी जाएगी.

चीनी सेना की यूनिट 61398, जिससे पूरी दुनिया के डेटाबाज़ डरते हैं

बड़ी चालाकी से काम करती है ये यूनिट.

गलवान घाटी में झड़प के बाद भी चीनी सेना मौजूद, 200 से ज्यादा ट्रक और टेंट लगाए

सैटेलाइट से ली गई तस्वीरों में यह सामने आया है.

पेट्रोल-डीजल के दाम में फिर से उबाल क्यों आ रहा है?

रोजाना इनके दाम घटने-बढ़ने की पूरी कहानी.

उत्तर प्रदेश में एक IPS अधिकारी के ट्रांसफर पर क्यों तहलका मचा हुआ है?

69000 भर्ती में कार्रवाई का नतीजा ट्रांसफर बता रहे लोग. मगर बात कुछ और भी है.

गलवान घाटी: LAC पर भारत के तीन नहीं, 20 जवान शहीद हुए हैं, कई चीनी सैनिक भी मारे गए

लड़ाई में हमारे एक के मुकाबले तीन थे चीनी सैनिक.

गलवान घाटीः वो जगह जहां भारत-चीन के बीच झड़प हुई

पिछले कुछ समय से यहां पर दोनों देशों की सेनाएं आमने-सामने हैं.