Submit your post

Follow Us

उद्धव ठाकरे ही होंगे सीएम, शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस की सरकार बनेगी!

5
शेयर्स

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर पिछले एक महीने से बातें हो रही हैं. 22 नवंबर को भी बातें हुईं. तीनों पार्टियों शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के बीच लंबी बातचीत चली, लेकिन ये किसी नतीजे पर नहीं पहुंच पाई. अब पार्टियों का कहना है कि शनिवार यानी 23 नवंबर को भी बातचीत जारी रहेगी. हालांकि बैठक के बाद एनसीपी चीफ शरद पवार ने ये जरूर कहा कि तीनों पार्टियां उद्धव ठाकरे को सीएम बनाने पर सहमत हैं. शनिवार को साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस कर तीनों पार्टियां औपचारिक ऐलान करेंगी.

कांग्रेस और एनसीपी की साझा प्रेस कॉन्फ्रेंस में ये बात साफ नहीं हो पाई कि महाराष्ट्र के अगले मुख्यमंत्री को लेकर क्या सहमति बनी. कांग्रेस के सीनियर नेता पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि तीनों पार्टियों की संयुक्त बैठक हुई. इसमें सीनियर नेता शामिल हुए. तीनों पार्टियों ने सरकार बनाने के लिए सभी मुद्दों पर सकारात्मक चर्चा की लेकिन बातचीत अभी पूरी नहीं हुई है. शनिवार को भी बातचीत जारी रहेगी. प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान पत्रकारों ने शरद पवार के बयान का जिक्र किया. सीएम कौन होगा. इस बारे में सवाल पूछा. इस पर पृथ्वीराज चव्हाण ने कहा कि शरद पवार ने कुछ कहा है तो आपने सुना है, वह रिकॉर्ड में है. जब सभी मुद्दों पर पूरी चर्चा हो जाएगी तब हम मीडिया को जानकारी देंगे. दूसरी ओर कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा कि एक साथ सबकुछ बताएंगे. एनसीपी नेता प्रफुल्ल पटेल ने कहा है कि कुछ मुद्दों पर सहमति होना अभी बाकी है.

इससे पहले केंद्रीय मंत्री और पूर्व बीजेपी अध्यक्ष नितिन गडकरी ने बड़ा बयान दिया था. गडकरी ने कहा था कि अगर शिवसेना-एनसीपी-कांग्रेस की सरकार बन भी जाती है तो ज्यादा लंबे समय तक चल नहीं पाएगी.


बता दें कि महाराष्ट्र में इस समय राष्ट्रपति शासन लागू है. यहां 21 अक्टूबर को चुनाव हुए थे. नतीजे 24 अक्टूबर को आए थे. इसके बाद तीनों पार्टियों बीजेपी, शिवसेना और एनसीपी को सरकार बनाने का निमंत्रण मिला था लेकिन कोई भी सरकार बनाने में कामयाब नहीं हो पाया. इसके बाद राज्यपाल ने 12 नवंबर को राज्य में राष्ट्रपति शासन लगा दिया था.


जब भारत की संसद में लोकसभा है तो राज्यसभा की जरूरत क्यों पड़ी?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

5 जनवरी की रात तीन बजे तक JNU कैम्पस में क्या-क्या हुआ?

जेएनयू कैम्पस में 5 जनवरी को नकाबपोशों ने स्टूडेंट्स और टीचर्स पर हमला किया.

2015 और इस बार के दिल्ली विधानसभा चुनाव में क्या अंतर है?

चुनाव के नतीजे 11 फरवरी को आएंगे.

JNU छात्रों पर हमले के बाद VC एम जगदीश कुमार क्या बोले?

नकाबपोश गुंडों ने कैंपस में मारपीट की थी.

जानिए, 5 जनवरी की दोपहर और शाम JNU कैंपस में क्या हुआ?

दो-तीन दिनों से कैंपस में तनाव था. अगले सेमेस्टर के रजिस्ट्रेशन पर स्टूडेंट्स में झड़पों की भी ख़बरें आईं थीं.

कोर्ट के आदेश के बाद वो 3 मौके, जब योगी सरकार ने 'दंगाइयों' से जुर्माना नहीं वसूला

और सवाल उठ रहे कि इस बार ही क्यों?

मोदी के जिस ड्रीम प्रोजेक्ट पर सरकार ने करोड़ों खर्च किये वो फ्लॉप हो गया

इसके प्रचार के लिए सरकार ने जगह-जगह बड़े-बड़े होर्डिंग्स लगवाए थे.

नए साल की पहली खुशखबरी आ गई, रेलवे का किराया बढ़ गया

सेकंड क्लास, स्लीपर, फ़र्स्ट क्लास, एसी सबका किराया बढ़ा है रे फैज़ल...

CAA Protest : यूपी पुलिस की कार्रवाई पर सवाल उठाने वालों को पुलिस ने क्यों ब्लॉक किया?

यूपी पुलिस की इस कार्रवाई का क्या मतलब है?

जिस अधिकारी पर प्रियंका गांधी ने गला दबाने का आरोप लगाया उसने क्या कहा है

भाई की मौत की खबर मिलने के बाद भी ड्यूटी पर तैनात थीं अफसर.

प्रियंका गांधी का UP पुलिस पर बड़ा आरोप, 'मुझे घेरा और मेरा गला दबाया'

लखनऊ दौरे पर हैं प्रियंका गांधी.