Submit your post

Follow Us

10 दिन में ऐसा क्या हुआ कि झील का हरा दिखने वाला पानी गुलाबी रंग का हो गया

महाराष्ट्र का बुलढाणा जिला. यहां पर है लोनार झील. फेमस झील है. राष्ट्रीय भू-विरासत है. यानी देश के लिए बेहद ज़रूरी. कई लोग हर साल इसे देखने के लिए जाते हैं. सवाल- हम इस झील की बात क्यों कर रहे हैं?  क्योंकि इस झील के पानी का रंग हरे से अपने-आप गुलाबी हो गया है.

सोशल मीडिया पर इसकी तस्वीरें भयंकर वायरल हो रही हैं. देखने वाले हैरान हैं. क्योंकि 31 मई, 2020 तक इसका पानी हरा दिखता था, लेकिन दस दिन के अंदर ही ये पानी गुलाबी रंग का हो गया.

क्यों हुआ?

कोई सही कारण तो पता नहीं चल पाया है, एक्सपर्ट्स पता लगाने की कोशिश में हैं, लेकिन कुछ अंदाजन कारण ज़रूर सामने आए हैं. लोनार झील संरक्षण और विकास के सदस्य हैं गजानन खरात. उन्होंने PTI को बताया कि झील का पानी काफी खारा है, उसका pH लेवल 10.5 है. इसके अलावा झील में शैवाल/काई भी हैं, हो सकता है कि इनकी वजह से पानी का रंग बदला हो.

वो कहते हैं,

‘झील के पानी की सतह से एक मीटर नीचे जाने पर ऑक्सीजन मौजूद नहीं है. पानी में शैवाल/काई है, खारापन भी काफी ज्यादा है. इनके कारण हो सकता है रंग बदला हो. इस तरह की एक झील ईरान में भी है, जहां पानी में खारापन बढ़ने के कारण उसका रंग लाल हो गया था.’

इसके अलावा खरात ने पानी के लेवल को भी एक कारण बताया. उनके मुताबिक, पिछले कुछ सालों में झील में पानी का लेवल कम हुआ है, और अभी बारिश भी नहीं हुई है, जिससे नया पानी झील में आ सके. वो कहते हैं,

‘हो सकता है कि पानी की मात्रा कम होने से खारापन और बढ़ गया हो और शैवाल/काई के बर्ताव में बदलाव आ गया हो. वातावरण भी बदल रहा है. ये सब रंग बदलने का कारण हो सकते हैं.’

गजानन खरात ने ये भी साफ कहा है कि इसके पहले भी झील के पानी का रंग बदला है, लेकिन ये पहली बार है जब सबसे ज्यादा बदलाव आया.

Lonar Lake
ये तारीख के हिसाब से झील के पानी के रंग के बदलने की प्रक्रिया. ये सेटेलाइट इमेजेस हैं. (क्रेडिट- European Space Agency)

औरंगाबाद में डॉ बाबासाहेब आंबेडकर मराठवाड़ा यूनिवर्सिटी है. इसके भूगोल विभाग के हेड हैं डॉक्टर मदन सूर्यवंशी. उनका कहना है,

‘ये इंसानों की वजह से नहीं हुआ है, क्योंकि लॉकडाउन की वजह से कोई वहां जा भी नहीं रहा है. ये एक प्राकृतिक घटना है. सामान्य तौर पर फंगस पानी को हरा रंग देते हैं. झील का जो रंग बदला है वो जैविक परिवर्तन के कारण हुआ होगा. मौसम के हिसाब से पानी में बदलाव होता रहता है, हो सकता है कि ऐसा ही कुछ लोनार में भी हुआ होगा. हम इस बदलाव को ठीक से तभी पता कर सकते हैं जब हम वहां जाएं.’

लोनार झील करीब 50 हज़ार साल पहले बनी थी, जब धरती की सतह से एक उल्का पिंड टकराया था. इसका व्यास यानी चौड़ाई 1.2 किलोमीटर है.


वीडियो देखें: पैंगोंग झील के पास भारत-चीन सैनिक फिर से लड़ गए हैं

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

WHO ने कोरोना पर राहत देने वाली बात की तो दुनियाभर के वैज्ञानिकों ने कहा, “अरी मोरी मईया!”

पलटकर WHO से ही सबूत मांग रहे हैं लोग.

ज्योतिरादित्य सिंधिया और उनकी मां को हुआ कोरोना इंफेक्शन, दिल्ली के अस्पताल में भर्ती

बीते कुछ दिनों से दोनों की तबीयत खराब थी.

बिहार: अमित शाह ने वर्चुअल रैली में तेजस्वी को घेरा, कहा-लालटेन राज से एलईडी युग में आ गए

तेजस्वी यादव ने रैली पर 144 करोड़ खर्च करने का आरोप लगाया.

गर्भवती ने 13 घंटे तक आठ अस्पतालों के चक्कर लगाए, किसी ने भर्ती नहीं किया, मौत हो गई

महिला की मौत के बाद अब जिला प्रशासन जांच की बात कर रहा है.

दिल्ली के सरकारी और प्राइवेट अस्पतालों में अब सिर्फ दिल्ली वालों का इलाज होगा

दिल्ली के बॉर्डर खोले जाने पर भी हुआ फैसला.

लद्दाख में तनाव: भारत-चीन सेना के कमांडरों की मीटिंग में क्या हुआ, विदेश मंत्रालय ने बताया

6 जून को दोनों देशों के सेना के कमांडरों की मीटिंग करीब 3 घंटे तक चली थी.

पहले से फंसी 69000 शिक्षक भर्ती में अब पता चला, रुमाल से हो रही थी नकल!

शुरू से विवादों में रही 69 हजार शिक्षक भर्ती में जुड़ा एक और विवाद

'निसर्ग' चक्रवात क्या है और ये कितना ख़तरनाक है?

'निसर्ग' नाम का मतलब भी बता रहे हैं.

कोरोना काल में क्रिकेट खेलने वाले मनोज तिवारी ‘आउट’

दिल्ली में हार के बाद बीजेपी का पहला बड़ा फैसला.

1 जून से लॉकडाउन को लेकर क्या नियम हैं? जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब

सरकार ने कहा कि यह 'अनलॉक' करने का पहला कदम है.