Submit your post

Follow Us

मनीष गुप्ता हत्याकांडः पत्नी मीनाक्षी ने गोरखपुर पुलिस पर क्या नए सवाल उठा दिए हैं?

कानपुर के प्रॉपर्टी डीलर मनीष गुप्ता (Manish Gupta) की कथित हत्या को लेकर उनकी पत्नी मीनाक्षी गुप्ता ने गोरखपुर पुलिस (Gorakhpur Police) पर फिर सवाल उठाए हैं. आरोपी थानेदार जेएन सिंह और दरोगा अक्षय मिश्रा की गिरफ्तारी के बाद मनीष की पत्नी ने गोरखपुर पुलिस पर आरोपियों से मिलीभगत के आरोप लगाए हैं. मीनाक्षी का कहना है कि आरोपियों को ढूंढ तो एसआईटी रही थी लेकिन वो मिले गोरखपुर पुलिस को. उनका कहना है कि आरोपी गोरखपुर में ही थे और पुलिस उनकी मदद कर रही थी. ऐसे में केस का ट्रायल गोरखपुर में नहीं, कानपुर में होना चाहिए. उन्होंने गोरखपुर में अपनी जान को खतरा भी बताया है.

‘STF मेहनत करती रही, लेकिन मिले गोरखपुर पुलिस को’

गोरखपुर में मनीष गुप्ता की मौत के मामले में 6 पुलिसवालों को यूपी पुलिस खोज रही थी. फरार पुलिसवालों के ऊपर यूपी पुलिस ने 1 लाख का इनाम भी घोषित किया. इनमें से 2 को गोरखपुर पुलिस ने 10 अक्टूबर को गिरफ्तार कर लिया. ये हैं इंस्पेक्टर जेएन सिंह और दरोगा अक्षय मिश्रा. इनकी गिरफ्तारी के बाद मनीष की पत्नी ने आजतक से बातचीत में आरोप लगाते हुए कहा कि,

“उनको ढूंढ तो एसआईटी रही थी. वह मेहनत कर रही थी लेकिन आरोपियों को गोरखपुर पुलिस ने ढूंढ लिया. आखिर आरोपी उनको ही क्यों मिले? यह कैसे संभव है कि गोरखपुर में ही उन्होंने मेरे पति की हत्या की और गोरखपुर पुलिस ने ही उनको ढूंढ लिया. यानी वो सभी गोरखपुर में ही थे. गोरखपुर पुलिस उनकी मदद कर रही थी. आरोपी वहां इसलिए मिले क्योंकि वो वहीं छुपे हुए थे. वहां पर लोग उनका सपोर्ट कर रहे थे. ऐसे में मेरा केस के ट्रायल के सिलसिले में गोरखपुर जाना मेरी सुरक्षा को खतरा पैदा करेगा. इसलिए मैं चाहती हूं कि ट्रायल कानपुर में हो तो मैं सुरक्षित रहूंगी.”

14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजे गए

10 अक्टूबर की शाम करीब 5 बजे आरोपी जगत नारायण सिंह और अक्षय मिश्रा को गोरखपुर की बांसगांव पुलिस ने फिल्मी अंदाज में रामगढ़ताल क्षेत्र के देवरिया बाईपास तिराहा से गिरफ्तार किया. इसके बाद आरोपियों को रामगढ़ताल थाने लाया गया. बाद में एसआईटी कानपुर की कस्टडी में दे दिया गया. इसके बाद आरोपियों से शाम 5 बजे से लेकर 6 घंटे तक पूछताछ चली. दोनों आरोपियों को देर रात 11.20 बजे थाने से निकालकर 11.30 के करीब एसीजेएम फास्ट ट्रैक कोर्ट में पेश किया गया. वहां 10-11 अक्टूबर की देर रात 1.10 बजे सुनवाई हुई. अदालत ने दोनों को 14 दिन की न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया.

मीनाक्षी को मिला नियुक्ति पत्र

बता दें कि गोरखपुर के रामगढ़ताल थाना क्षेत्र के होटल कृष्णा पैलेस में 27 सितंबर की देर रात पुलिस दबिश के दौरान कानपुर के कारोबारी मनीष गुप्ता की मौत हो गई थी. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में उनके चेहरे, सिर और शरीर के अन्य हिस्सों में गहरे चोट के निशान मिले. उनके दोस्त गुड़गांव के हरबीर सिंह, दिल्ली के प्रदीप, गोरखपुर के चंदन सैनी और राणा प्रताप चंद ने 6 पुलिसवालों पर पीटकर हत्या करने का आरोप लगाया. पुलिस ने मनीष की पत्नी मीनाक्षी गुप्ता की तहरीर पर इंस्पेक्टर जगत नारायण सिंह, चौकी इंचार्ज फल मंडी अक्षय मिश्रा, सब इंस्पेक्टर विजय यादव और 3  अज्ञात पुलिसवालों के खिलाफ धारा 302 के तहत केस दर्ज किया. बाद में एसआईटी ने एसआई राहुल दुबे, कांस्टेबल कमलेश यादव और प्रशांत कुमार को भी नामजद कर लिया.

मनीष गुप्ता की मौत के बाद काफी बवाल हुआ. विपक्षी दलों के नेताओं ने योगी आदित्यनाथ सरकार को घेरा. सरकार ने मीनाक्षी को सरकारी नौकरी और अन्य आश्वासन दिए. वादे के तहत मीनाक्षी गुप्ता को कानपुर विकास प्राधिकरण में ओएसडी के पद पर नियुक्ति दी गई है. प्राधिकरण के अधिकारियों ने मीनाक्षी के घर पहुंचकर उन्हें नियुक्ति पत्र सौंपा. मीनाक्षी ने कहा कि वह सोमवार को कार्यभार ग्रहण नहीं करेंगी क्योंकि इस दिन मनीष की तेरहवीं है. वह मंगलवार को पद ग्रहण करेंगी.


वीडियो – मनीष गुप्ता कथित हत्याकांड में होटल का CCTV फुटेज सामने आया और सब साफ हो गया!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

आर्यन खान केस से समीर वानखेड़े की छुट्टी, अब ये धाकड़ अधिकारी करेगा जांच

क्या समीर वानखेड़े को NCB जोनल डायरेक्टर पद से हटा दिया गया है?