Submit your post

Follow Us

BJP विधायक ने मज़दूरों के लिए सोनू सूद से मदद मांगी, फिर जमकर बवाल हुआ

एक्टर सोनू सूद. मुंबई में फंसे प्रवासी मज़दूरों की जी-जान लगाकर मदद कर रहे हैं. बसों-हवाई जहाजों से उन्हें उनके घर पहुंचा रहे हैं. सोनू के काम का इफेक्ट ऐसा हुआ कि राजनेता भी उनसे मदद मांगने लगे हैं. मध्य प्रदेश के रीवा से BJP विधायक हैं राजेंद्र शुक्ल. उन्होंने भी ट्वीट कर सोनू से हेल्प मांगी.

1 जून को विधायक जी ने एक लंबी-चौड़ी लिस्ट पोस्ट की. सोनू को बताया कि ये लिस्ट रीवा और सतना में रहने वाले ऐसे लोगों की है, जो इस वक्त मुंबई में फंसे हुए हैं. लिखा,

‘सोनू सूद जी ये रीवा/सतना मध्य प्रदेश निवासी काफी दिनों से मुम्बई में फंसे हुए हैं और अभी तक वापस नहीं पहुंच पाए हैं. कृपया इनको वापस लाने मे हमारी मदद करें.’

इस पर सोनू ने जवाब भी दिया. लिखा,

‘सर, अब कोई भाई कहीं नहीं फंसेगा. आपके प्रवासी भाई कल आपके पास भेज देंगे सर. कभी MP आया तो पोहा ज़रूर खिलाना.’

इस ट्वीट के बाद राजेंद्र शुक्ल ने लिखा,

‘धन्यवाद सोन सूद जी. विंध्य की पावन भूमि में आपका हमेशा स्वागत है. मुंबई में अभी बचे हुए 168 में से करीब 55 लोगों को भिजवा दिया गया है, करीब 113 लोग बचे हुए हैं जिन्हें सकुशलता से भिजवाने के लिए मैं आपको अग्रिम धन्यवाद व भविष्य के लिए शुभकामनाएं देता हूं.’

ये तो थी इन सोनू और राजेंद्र के बीच हुई बातचीत. अब इसे लेकर बवाल भी शुरू हो गया है. मध्य प्रदेश कांग्रेस के पूर्व प्रेसिडेंट, पूर्व लोक सभा सांसद अरुण यादव ने ट्वीट किया. लिखा,

‘MP की कड़वी सच्चाई को उजागर करता राजेंद्र शुक्ल जी का ये ट्वीट. शिवराज जी देख लीजिए पूर्व मंत्री एवं वर्तमान रीवा से भाजपा विधायक को आपकी सरकार पर भरोसा नहीं रहा, तो उन्हें मुंबई में फंसे प्रवासी मज़दूरों के लिए मज़बूरी में एक्टर सोनू सूद से मदद लेनी पड़ रही है. #शर्मराज.’

फिर बीजेपी विधायक ने भी जवाब दिया

कांग्रेस को आक्रामक होता देख राजेंद्र शुक्ल ने ट्विटर पर उनकी सरकार का गुणगान करना शुरू कर दिया. दो ट्वीट किए और बताया कि प्रवासियों के लिए सरकार ने कितना काम किया है. लिखा,

‘मेरे अकर्मण्य काग्रेसी मित्रों, रीवा मे पिछले तीन हफ्तों में 45 श्रमिक ट्रेन, 42 हज़ार से ज्यादा लोगों को वापस ला चुकी हैं. इसके अलावा 1500 बसों से 75 हज़ार विन्ध्य वासियों को देश व प्रदेश के विभिन्न हिस्सों से लाया गया है. ये केंद्र व प्रदेश सरकार के सहयोग एवं समन्वय से ही संभव हुआ है. कोरोना में घरों में छिपे कांग्रेसियों को पता ही नहीं कि लाखों विन्ध्यवासी केन्द्र/प्रदेश सरकार के सहयोग से वापस आ चुके हैं. विगत 2 माह मे देश के विभिन्न हिस्सों में फंसे हुए लोगों तक बीजेपी संगठन, समाजसेवी व निजी संबंधों से लगातार राशन, चिकित्सा, आर्थिक सहायता का इंतजाम किया गया है.’

Rajendra
राजेंद्र शुक्ल का कांग्रेस नेता को जवाब.

बेसिकली ट्वीट वॉर चालू हो गया है. नज़र बनाए रखिए.

देखिये भारत में कोरोना कहां-कहां और कितना फैल गया है.


वीडियो देखें: कोरोना सफ़र: सोनू सूद ने खुद पर बन रहे मीम्स पर क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

टॉप खबर

कोरोना काल में क्रिकेट खेलने वाले मनोज तिवारी ‘आउट’

दिल्ली में हार के बाद बीजेपी का पहला बड़ा फैसला.

1 जून से लॉकडाउन को लेकर क्या नियम हैं? जानिए इससे जुड़े सवालों के जवाब

सरकार ने कहा कि यह 'अनलॉक' करने का पहला कदम है.

3740 श्रमिक ट्रेनों में से 40 प्रतिशत ट्रेनें लेट रहीं, रेलवे ने बताई वजह

औसतन एक श्रमिक ट्रेन 8 घंटे लेट हुई.

कंटेनमेंट ज़ोन में लॉकडाउन 30 जून तक बढ़ाया गया, बाकी इलाकों में छूट की गाइडलाइंस जानें

गृह मंत्रालय ने कंटेनमेंट ज़ोन के बाहर चरणबद्ध छूट को लेकर गाइडलाइंस जारी की हैं.

मशहूर एस्ट्रोलॉजर बेजान दारूवाला नहीं रहे, कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी

बेटे ने कहा- निमोनिया और ऑक्सीजन की कमी से हुई मौत.

लॉकडाउन-5 को लेकर किस तरह के प्रपोज़ल सामने आ रहे हैं?

कई मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया है कि 31 मई के बाद लॉकडाउन बढ़ सकता है.

क्या जम्मू-कश्मीर में फिर से पुलवामा जैसा अटैक करने की तैयारी में थे आतंकी?

सिक्योरिटी फोर्स ने कैसे एक्शन लिया? कितना विस्फोटक मिला?

लद्दाख में भारत और चीन के बीच डोकलाम जैसे हालात हैं?

18 दिनों से भारत और चीन की फौज़ आमने-सामने हैं.

शादी और त्योहार से जुड़ी झारखंड की 5000 साल पुरानी इस चित्रकला को बड़ी पहचान मिली है

जानिए क्या खास है इस कला में.

जिस मंदिर के पास हजारों करोड़ रुपये हैं, उसके 50 प्रॉपर्टी बेचने के फैसले पर हंगामा क्यों हो गया

साल 2019 में इस मंदिर के 12 हजार करोड़ रुपये बैंकों में जमा थे.