Submit your post

Follow Us

प. बंगाल: विश्व भारती यूनिवर्सिटी में जबरदस्त हंगामा, उपद्रवियों ने ऐतिहासिक ढांचे भी ढहाए

पश्चिम बंगाल का शांति निकेतन शहर. यहां पब्लिक रिसर्च सेंट्रल यूनिवर्सिटी है- विश्व भारती. खबरों में है, क्योंकि यहां भयंकर हंगामा हुआ है. यहां के एक फेमस मेले ग्राउंड के चारों तरफ दीवार खड़ी की जा रही थी. इसी का विरोध करने के लिए करीब तीन हज़ार लोग इकट्ठा हो गए और उन्होंने निर्माण सामग्री को फेंकना शुरू कर दिया. तोड़-फोड़ करके हंगामा खड़ा कर दिया. इस दौरान ऐतिहासिक ढांचों को भी नुकसान पहुंचा है.

पूरा मामला क्या है

‘इंडिया टुडे’ से जुड़े भास्कर मुखर्जी की रिपोर्ट के मुताबिक, पौष मेला हर साल पौष के महीने में आयोजित होता है. पर इस साल विश्व भारती प्रशासन ने इस मेले को बंद करने का फैसला किया. इसी के चलते ग्राउंड के चारों तरफ दीवार खड़ी की जा रही थी. आस-पास परिसर के निर्माण के लिए 61 लाख रुपये मंजूर भी किए गए थे. खैर, विरोध प्रदर्शन के दौरान लोगों ने कुछ ऐतिहासिक ढांचों को भी नुकसान पहुंचाया. निर्माण स्थिल के पास रखा जनरेटर, सीमेंट की बोरियां, ईंट जैसे तमाम सामान लोगों ने उठाकर फेंक दिए. वहां रखी जेसीबी मशीन को भी तोड़ दिया. जितनी भी दीवार बनकर तैयार थी, उसे भी तोड़-ताड़कर बराबर कर दिया.

विरोध क्यों

बता दें कि इस दीवार का निर्माण पिछले सप्ताह से ही शुरू हो गया था. यूनिवर्सिटी परिसर में बाहर से आने वाले लोगों को रोकने के लिए दीवार बनाई जा रही थी. करीब 100 बीघा में ये मैदान फैला है. सार्वजनिक कामों के लिए कुछ प्रतिबंधों के साथ सभी के लिए खुला रहता है. यहां आने के लिए किसी को मनाही नहीं है. स्थानीय लोग सुबह की सैर के लिए इस ग्राउंड का इस्तेमाल करते हैं, पर दीवार खड़ी होने से लोग ऐसा नहीं कर पाएंगे.

नेता क्या कह रहे हैं

इस मामले में पश्चिम बंगाल के राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने भी ट्वीट किया और घटना पर संज्ञान लिया. उन्होंने लिखा-

विश्व भारती में कानून-व्यवस्था की स्थिति चिंताजनक है. विश्व भारती में बिगड़ती कानून-व्यवस्था पर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से बात की. उन्होंने आश्वासन दिया है कि प्रशासन कानून और व्यवस्था को बहाल करने के लिए सभी कदम उठाएगा.

इस मामले में व्यापारिक संगठन के नेता सुब्रत भगत का कहना है कि शांति निकेतन की विरासत को रवीन्द्रनाथ टैगोर ने बनाया था, उसे कुलपति नष्ट करना चाहते हैं. सुब्रत ने आरोप लगाया कि कुलपति बसंत उत्सव और पौष मेले को पहले भी कई बार बंद करना चाहते थे, पर दबाव के चलते फेल हो गए. उनका कहना है कि अगर कुलपति दोबारा से विरासत को नुकसान पहुंचाएंगे, तो वो फिर से इसके खिलाफ लड़ेंगे.

वहीं, दुबराजपुर के विधायक नरेश चंद्र ने कहा कि हर पांच साल में कुलपति आते हैं और जाते हैं, पर जैसा इन्होंने किया, वैसा किसी ने पहले नहीं किया था. उनका कहना है कि इस जमीन पर दीवार बनाने का मतलब क्या है? अगर काम जारी रहेगा, तो फिर विरोध करेंगे.

मेला बंद क्यों हो रहा

पौष मेला हर साल दिसंबर में करीब तीन दिन का होता था. स्थानीय कारीगर सालभर सामान बनाते और मेले में लाकर बेचते थे. लाखों की संख्या में लोग मेले में शामिल होते थे. पर यूनिवर्सिटी प्रशासन ने हाल ही में बताया था कि इस मेले से उन्हें कई परेशानी हो रही है. यूनिवर्सिटी की रैंकिंग गिर रही है. वहीं, वेंडर्स भी गाइडलाइन्स फॉलो नहीं करते हैं. यूनिवर्सिटी को लाखों का जुर्माना तक भरना पड़ा है. प्रशासन का कहना था कि पिछले दो साल के खराब अनुभव के चलते ये मेला इस साल नहीं लगेगा. साथ ही होली पर लगने होने वाला बसंत उत्सव भी रद्द किया जाएगा.


 वीडियो देखें : बंगाल के राज्यपाल बोले- कोलकाता में राजभवन की निगरानी की जा रही है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्या चल रहा है?

राजस्थान हाईकोर्ट चीफ़ जस्टिस की तीन दिन में छह कोरोना जांच, सच अब भी पता नहीं

छह रिपोर्ट्स में पॉज़िटिव और नेगेटिव दोनों नतीजे हैं.

अलीगढ़ की इस BJP नेता पर आरोप- मुस्लिम लड़कियों का धर्म बदलवाकर जबरन शादी करवा रही हैं

नेता ने कहा, 'आरोप सच निकले तो UP छोड़ दूंगी.'

धोनी रिटायर हुए तो ट्विटर पर लाल कृष्ण आडवाणी का नाम क्यों ट्रेंड करने लगा?

लोगों ने अपना-अपना पाला चुना और फिर शुरू हुआ घमासान.

साउथैम्पटन में इंग्लैंड-पाकिस्तान का मैच कम, खिलवाड़ ज़्यादा हो रहा है!

बारिश ने इंग्लैंड-पाकिस्तान का काम खराब कर दिया!

बिहार: RJD ने अपने तीन विधायकों को पार्टी से क्यों निकाल दिया?

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले लालू और नीतीश की पार्टियों में हलचल हो रही है.

कपिल और धोनी की तुलना करते वक्त गावस्कर ने कमाल की बात कह दी

दो वर्ल्ड कप विनर्स पर विस्तार से बतियाए सनी.

गुंजन सक्सेना के साथ एयरफोर्स में काम कर चुकी पायलट ने फिल्म बनाने वालों को खूब सुनाया

'गुंजन सक्सेना: दी कारगिल गर्ल' की कुछ बातों को लेकर सवाल उठाए हैं.

पूर्व क्रिकेटर और यूपी सरकार में मंत्री चेतन चौहान का निधन, किडनी हो गई थी फेल

जुलाई महीने में कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे.

एमएस धोनी ने 15 अगस्त को ही संन्यास क्यों लिया, पता चल गया

पर शाम के सात बजकर 29 मिनट पर ही क्यों?

पश्चिम बंगाल के राज्यपाल ने कहा-राजभवन को सर्विलांस पर रखा जा रहा है

राज्यपाल जगदीप धनखड़ और ममता बनर्जी में फिर तनातनी.