Submit your post

Follow Us

नरेंद्र गिरि ने सुसाइड नोट में लिखा, 'लड़की संग फोटो वायरल करेगा आनंद गिरि'

अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि (Mahant Narendra Giri) का कथित सुसाइड नोट सामने आ गया है. सोमवार 20 सितंबर को नरेंद्र गिरि की मौत की खबर आने के बाद से ही इस सुसाइड नोट की काफी चर्चा है. वैसे तो मीडिया रिपोर्टों में इस सुसाइड नोट के हवाले से काफी कुछ बताया जा चुका है. लेकिन ये साफ नहीं हो पा रहा था कि आखिर मजबूत व्यक्तित्व के महंत नरेंद्र गिरि ने किस वजह से आत्महत्या जैसा कदम उठाया. वो कौन सी बात थी जिसका कथित रूप से इस्तेमाल कर आनंद गिरि ने अपने गुरु को इतना ब्लैकमेल कर दिया कि उन्होंने अपना जीवन ही समाप्त करने का निर्णय ले लिया. आजतक/इंडिया टुडे की रिपोर्ट के मुताबिक, वो बात इस कथित सुसाइड नोट के सामने आने से पता चली है.

क्या है सुसाइड नोट में?

ये सुसाइड नोट अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के लेटरहेड पर लिखा गया है. आजतक की रिपोर्ट के मुताबिक, इसमें लिखा है कि नरेंद्र गिरि, आनंद गिरि के कारण विचलित थे. क्योंकि उन्हें हरिद्वार से सूचना मिली थी कि एक-दो दिन में आनंद गिरि मोबाइल के माध्यम से एक फोटो वायरल करने वाला है. इंडिया टुडे के मुताबिक, कथित सुसाइड नोट में नरेंद्र गिरि ने लिखा कि कंप्यूटर की मदद से बनाई गई इस फोटो में उन्हें किसी लड़की के साथ गलत काम करते हुए दिखाया जाएगा. उन्होंने लेटर में लिखा है कि अगर फोटो वायरल हो गया तो वे कहां-कहां सफाई देते फिरेंगे. महंत ने लिखा कि उन्हें बदनामी का डर था. वे जिस सम्मान के साथ जीते रहे हैं, बदनामी के बाद उस सम्मान के साथ नहीं जी पाएंगे. इसलिए आत्महत्या का कदम उठा रहे हैं.

नरेंद्र गिरि ने लिखा,

‘आनंद गिरि कहता है कि (तस्वीर वायरल होने के बाद) आप कितनी सफाई देंगे. इस बात ने मुझे परेशान कर दिया है.’

नोट में नरेंद्र गिरि ने अपनी मौत के लिए आनंद गिरि और दो अन्य संतों अद्या प्रसाद तिवारी और संदीप तिवारी को जिम्मेदार ठहराया है. ये दोनों पिता-पुत्र हैं. इसके अलावा, सुसाइड नोट में नरेंद्र गिरि ने प्रयागराज के पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों से अनुरोध किया है कि वे उनकी मौत के जिम्मेदार लोगों पर कार्रवाई करें, जिससे उनकी आत्मा को शांति मिल सके. उन्होंने ये भी लिखा है कि वे 13 सितंबर 2021 को ही ऐसा कदम उठाने जा रहे थे, लेकिन हिम्मत नहीं कर पाए.

उत्तराधिकारी के बारे में क्या लिखा है?

नोट में  नरेंद्र गिरि ने अपना उत्तराधिकारी बलवीर गिरि को बनाए जाने की बात कही है. उन्होंने अखाड़े के सभी पदाधिकारियों से कहा है कि वे बलबीर से सहयोग करें.

बलवीर गिरि इस समय निरंजनी अखाड़े के उपमहंत हैं. वो हरिद्वार स्थित बिल्केश्वर महादेव मंदिर की व्यवस्था का संचालन करते हैं और जिम्मेदार पद पर हैं. महंत नरेंद्र गिरि ने 10 साल पहले एक वसीयत तैयार की थी और उसे आनंद गिरि के नाम कर दिया था. लेकिन शिष्य से नाराजगी के बाद उन्होंने वो वसीयत रद्द कर दी थी. बाद में अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष ने बलवीर गिरि के नाम वसीयत कर दी थी. बलवीर गिरि उत्तराखंड के रहने वाले हैं. वो 2005 में संत बने थे और 2019 से बिल्केश्वर महादेव मंदिर की व्यवस्था देख रहे हैं.

