Submit your post

Follow Us

यूपी: मुर्दाघर के फ्रीजर में जीवित पाए गए श्रीकेश को बचाया नहीं जा सका!

उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद में जिस शख्स को मुर्दा करार दिए जाने के बाद जिंदा पाया गया था, उसकी आखिरकार मौत हो गई. श्रीकेश नाम के इस शख्स ने मंगलवार 23 नवंबर को दम तोड़ दिया. पिछले हफ्ते 18 नवंबर को श्रीकेश का ऐक्सिडेंट हुआ था. इलाज के दौरान डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया था. लेकिन बाद में उनके जीवित होने का दावा किया गया.

क्या था मामला?

इंडिया टुडे की खबर के मुताबिक गुरुवार 18 नवंबर की शाम श्रीकेश घर से दूध लेने के लिए निकले थे. लेकिन रास्ते में उनका ऐक्सिडेंट हो गया. उन्हें गंभीर हालत में इलाज के लिए तीन अलग-अलग निजी अस्पतालों में ले जाया गया. आखिर में उन्हें जिला अस्पताल ले जाया गया. वहां इमरजेंसी में मौजूद डॉक्टर मनोज ने श्रीकेश का चेकअप करके उन्हें मृत घोषित कर दिया. इसके बाद शव को मोर्चरी में भिजवा दिया गया.

अगले दिन यानी 19 नवंबर की सुबह 11 बजे पुलिस लाश का पंचनामा करने जिला अस्पताल पहुंची. रिपोर्ट के मुताबिक उस दौरान श्रीकेश के परिजनों ने देखा की उनकी सांसें चल रही हैं. इस बात को लेकर मोर्चरी में हंगामा मच गया. परिजनों ने तुरंत इस बात की जानकारी अस्पताल के डॉक्टरों को दी. सूचना मिलते ही मोर्चरी में पहुंचे डॉक्टरों ने श्रीकेश का चेकअप कर उनके जिंदा होने की पुष्टि की. इसके बाद फौरन इलाज शुरू किया गया. श्रीकेश की हालत गंभीर होने के कारण डॉक्टरों ने उन्हें मेरठ रेफ़र कर दिया.

मेरठ में चार दिन तक श्रीकेश का इलाज चला. लेकिन उन्हें बचाया नहीं जा सका. बीते मंगलवार को इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई. श्रीकेश कुमार स्थानीय नगर निगम में काम करते थे. न्यूज एजेंसी एएनआई के मुताबिक मुरादाबाद जिला अस्पताल के सीएमएस डॉ शिव सिंह ने बताया,

“कल शाम इलाज के दौरान श्रीकेश का निधन हो गया. स्वास्थ्य विभाग मामले की जांच कर रहा है.”

वहीं श्रीकेश के एक रिश्तेदार किशोरी लाल ने इंडिया टुडे से बातचीत में कहा,

“उस समय (मुरादाबाद जिला अस्पताल में इलाज के दौरान) जो डॉक्टर इमरजेंसी ड्यूटी पर थे, उन्होंने श्रीकेश का चेकअप कर के ये कह दिया कि ना इनकी नब्ज चल रही है ना ही बीपी. उन्होंने कहा कि ये मर चुके हैं.”

किशोरी लाल और परिवार के बाकी लोगों का कहना है कि जिला अस्पताल में इलाज के दौरान ही डॉक्टरों ने लापरवाही बरती थी, जिसकी वजह से श्रीकेश की मौत हो गई.


 वीडियो: मुरादाबाद: मृत घोषित हुए व्यक्ति की मोर्चरी में अचानक सांसें चलने लगीं, तो बवाल मच गया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

ट्रैवल हिस्ट्री नहीं होने के बाद भी डॉक्टर के ओमिक्रॉन से संक्रमित होने पर डॉक्टर्स क्या बोले?

बेंगलुरु में 46 साल के एक डॉक्टर कोरोना के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन से संक्रमित पाए गए हैं.

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

क्या BYJU'S अच्छी शिक्षा देने के नाम पर लोगों को अनचाहा लोन तक दिलवा रही है?

ये रिपोर्ट कान खड़े कर देगी.

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

Jack Dorsey ने Twitter का CEO पद छोड़ा, CTO पराग अग्रवाल को बताया वजह

इस्तीफे में पराग अग्रवाल के लिए क्या-क्या बोले जैक डोर्से?

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

पेपर लीक होने के बाद UPTET परीक्षा रद्द, दोबारा कराने पर सरकार ने ये घोषणा की

UP STF ने 23 संदिग्धों को गिरफ्तार किया.

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

26 नए बिल कौन-कौन से हैं, जिन्हें सरकार इस संसद सत्र में लाने जा रही है

संसद का शीतकालीन सत्र 29 नवंबर से 23 दिसंबर तक चलेगा.

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट के चकाचक निर्माण से लोगों को क्या-क्या मिलने वाला है?

पीएम मोदी ने गुरुवार 25 नवंबर को इस एयरपोर्ट का शिलान्यास किया.

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

कृषि कानून वापस लेने की घोषणा के बाद पंजाब की राजनीति में क्या बवंडर मचने वाला है?

पिछले विधानसभा चुनाव में त्रिकोणीय मुकाबला था, इस बार त्रिकोणीय से बढ़कर होगा.

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

UP पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

कासगंज: पुलिस लॉकअप में अल्ताफ़ की मौत कोई पहला मामला नहीं.

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

कासगंज: हिरासत में मौत पर पुलिस की थ्योरी की पोल इस फोटो ने खोल दी!

पुलिस ने कहा था, 'अल्ताफ ने जैकेट की डोरी को नल में फंसाकर अपना गला घोंटा.'

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये कैसे गिनती हुई कि बस एक साल में भारत में कुपोषित बच्चे 91 प्रतिशत बढ़ गए?

ये ख़बर हमारे देश का एक और सच है.