देखना होगा कि अखाड़े के तमाम सदस्य और पदाधिकारी बलवीर गिरि को अपना महंत चुनेंगे या इस पर आने वाले दिनों में कोई नया विवाद पैदा होगा.


नरेंद्र गिरि के कथित आत्महत्या मामले में SP, BSP और कांग्रेस ने योगी सरकार से क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

यूपी पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

यूपी पुलिस मतलब जान का खतरा? ये केस पढ़ लिए तो सवाल की वजह जान जाएंगे

मनीष गुप्ता हत्याकांड यूपी पुलिस के दामन पर लगा अकेला दाग नहीं है.

इस्तीफे के बाद सिद्धू ने पंजाबी में नाराज़गी की जो वजह बताई, हिंदी में जानिए

इस्तीफे के बाद सिद्धू ने पंजाबी में नाराज़गी की जो वजह बताई, हिंदी में जानिए

दाग़ी नेताओं और दाग़ी अफसरों की नियुक्तियों से नाराज़ हैं सिद्धू.

यूपी: रामलीला में बरसों से राम का किरदार निभा रहे मुस्लिम युवक का आरोप, मिल रही हैं धमकियां

यूपी: रामलीला में बरसों से राम का किरदार निभा रहे मुस्लिम युवक का आरोप, मिल रही हैं धमकियां

"तू भगवान राम का किरदार निभाना बंद कर दे वर्ना हम तेरे साथ कुछ भी कर सकते हैं."

सिद्धू के इस्तीफे के तुरंत बाद पंजाब के सीएम चन्नी ने पीसी की, कही ये बड़ी बात

सिद्धू के इस्तीफे के तुरंत बाद पंजाब के सीएम चन्नी ने पीसी की, कही ये बड़ी बात

सिद्धू के इस्तीफे पर बाकी दलों ने किस तरह प्रतिक्रिया दी?

सिद्धू ने पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा, सीएम चन्नी से नाराजगी बनी वजह?

सिद्धू ने पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष पद से दिया इस्तीफा, सीएम चन्नी से नाराजगी बनी वजह?

सिद्धू के इस्तीफे की असली वजह ये तो नहीं?

उत्तराखंड : मोदी सरकार के आश्वासन के बाद फिर से आमरण अनशन पर क्यों बैठ गए हैं आत्मबोधानंद?

उत्तराखंड : मोदी सरकार के आश्वासन के बाद फिर से आमरण अनशन पर क्यों बैठ गए हैं आत्मबोधानंद?

संतों की मौत, टूटते पहाड़ और गंगा बचाने की जुगत.

UP: योगी कैबिनेट में नए-नए मंत्री बने इन 7 चेहरों के बारे में जानिए

UP: योगी कैबिनेट में नए-नए मंत्री बने इन 7 चेहरों के बारे में जानिए

चुनाव से पहले योगी का कैबिनेट विस्तार.

सिनेमा प्रेमियों के लिए पिछले डेढ़ साल की सबसे बड़ी अनाउंसमेंट हो गई है!

सिनेमा प्रेमियों के लिए पिछले डेढ़ साल की सबसे बड़ी अनाउंसमेंट हो गई है!

अक्षय कुमार ने ट्वीट करके ख़बर दी.

कोर्ट के अंदर गैंगवॉर, ताबड़तोड़ फ़ायरिंग में अपराधी जितेंद्र गोगी की मौत

कोर्ट के अंदर गैंगवॉर, ताबड़तोड़ फ़ायरिंग में अपराधी जितेंद्र गोगी की मौत

दोनों हमलावरों को भी मौके पर ही मार गिराया गया.

असम में बॉडी के ऊपर कूदता रहा 'कैमरामैन', पुलिस के अतिक्रमण हटवाने में 2 की मौत

असम में बॉडी के ऊपर कूदता रहा 'कैमरामैन', पुलिस के अतिक्रमण हटवाने में 2 की मौत

असम के दरांग में हुई इस हिंसा के दृश्य विचलित करने वाले हैं.